विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Jan 13, 2024

Bilaspur: डिजिटल इंडिया को ठेंगा दिखा रहे हैं सरकारी अफसर, परेशान हो रही है जनता

Chhattisgarh: सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 के सफल संचालन हेतु वेबसाइट का निर्माण राज्य सूचना आयोग द्वारा 27 जनवरी 2022 को किया गया था. लेकिन प्रदेश के लगभग 8 हज़ार अधिकारियों ने अपने कार्यालय के पोर्टल पर अपना पंजीकरण नहीं किया है.  

Read Time: 3 mins
Bilaspur: डिजिटल इंडिया को ठेंगा दिखा रहे हैं सरकारी अफसर, परेशान हो रही है जनता

Bilaspur News : डिजिटल इंडिया थीम (Digital India Theme) को बढ़ावा देने की योजना पर प्रदेश के शासकीय विभाग अपनी रुचि नहीं दिखा रहे हैं. विभाग के पोर्टल पर जानकारी नहीं मिलने से ऑनलाईन जानकारी लेने वाले आवेदकों और आरटीआई कार्यकर्ता विभागों के चक्कर काटने मजबूर होना पड़ रहा है. 

रुचि नहीं दिखा रहे अफसर

बता दें कि छत्तीसगढ़ राज्य के सभी शासकीय विभागों में अपने कार्यों की जानकारी सरकारी विभागीय पोर्टल में पंजीयन के बाद अपलोड करने का निर्देश दिया गया था, ताकि सूचना का अधिकार अधिनियम के तहत मांगी गई जानकारी आसानी से ऑनलाइन प्राप्त किया जा सके. लेकिन आयोग के निर्देश को दो साल बीत जाने के बाद भी प्रदेश के शासकीय विभागों के कार्यालय सहित बिलासपुर  संभाग के शासकीय विभागों के जिम्मेदार अधिकारी इस पर रुचि नहीं दिखा रहे हैं. विभाग के पोर्टल पर जानकारी नही मिलने से ऑनलाईन जानकारी लेने वाले आवेदकों और RTI कार्यकर्ता  विभागों के चक्कर काटने को मजबूर हैं. 

ऑनलाइन पोर्टल की स्थिति 

बिलासपुर संभाग के 9 जिले हैं. रायगढ़, कोरबा ,चाम्पा ,सारंगढ-बिलाईगढ़ ऑनलाइन पंजीकरण के मामले में आगे हैं और बेहतर कार्य कर रहे हैं. जबकि संभाग मुख्यालय बिलासपुर ऑनलाइन पोर्टल के मामले में काफी पिछड़ा हुआ है. यहां के जिम्मेदार अधिकारी ऑनलाइन पोर्टल में स्व पंजीकरण को लेकर कोताही बरतते नजर आ रहे हैं. 

ये भी पढ़ें 4700 मानस मंडलियों मिलेंगे ₹5-5 हजार, रामलला प्राण प्रतिष्ठा के दिन कई भव्य आयोजन कराएगी छत्तीसगढ़ सरकार

 8 हज़ार अधिकारियों ने नहीं कराया पंजीकरण 

सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 के सफल संचालन हेतु वेबसाइट का निर्माण राज्य सूचना आयोग द्वारा 27 जनवरी 2022 को किया गया था. प्रदेश के सभी विभागों को इस वेबसाइट में अपने कार्यालय जनसूचना अधिकारी एवं प्रथम अपीलीय अधिकारियों को स्व  पंजीकृत किए जाने का आदेश जारी किया था. लेकिन 2 साल बीत जाने के बाद भी राज्य सूचना आयोग के वेबसाइट में 31 दिसंबर 2023 की स्थिति  में  प्रदेश के पंजीकृत 8525 कार्यालयों में  विभिन्न विभागों के 13445 जन सूचना अधिकारियों नाम पंजीकृत किया गया है. लेकिन इसके विपरीत 5213 जनसूचना अधिकारियों द्वारा स्वपंजीयन किया गया ,वहीं प्रथम अपीलीय अधिकारी 3227 ने आपका स्व पंजीकरण किया है. इस तरह से प्रदेश के लगभग 8 हज़ार अधिकारियों ने अपने कार्यालय के पोर्टल पर अपना पंजीकरण नही किया है. इससे यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि प्रदेश के सभी शासकीय विभाग राज्य सूचना आयोग के आदेशों का किस तरह पालन कर रहे हैं .

ये भी पढ़ें IND vs AFG : दूसरे T20 के लिए दोनों टीमें पहुंची इंदौर, मैच से पहले पुलिस ने टिकट ब्लैक करने वालों को दबोचा

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
छत्तीसगढ़ के किसानों के लिए बड़ी खबर...   इस तारीख तक करा सकते हैं फसलों का बीमा 
Bilaspur: डिजिटल इंडिया को ठेंगा दिखा रहे हैं सरकारी अफसर, परेशान हो रही है जनता
First FIR: Under the new law, the country's first FIR was registered in Kabirdham, Chhattisgarh, the new criminal law came into force from today
Next Article
First FIR: नए कानून के तहत छत्तीसगढ़ के कबीरधाम में दर्ज हुई देश की पहली FIR, आज से लागू हुआ नया क्रिमिनल कानून
Close
;