विज्ञापन
Story ProgressBack

एमपी गजब है! भोपाल में वोटर्स को प्रशासन ने थमाया नकली डायमंड रिंग...फजीहत हुई तो दिया असली हीरा

एमपी अजब है...एमपी गजब है. कुछ ऐसा ही हुआ थर्ड फेज की वोटिंग के दौरान. भोपाल जिला प्रशासन ने 7 मई को वोटिंग के दौरान भाग्यशाली मतदाताओं को इनाम में हीरे की अंगुठी देने का वादा किया था. लेकिन जब वो अंगूठियां दी गईं तो वो नकली निकली...बाद में फजीहत होने के बाद जिला प्रशासन ने अपनी गलती सुधारी..जानिए कैसे?

Read Time: 5 mins
एमपी गजब है! भोपाल में वोटर्स को प्रशासन ने थमाया नकली डायमंड रिंग...फजीहत हुई तो दिया असली हीरा

Bhopal Lok Sabha Elections 2024: वोटर्स वोट दो...इनाम में डायमंड रिंग लो....यही वो मुनादी है जो लोकसभा चुनाव के थर्ड फेज (Lok Sabha elections 3rd phase voting)में वोटिंग परसेंटेज बढ़ाने के लिए भोपाल प्रशासन (Bhopal Administration)करवा रहा था.ज्यादा से ज्यादा संख्या में वोटर्स आएं और वोट करें इसके लिए प्रशासन ने ये ओपन ऑफर दिया था. वोटिंग के दिन प्रशासन ने बकायदा लकी ड्रॉ भी किया. जिसमें भोपाल संसदीय सीट के 4 मतदाता भाग्यशाली निकलें और उन्हें प्रशासन की ओर से डायमंड रिंग का गिफ्ट मिला. हालांकि कहा जाता है न एपमी अजब है...एमपी गजब है. हुआ भी कुछ ऐसा ही ये अंगूठियां नकली निकलीं. चारों भाग्यशाली विजेताओं जिसमें दो पुरुष और दो महिलाएं शामिल थीं ने इसकी जांच कराई तो ये अंगूठियां अमेरिकन डायमंड निकलीं. इसके बाद बवाल मचा और जिला प्रशासन की खूब फजीहत हुई. अब गुरुवार को जिला प्रशासन ने अपनी गलती कैसे सुधारी ये हम आपको आगे बताएंगे पहले नकली हीरे की पूरी कहानी को जान लेते हैं. 

मतदान प्रतिशत बढ़ाने की कवायद में धोखा !

दरअसल भोपाल में 7 मई को तीसरे चरण की वोटिंग हुई. इसी दौरान स्थानीय प्रशासन ने  वोटिंग परसेंटेज बढ़ाने के लिए कई तरह के प्रयास किए. इसी में से एक था लकी ड्रा का ऑफर. जिसमें हीरे की अंगुठी देने की बात कही गई थी. बताया जा रहा है कि जिला प्रशासन ने व्यापारी संघ के साथ मिलकर तय किया था कि लोगों को मतदान के प्रति जागरूक करने के लिए डायमंड रिंग का उपहार देंगे. प्रशासन ने वोटिंग के दिन शाम से पहले ही बकायदा लकी ड्रा किया और चार लोगों को पूरे तामझाम के साथ इनाम में अंगूठी भी सौंपी.  विजेताओं को जो अंगूठियां मिली थीं, वह लकी जूलर्स बैरागढ़ के डिब्बे में आई थीं. इसके बाद जब विजेताओं ने अंगूठी की जांच कराई तो पता चला कि ये तो नकली है.
 

मैंने हमीदिया कॉलेज बूथ पर वोट डाला था .बूथ पर वोट डालने के बाद मेरे पिता ने मेरा नाम लकी ड्रॉ में लिखवाया. एक घंटे बाद हमें जब कॉल आया तो हमें भरोसा नहीं हुआ हालांकि उस समय रिंग दे दी गई. बाद में पता चला वो नकली है. आज अचानक जिला प्रशासन की टीम आयी और जो पहले रिंग मिली थी वो वापस ले गयी और अब दूसरा रिंग देकर गई है. टीम ने कहा कि पहली रिंग के साथ सर्टिफ़िकेट नहीं दिया गया था इसलिए नई रिंग के साथ सर्टिफ़िकेट दिया जा रहा है.

