विज्ञापन
Story ProgressBack

Junk Food के हैं शौकीन तो हो जाएं सावधान, युवाओं में तेजी से बढ़ रही हैं ये बीमारियां

Side Effects of Junk Foods for Health: जंक फूड के सेवन के कारण 18-25 आयु वर्ग के लोगों में बवासीर, फिस्टुला और फिशर की बीमारी ज्यादा देखने को मिल रही है. ज़िनोवा शाल्बी अस्पताल में लेप्रोस्कोपिक और जनरल सर्जन हेमंत पटेल ने आईएएनएस को बताया कि बवासीर, फिस्टुला और फिशर के मामले युवाओं में बढ़ रहे हैं. इनमें ज्यादातर पुरुष हैं.

Read Time: 4 mins
Junk Food के हैं शौकीन तो हो जाएं सावधान, युवाओं में तेजी से बढ़ रही हैं ये बीमारियां

Effects ofJunk Foods: देश में तेजी से बढ़ते शहरी करण और भागदौड़ भरी जिंगदी में फास्ट फूड का चलन भी तेजी के साथ बढ़ा है. बच्चे औऱ युवा कास तौर से इस जंक फूड के दिवाने बन चुकी है, लेकिन इनकी ये दिवानगी अब उनके सेहत पर भारी पढ़ता दिखाई दे रहा है. दरअसल, डॉक्टरों का कहना है कि जंक फूड के सेवन और निष्क्रिय जीवन शैली के कारण 18 से 25 वर्ष की आयु के युवाओं में दर्दनाक बवासीर, फिस्टुला और फिशर के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं.  

इन बिमारियों के हो रहे हैं शिकार

बवासीर और फिशर से पीड़ित लोगों को गुदा क्षेत्र के आसपास दर्द या सूजन हो सकती है. इसके चलते मल त्यागने में परेशानी होती है. उसे खुजली, जलन, मलाशय से रक्तस्राव और बैठने में कठिनाई का सामना करना पड़ता है.
फिस्टुला गुदा के पास एक असामान्य छिद्र होता है, जो गुदा नलिका के अंदर से जुड़ता है. यह आमतौर पर चोट, सर्जरी, संक्रमण या गुदा ग्रंथियों की सूजन जैसे कारकों के कारण होता है. गुदा क्षेत्र में दर्द, सूजन, गुदा के आसपास की त्वचा में जलन, रक्तस्राव और मल त्याग के दौरान असुविधा इसके प्रमुख लक्षण हैं.

इस वजह से होते हैं बवासीर 

अपोलो स्पेक्ट्रा मुंबई के जनरल सर्जन लैकिन वीरा ने समाचार एजेंसी आईएएनएस को बताया कि बवासीर तब होती है, जब गुदा के अंदर और बाहर की नसें सूज जाती हैं और बड़ी हो जाती हैं. यह स्थिति अब मोटापे, गर्भावस्था, कम फाइबर वाले आहार, कब्ज, दस्त, भारी वस्तुओं को उठाने और मल त्याग के दौरान तनाव के कारण 25-55 वर्ष के वयस्कों में देखी जाती है.

तेजी से बढ़ रहे हैं फिशर के मामले

फिशर, गुदा या गुदा नलिका की परत में दरार के कारण ऐसा होता है. यह समस्या मल त्याग के दौरान कब्ज और अल्सरेटिव कोलाइटिस के कारण होती है.  सर्जन लैकिन वीरा के मुताबिक पिछले 2-3 महीनों में हमारे पास लगभग 50 मरीज बवासीर और फिस्टुला की शिकायत लेकर आए हैं. फिशर के मरीजों की संख्या 80 से ज्यादा है. लगभग 60 प्रतिशत पुरुष और 40 प्रतिशत महिलाएं फिस्टुला और बवासीर से पीड़ित हैं, जबकि 70 प्रतिशत महिलाएं और 30 प्रतिशत पुरुष फिशर से पीड़ित हैं.

18-25 आयु वर्ग केयुवा बन रहे हैं शिकार

डॉक्टर ने कहा कि पिछले वर्षों की तुलना में इन स्थितियों में कुल मिलाकर 10 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि हुई है. हाल ही में जंक फूड के सेवन के कारण 18-25 आयु वर्ग के लोगों में यह बीमारी ज्यादा देखने को मिल रही है. ज़िनोवा शाल्बी अस्पताल में लेप्रोस्कोपिक और जनरल सर्जन हेमंत पटेल ने आईएएनएस को बताया कि बवासीर, फिस्टुला और फिशर के मामले युवाओं में बढ़ रहे हैं. इनमें ज्यादातर पुरुष हैं. पिछले कुछ सालों में इन रोगियों की संख्या में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है. उन्होंने बताया कि वे प्रतिदिन ऐसी स्थिति वाले 5-6 रोगियों को देखते हैं.

ये भी पढ़ें- Bay Leaves Benefits: तेजपत्ता में इस चीज को मिलाकर बना लें Facepack, स्किन को देता है गजब के फायदे

इन बीमारियों से ऐसे करें बचाव

स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार, संतुलित आहार लेना, प्रतिदिन व्यायाम करना, भोजन में फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों को शामिल कर कब्ज को रोकना, पर्याप्त पानी पीकर उचित जलयोजन बनाए रखना, धूम्रपान और शराब का सेवन छोड़ना और मल त्याग के दौरान तनाव से बचना इस स्थिति को कम करने में मदद कर सकता है. डॉक्टरों के मुताबिक इसके बचाव के अन्य तरीकों में दवाएं, क्रीम और सिट्ज बाथ शामिल हैं. यदि स्थिति गंभीर हो जाती है, तो व्यक्ति को लेप्रोस्कोपिक सर्जरी से गुजरना होगा.

ये भी पढ़ें- Seeds For Hairfall: झड़ते बालों पर रोक लगा देंगे ये बीज, छू-मंतर हो जाएगा हेयरफॉल

(अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.)

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
International Yoga Day 2024: योग दिवस पर PM मोदी के बताए योग मुद्रा के लाभ जानिए यहां
Junk Food के हैं शौकीन तो हो जाएं सावधान, युवाओं में तेजी से बढ़ रही हैं ये बीमारियां
Harvard research claims Elderly people who stay alone for a long time have 56 percent higher risk of stroke while who stay alone for short time have less risk
Next Article
हार्वर्ड की रिसर्च में दावा: लंबे समय तक अकेले रहने वाले बुजुर्गों में स्ट्रोक का खतरा 56 प्रतिशत ज्यादा
Close
;