विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Jan 13, 2024

'तिल संक्रांति' के लिए तैयार महाकौशल और बुंदेलखंड, जानें शनि और सूर्य भगवान से जुड़ी मान्यता

मान्यता है कि मकर संक्रांति के दिन सूर्य देव की आराधना करने से व्यक्ति के रोग और उसके कष्ट दूर होते हैं और घर में सुख-समृद्धि और खुशहाली आती है. इस दिन से सूर्य की उत्तरायण गति शुरू होती है और इसी कारण इसको उत्तरायणी भी कहते हैं.

'तिल संक्रांति' के लिए तैयार महाकौशल और बुंदेलखंड, जानें शनि और सूर्य भगवान से जुड़ी मान्यता
मकर संक्रांति के दिन तिल का काफी महत्व होता है

Makar Sankranti : मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के महाकौशल और बुंदेलखंड अंचल में मकर संक्रांति को तिल संक्रांति भी कहा जाता है. इस तिल संक्रांति में तिल का बड़ा महत्व होता है. श्रद्धालु सुबह उठकर सबसे पहले तिल का पदार्थ ग्रहण करते हैं, उसके बाद तिल के उबटन से स्नान करते हैं. इसके बाद तिल के बने मोदक जिन्हें लड्डू भी कहा जाता है, का सेवन करते हैं. लोग इस दिन तिल की बने पदार्थ का दान भी करते हैं. ऐसी मान्यता है कि इस संक्रांति काल में जब सूर्य उत्तरायण की तरफ जाता है तब ठंडक से बचने के लिए शरीर को जिन पदार्थों की आवश्यकता होती है वह तिल से पूरी होती है.

तिल का सेवन करना जाड़े के दिनों में फायदेमंद रहता है

जानकार लोगों का कहना है कि सिर्फ मकर संक्रांति या तेल संक्रांति के दिन ही तिल का सेवन नहीं करना चाहिए, बल्कि इस दिन से एक महीने तक प्रतिदिन तिल के बने लड्डू का सेवन करना चाहिए ताकि शरीर में गर्मी बनी रहे. इस बारे में ज्योतिषचार्यों का कहना है कि पौराणिक कथा है कि इस दिन भगवान भास्कर अपने पुत्र शनि से मिलने स्वयं उसके घर जाते हैं. चूंकि शनिदेव मकर राशि के स्वामी हैं, इसीलिए इस दिन को मकर संक्रान्ति के नाम से जाना जाता है. यह भी कहा जाता है कि भगवान सूर्य और उनके पुत्र शनि के बीच तनावपूर्ण संबंध थे, लेकिन इस दिन, सूर्य भगवान और शनि देवता अपने मतभेदों को दूर करने के लिए एक साथ आए थे.

इस दिन सूर्य देव पूजा-उपासना की जाती है

मान्यता है कि मकर संक्रांति के दिन सूर्य देव की आराधना करने से व्यक्ति के रोग और उसके कष्ट दूर होते हैं और घर में सुख-समृद्धि और खुशहाली आती है. इस दिन से सूर्य की उत्तरायण गति शुरू होती है और इसी कारण इसको उत्तरायणी भी कहते हैं.

ये भी पढ़ें मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने निरस्त की ओबीसी आरक्षण से जुड़ी याचिका, लगाया याचिकाकर्ता पर 25 हजार का जुर्माना

तिल की मिठाई का होता है व्यवसाय

जबलपुर प्रमुख मिष्ठान विक्रेता कैलाश साहू का कहना है कि मकर संक्रांति से जबलपुर और उसके आसपास के जिलों  में तिल की सामग्री की आपूर्ति के लिए एक महीने पहले से ही तैयारियां शुरू कर दी जाती हैं, क्योंकि जबलपुर को तिल व्यंजनों और मिष्ठानों का प्रमुख केंद्र माना जाता है.

ये भी पढ़ें भोपाल में सात महीने के बच्चे को कुत्तों ने नोच-नोचकर मार डाला, अब जागा प्रशासनिक अमला, जिम्मेदार कौन?

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
भाजपा पार्षद पर आर्थिक सहायता के बहाने महिला से दुष्कर्म का लगा आरोप, एक्टिव हुई पुलिस
'तिल संक्रांति' के लिए तैयार महाकौशल और बुंदेलखंड, जानें शनि और सूर्य भगवान से जुड़ी मान्यता
167 year old tradition was followed in Rewa Tajia was taken out on the day of Moharram know the history of Moharram month of islam religion
Next Article
रीवा में निभाई गई 167 साल पुरानी परंपरा, मोहर्रम के दिन निकाली गई ताजिया, जानें इन दिन का इतिहास
Close
;