अयान खान

लकी ड्रॉ विनर

अब जरा लकी जूलर्स के मालिक महेश ददलानी की बात भी सुन लीजिए. वे कहते हैं कि उन्होंने ने तो कभी हीरे का बिजनेस किया ही नहीं है.

मैं तो हीरे का बिज़नेस करता ही नहीं हूं .ये मेरी अंगूठियां नहीं थीं. यह बॉक्स कपड़ा व्यापारी संघ के पूर्व अध्यक्ष अध्यक्ष वासुदेव वाधवानी ने जिला प्रशासन को दिया था. मेरा इससे कोई लेना-देना नहीं है. जिला प्रशासन ने ही बंपर ड्रॉ के विजेताओं को नकली हीरे की अंगूठियां दी हैं,मुझसे सिर्फ डब्बे मांगे गए जो मैंने दे दिए.

महेश ददलानी

व्यापारी ,लकी ज्वेलर्स 

NDTV की पड़ताल में नकली हीरे की असली कहानी सामने आई. भोपाल कपड़ा व्यापरी संघ के पूर्व अध्यक्ष वासुदेव वाधवानी ने बताया कि कलेक्टर ने भोपाल चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज की बैठक बुलाई थी और हमें उपहार में वस्तुएं प्रदान करने के लिए कहा था, जिन्हें लॉटरी के माध्यम से मतदाताओं को दिया जा सके ताकि मतदान प्रतिशत बढ़ाया जा सके. हमने सबको बता दिया था कि ये कभी भी हीरे की अंगूठी नहीं थी. हमने बताया था कि ये अमेरिकन डायमंड होगा जिसका मूल्य बेहद कम है. 

गलती से नकली रिंग दिया गया:  कलेक्टर

इसके बाद हमने भोपाल के जिला कलेक्टर से मामले पर बात की तो उन्होंने कहा कि वोटिंग पर्सेंटेज बढ़ाना हमारा मूल उद्देश्य था. हमने जिनसे रिंग ली वो गलती से अमेरिकन डायमंड रिंग ले आए. हमें दो-तीन जगहों से शिकायत मिली तब हमने टीम को तत्काल निर्देश दिया और रिंग को बदला गया है. कलेक्टर साहब ने बताया कि जिन्हें भी गलती से अमेरिकन डायमंड की रिंग पहुँच गई थी उन्हें अब सर्टिफ़िकेट के साथ असली रंग सौंप दी गई है, सभी को असली ही रिंग सौंपी गई है. चलिए अच्छा है कलेक्टर साहब ने अपनी भूल सुधार कर ली. अब सवाल ये है कि नकली हीरे का ये खेल संयोग था या प्रयोग? बहरहाल अगले चरण के वोटरों से ये अपील जरूर है कि आपका लोकतंत्र हीरे की अंगूठी से भी कीमती है.हीरे की अंगूठी के लिए नहीं, बल्कि लोकतंत्र के लिए वोट जरूर करें.

ये भी पढ़ें: जब चॉक थामकर टीचर बन गए कलेक्टर, IAS अफसर ने बच्चों को ये सिखाया, गुरुजी से पूछा कैसे पढ़ा रहें हैं?

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Crime news: बहन ने बहन पर लगाया जहर देने का आरोप, पुलिस को सौंपा सीसीटीवी फुटेज, ये है वजह
एमपी गजब है! भोपाल में वोटर्स को प्रशासन ने थमाया नकली डायमंड रिंग...फजीहत हुई तो दिया असली हीरा
MP Chhatarpur cases of maternal and newborn deaths have escalated problems may increase Nursing Home
Next Article
Negligence : प्रेम रूपा नर्सिंग होम की बढ़ी मुश्किलें, प्रसूता और नवजात की मौत मामले में जांच कमेटी गठित
Close
;