विज्ञापन
Story ProgressBack

सावधान ! कोविशील्ड वैक्सीन और हार्ट अटैक का क्या है कनेक्शन ? जानें सच्चाई 

Heart Attack Causes & Symptoms in Hindi : जिन लोगों ने कोरोना काल में कोविशील्ड वैक्सीन को लगवाया था उन्हें TTS जैसे गंभीर साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं. VITT और TTS दोनों ही सूरतों में इंसान को ब्रेन स्ट्रोक या हार्ट अटैक होने की आशंका बढ़ जाती है.

Read Time: 3 mins
सावधान ! कोविशील्ड वैक्सीन और हार्ट अटैक का क्या है कनेक्शन ? जानें सच्चाई 
सावधान ! कोविशील्ड वैक्सीन और हार्ट अटैक का क्या है कनेक्शन ? जानें सच्चाई 

Covishield Vaccine Side Effects : Oxford University की मदद से ब्रिटेन की फार्मा कंपनी एस्ट्राजेनेका ने कोविड-19 महामारी के दौरान एक वैक्सीन का ईजाद किया था. कोरोना काल में एस्ट्राजेनेका के फॉर्मूले पर भारत में कोवीशील्ड और यूरोप में वैक्सजेवरिया वैक्सीन लगाई गई थी... लेकिन अब यही वैक्सीन विवादों के घेरे में नज़र आ रही है. दरअसल, इस वैक्सीन को लेकर कुछ शोधकर्ताओं का दावा है इससे VITT यानी कि Vaccine Induced Thrombocytopenia and Thrombosis का खतरा बढ़ रहा है. अब आप सोच रहे होंगे कि ये VITT आखिर है क्या?? तो इसे आसान भाषा में समझा जाए तो VITT एक ऐसी दुर्लभ और घातक जिसमें खून का थक्‍का जम जाता है. 

क्या होता है खून का थक्का ?

जानकारी के लिए बता दें कि खून का थक्का जमना शरीर के लिए काफी खतरनाक साबित हो सकता है. इसके कई नुकसान होते हैं. मिसाल के तौर पर अगर खून में थक्के जमने लगेंगे तो मामूली चोट लगने पर भी आपकी नसों में से ज़्यादा खून निकल सकता है. इसके अलावा खून का थक्का जमने से आपके शरीर के अंदर की छोटी क्त वाहिकाएं थक्के से भर सकती हैं. जिससे आपके दिमाग में स्ट्रोक और दिल का दौरा (Heart Attack) होने का खतरा बढ़ जाता है. ऐसे में आप ये तो समझ गए होंगे कि खून का थक्का जमना शरीर के लिए कितना घातक है. 

शोध में क्या बात आई सामने 

एस्ट्राजेनेका की कोविड-19 वैक्सीन से VITT और TTS (Thrombocytopenia Syndrome) की बात सामने आई थी. इसका मतलब है कि जिन लोगों ने कोरोना काल में कोविशील्ड वैक्सीन को लगवाया था उन्हें TTS जैसे गंभीर साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं. TTS भी एक ऐसी Medical Condition हैं जिसमें प्लेटलेट्स तेजी से गिरने लगती है या फिर खून के थक्के जमने लगते हैं. VITT और TTS दोनों ही सूरतों में इंसान को ब्रेन स्ट्रोक या हार्ट अटैक होने की आशंका बढ़ जाती है. जब ये विवाद शुरू हुआ तो एस्ट्राजेनेका ने अपनी वैक्सीन की Supply को रोकते हुए बाजारों से वापस मंगाने का ऐलान किया था. 

कंपनी पर कई मुकदमे दर्ज 

मामले में एक और पहलू ये है कि सिर्फ ब्रिटेन में एस्ट्राजेनेका पर करीब 50 से ज़्यादा मुक़दमे दर्ज कराए गए है. इस वैक्सीन से जिन्हें भी साइड इफेक्ट हुआ और जिनकी मौतें हुईं...उन लोगों के परिजनों ने एस्ट्राजेनेका पर केस दर्ज करवाए हैं. इन मुकदमों में मुआवजे और Compensation की मांग की गई है. बता दें कि हमारे देश भारत में भी सुप्रीम कोर्ट में इससे जुड़ी एक याचिका दायर की गई है. 

ये भी पढ़ें : 

इंदौर में फिर मिला कोरोना पॉजिटिव केस, 55 वर्षीय महिला संक्रमित

Covid के नए वेरिएंट को लेकर स्वास्थ्य विभाग अलर्ट! मरीजों के लिए 100 बेड तैयार

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
UN Population Report: 2100 तक भारतीयों की जीने की उम्र बढ़कर 83.3 वर्ष हो जाएगी, एक्सपर्ट ने क्या कहा?
सावधान ! कोविशील्ड वैक्सीन और हार्ट अटैक का क्या है कनेक्शन ? जानें सच्चाई 
PM Modi Take Oath 2024 PM Modi took full care of castes while forming the cabinet, know how many ministers are from which class
Next Article
Cabinet Ministers of India: पीएम मोदी ने मंत्रिमंडल गठन में जातियों का रखा पूरा ख्याल, जानें- किस वर्ग से हैं कितने मंत्री
Close
;