विज्ञापन
Story ProgressBack

कैसे आगे बढ़ेगा भारत? जब बच्चों को पढ़ने के लिए सुरक्षित बिल्डिंग ही नहीं मिल पा रही...

शिक्षा अधिकारी का कहना है कि बहुत सारी जगह सरकारी भवन नहीं बन सके हैं. अधिकारी कहते हैं स्कूल भवनों के लिए राशि स्वीकृत हो गई है. जल्द ही भवन निर्माण कराया जाएगा.

Read Time: 3 mins
कैसे आगे बढ़ेगा भारत? जब बच्चों को पढ़ने के लिए सुरक्षित बिल्डिंग ही नहीं मिल पा रही...
स्कूलों की हालत खराब दिख रही है

Madhya Pradesh  News: मध्य प्रदेश में करोड़ो रूपए खर्च करके 'स्कूल चले हम'अभियान चलाया जा रहा है पर यह अभियान जमीनी स्तर पर कितना कारगर साबित हो रहा है इसका जीता जागता नमूना प्रदेश का विदिशा जिला है. जिले भर में शिक्षा का स्तर दिन प्रतिदिन गिरता ही जा रहा है. जिले भर के सैंकड़ों सरकारी स्कूल के भवन जर्जर हो गए हैं. कई जगह स्कूल किसी के भवन में चल रहे हैं तो कहीं खुले आसमान के नीचे क्लास लग रही हैं. इतना ही नहीं हालात यह हैं कि सरकारी स्कूल में पढ़ने चौथी पांचवीं क्लास के बच्चे आज भी देश -प्रदेश की राजधानी का नाम नहीं जानते. 

शिक्षिका के घर में पढ़ते हैं बच्चे

ग्यारसपुर जनपद शिक्षा केंद्र के अंतर्गत आने वाला संकुल हैदरगढ़ के जहीदगंज प्राइमरीशाला का भवन बना तो है लेकिन पूरी तरह जर्जर हालात में तब्दील हो चुका है. यहां के बच्चे एक शिक्षिका के घर में पढ़ाई करते हैं यह स्कूल करीब चार साल से इसी तरह लग रहा है.

स्कूल के प्रभारी राम सिंह विश्वकर्मा ने बताया कि स्कूल का भवन जर्जर हो चुका है. मोटी -मोटी दरारें साफ दिख रही हैं.  इसकी सूचना संकुल केंद्र प्रभारी को भी है और बीआरसी कार्यालय में भी जानकारी दे दी गई है. चार साल से इसी तरह स्कूल लग रहा है. गांव के स्कूल के पढ़ने वाले बच्चे भी बताते हैं शिक्षिका के घर में पढ़ते हुए उन्हें चार साल हो गए लेकिन आज तक स्कूल का भवन नही बन पाया है.

बारिश के दिनों में हालात हो जाते हैं खराब

NDTV की टीम माधवगंज क्रमांक 2 सरकारी स्कूल में पहुंची तो गांव और शहर के हालात एक जैसे ही नजर आए. यहां पढ़ाने वाले टीचर अपने उच्च अधिकारियों को स्कूल भवन के बारे में बता चुके हैं लेकिन समस्या का कोई हल नहीं निकला. टीचर रुकमणी बताती हैं कि बारिश के दिनों में स्कूल में बाड़ जैसे हालात बन जाते हैं. स्कूल की छत टपकती है एक नही बच्चों को कई परेशानी का सामना करना पड़ता है. 

ये भी पढ़ें रेलवे ने कैटरिंग के ठेकेदार पर लगाया 45 हजार का जुर्माना, खाने में कॉकरोच मिलने के बाद हुई कार्रवाई

शिक्षा अधिकारी का कहना है कि बहुत सारी जगह सरकारी भवन नहीं बन सके हैं. अधिकारी कहते हैं स्कूल भवनों के लिए राशि स्वीकृत हो गई है. जल्द ही भवन निर्माण कराया जाएगा.

जब स्कूल भवन की समस्या से निकलकर हमने सरकारी स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों की नब्ज टटोलने की कोशिश की तो हैरान करने वाली जानकारी सामने आई.  चौथी - पांचवीं में पढ़ने वाले बच्चों को z से जेबरा की स्पेलिंग भी नहीं मालूम. देश प्रदेश की राजधानी का नाम नहीं मालूम. 

ये भी पढ़ें नगर निगम के कर्मचारी ने किया बड़ा घपला, पैसे लेकर बेच दिए 14 फ्लैट...नोटिस आने के बाद हुआ खुलासा

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Madhya Pradesh: पीडब्लूडी मंत्री राकेश सिंह ने किया बड़ा दावा, कहा-बिना किसी नए टैक्स के प्रदेश बजट का आकार बढ़ा
कैसे आगे बढ़ेगा भारत? जब बच्चों को पढ़ने के लिए सुरक्षित बिल्डिंग ही नहीं मिल पा रही...
Madrasa will be closed in MP CM Mohan Yadav gave big hints
Next Article
'चिंता मत करो...' MP में बंद होंगे मदरसे? सीएम मोहन यादव ने दिए बड़े संकेत
Close
;