विज्ञापन
Story ProgressBack

सियासी किस्सा: 1989 से लगातार जीत रही भाजपा विदिशा लोकसभा सीट, क्या BJP के गढ़ को भेद पाएगी कांग्रेस?

Vidisha Lok Sabha Election 2024: तीसरे चरण यानी 7 मई को बहुचर्चित विदिशा संसदीय क्षेत्र में वोट डाले जाएंगे. साल 1989 से ही ये बीजेपी की गढ़ रही है.

Read Time: 3 mins
सियासी किस्सा: 1989 से लगातार जीत रही भाजपा विदिशा लोकसभा सीट, क्या BJP के गढ़ को भेद पाएगी कांग्रेस?

देश में 7 मई को तीसरे चरण का मतदान होना है. मतदाता अगले पांच साल के लिए सरकार का चुनाव करेगी. मतदान से  पहले राजनीतिक पार्टियां पूरी ताकत झोंकने में लगी हुई है. बता दें कि तीसरे चरण में देश के 95 लोकसभा सीटों पर मतदान होना है. हालांकि इन  95 सीटों में से एक सीट मध्य प्रदेश के विदिशा सीट भी है. यह सीट अपने आप में ही बड़ी ही ऐतिहासिक है. यहां से चुनाव जीतने वाले सांसद देश के प्रधानमंत्री और विदेश मंत्री जैसे पदों पर अपनी सेवाएं दे चुके हैं.

विदिशा सीट कैसे बना बीजेपी का गढ़?

साल 1989 से विदिशा लोकसभा सीट भाजपा का गढ़ बनकर उभरी है. कहा जाता है कि भाजपा का बड़ा नेता विदिशा को भाजपा की सेफ सीट मानकर चुनाव लड़कर जीत हासिल करते हैं.  दरअसल, 1989 के बाद भाजपा ने लगातार विदिशा से जीत हासिल की. 

राजनीति जानकार कहते हैं कि जब भाजपा की देश भर में हालात नाजुक थी तब बड़े नेताओं को चुनाव लड़ाने के लिए विदिशा सीट चुनी जाती थी. पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने भी विदिशा सीट को चुना और यहां से सांसद का चुनाव लड़कर देश के प्रधानमंत्री बने. हालांकि बाद में वाजपेयी ने विदिशा से अपना इस्तीफा दे दिया था.

सुषमा स्वराज विदिशा सीट से हासिल की थी बड़ी जीत

दुनिया भर में अपनी शैली से एक अलग पहचान बनाने वाली पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से देश भर की सीटों में से विदिशा संसदीय सीट को चुना और इस सीट से बड़ी जीत हासिल कर देश की विदेश मंत्री बनी थी.

इधर, पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का बुधनी के बाद अगर कोई दूसरा गढ़ कहलाता है तो वो विदिशा ही है. शिवराज सिंह चौहान ने विदिशा से ही राजनीतिक करियर की शुरुआत की. शिवराज विदिशा सीट से पांच बार सांसद चुने गए और फिर मुख्यमंत्री के रूप में शिवराज देखते ही देखते प्रदेश के मामा बन गए. 

 1989 में राघव भाई ने विदिशा में गाड़ा था भाजपा का झंडा 

साल 1989 में भाजपा ने विदिशा सीट से चुनाव लड़ने के जनसंघ के कद्दावर नेता राघवभाई को मैदान में उतारा था. उस समय जनसंघ के नेता राघव भाई को गांव में अच्छी पकड़ थी. भाई ने साल 1989 में बड़ी जीत हासिल कर विदिशा में भाजपा का परचहम लहराया था और तब से लेकर आज तक विदिशा सीट पर भाजपा की जीत का सिलसिला लगातार जारी है. हर बार विदिशा से भाजपा ने रिकॉर्ड कायम करने के एक नया इतिहास रचा है.

ये भी पढ़े: आजादी के 76 साल बाद भी नहीं पहुंचा विकास का प्रकाश, आज भी सुविधाओं से महरूम है मजदूरों की यह बस्ती…

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
23 जून को राज्य सेवा एवं राज्य वन सेवा का Prelims Exam, जानिए समय
सियासी किस्सा: 1989 से लगातार जीत रही भाजपा विदिशा लोकसभा सीट, क्या BJP के गढ़ को भेद पाएगी कांग्रेस?
6 people died and 11 injured in road accidents in Sehore Neemuch and Balaghat
Next Article
एमपी में तीन अलग-अलग सड़क हादसे में 6 लोगों की मौत, 11 हुए घायल
Close
;