विज्ञापन
Story ProgressBack

Way To Success: किसान के बेटे ने साइकिल पर सामान बेचने के लिए छोड़ दी थी सरकारी नौकरी, आज हैं वह इतने अरब के मालिक

Nirma Limited Founder Life Story: डिटर्जेंट कंपनी निरमा के मालिक करसनभाई पटेल का जीवन खुद में बहुत इंस्पिरेशनल है. कुछ नया और समाज के हित में करने की प्रेरणा आप इनके जीवन से ले सकते हैं.

Read Time: 3 mins
Way To Success: किसान के बेटे ने साइकिल पर सामान बेचने के लिए छोड़ दी थी सरकारी नौकरी, आज हैं वह इतने अरब के मालिक
Karsan Bhai Patel

Farmer Son: शीर्ष से शिखर तक या गरीबी से अमीरी तक की कहानियां आपने बहुत सुनी होगी. इससे सबसे ज्यादा प्रेरणादायक और मार्मिक होती हैं. ऐसी ही एक कहानी है करसनभाई पटेल (Karsan Bhai Patel) की, जो एक प्रसिद्ध डिटर्जेंट (Famous Detergent) और पर्सनल केयर उत्पाद कंपनी निरमा लिमिटेड (Nirma Limited) के संस्थापक हैं. एक किसान का बेटा (Farmer's Son) होने के बाद भी इन्होंने साइकिल पर सामान बेचने के लिए सरकारी नौकरी छोड़ी थी. उन्होंने लाइफ में बड़े होने के दौरान कई आर्थिक कठिनाइयों का सामना किया.

ऐसा था शुरुआती जीवन

1945 में गुजरात के रूपपुर में एक कम आय वाले किसान परिवार में जन्मे करसनभाई पटेल को बड़े होने के दौरान कई आर्थिक कठिनाइयों का सामना करना पड़ा. केमेस्ट्री में अपनी शिक्षा पूरी करने के बाद पटेल ने एक सरकारी लैब में लैब टेकनिशन के रूप में शुरुआत की. कम सैलरी के बावजूद उन्होंने अधिक स्थिर जीवन के लिए अपना खुद का व्यवसाय शुरू करने की इच्छा जताई.

इसलिए शुरू की कंपनी

पटेल ने देखा कि बहुत से लोग महंगे डिटर्जेंट या अन्य वॉशिंग ब्रांड नहीं खरीद सकते. बाजार की कमी को समझते हुए उन्होंने एक किफायती डिटर्जेंट पाउडर निकाला जो आम लोगों के लिए किफायती था. मात्र 15,000 रुपये के लोन के साथ, पटेल ने अपने घर के पीछे में काम शुरू किया. उन्होंने बुनियादी सामग्रियों का उपयोग करके एक डिटर्जेंट पाउडर बनाया और इसका नाम निरमा रखा. इसके बाद उन्होंने अपनी साइकिल पर घर-घर जाकर डिटर्जेंट पाउडर बेचना शुरू किया.

ये भी पढ़ें :- सियासी किस्सा: 1989 से लगातार जीत रही भाजपा विदिशा लोकसभा सीट, क्या BJP के गढ़ को भेद पाएगी कांग्रेस?

फेमस ब्रांड बन गया निरमा

इसके बाद निरमा की लोकप्रियता आसमान छूने लगी और यह उस समय का सबसे सस्ता ब्रांड बन गया, जिसकी कीमत 13 रुपये प्रति किलोग्राम थी. उन्होंने एक छोटी मैन्युफैक्चरिंग यूनिट किराए पर ली और उत्पादन प्रक्रिया के लिए मजदूरों को काम पर रखा. फिर निरमा की सफलता तेजी से बढ़ी और कंपनी भारत में एक जाना-माना नाम बन गई. वर्तमान में कंपनी करीब 18,000 कर्मचारियों के साथ इस क्षेत्र पर राज कर रही है. उन्होंने साबुन, ब्यूटी प्रोडक्ट और पर्सनल केयर, जैसे अन्य उत्पाद क्षेत्रों में भी कदम रखा है. 

ये भी पढ़ें :- Bhilai Steel Plant: अब पूरे साल युवाओं को प्रशिक्षण देगा बीएसपी, जानें इस खास ट्रेनिंग के बारे में सबकुछ

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
छत्तीसगढ़ की बेटी ने रचा इतिहास! NEET की असफलता से Army में लेफ्टिनेंट डॉक्टर बनने तक, ऐसी है जोया की कहानी
Way To Success: किसान के बेटे ने साइकिल पर सामान बेचने के लिए छोड़ दी थी सरकारी नौकरी, आज हैं वह इतने अरब के मालिक
CM Rise School: school Principals here take training in IIM-IIT, 100% result, the study model of this tribal school of Anuppur becomes an example
Next Article
CM Rise School: IIM-IIT में ट्रेनिंग, 100% रिजल्ट, अनूपपुर के जनजातीय स्कूल का स्टडी मॉडल बना मिसाल
Close
;