विज्ञापन
Story ProgressBack

कलेक्ट्रेट पहुंचे हजारों मवेशी, दंग रह गया प्रशासन, परेशान किसानों का अनोखा विरोध प्रदर्शन

कोतवाली टीआई अभिषेक उपाध्याय ने कहा कि विरोध करने का यह कोई तरीका नहीं है. किसानों को बताया गया है कि आगामी समय में यदि इस तरीके का कोई भी कार्य किया गया तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

कलेक्ट्रेट पहुंचे हजारों मवेशी, दंग रह गया प्रशासन, परेशान किसानों का अनोखा विरोध प्रदर्शन
सीधी में कलेक्ट्रेट पहुंचे हजारों मवेशी

Sidhi Farmer Protest News: सीधी जिले में ऐरा प्रथा से किसान काफी परेशान हैं. खेतों में बोई फसल खलिहानों तक नहीं पहुंच पा रही है. खून पसीने की कमाई मवेशी नष्ट करते जा रहे हैं. इस समस्या से परेशान होकर मंगलवार को हजारों की संख्या में मवेशियों को लेकर किसान कलेक्ट्रेट पहुंचे. बाजार में मवेशियों का हुजूम देखकर सभी दंग रह गए.

खाली पड़ीं गौशाला, खेतों में मवेशी

सीधी जिले में प्रशासन ने 15 से अधिक गौशालाओं का निर्माण कराया है. प्रति गौशाला की कीमत 30 से 35 लाख रुपए निर्धारित हुई है लेकिन गौशालाएं खाली पड़ी हुई हैं. उनमें मवेशियों को रखने और चारा भूसा का कोई इंतजाम नहीं है. संबंधित ग्राम पंचायत के माध्यम से स्व सहायता समूहों को गौशाला संचालन की जिम्मेदारी सौंपी गई थी लेकिन यह मिशन अभी तक पूरी तरह से असफल रहा है. किसी भी गौशाला में मवेशियों की संख्या ना के बराबर है. ऐसे में ऐरा मवेशी खेतों में पहुंचकर फसलों को नष्ट कर रहे हैं. दिन के समय मवेशी इधर-उधर चले भी जाते हैं लेकिन जैसे ही शाम होती है तो समूह के समूह मवेशी खेतों में पहुंच जाते हैं और किसानों के खून-पसीने की कमाई को चट कर जाते हैं.

Latest and Breaking News on NDTV

यह भी पढ़ें : बुरी तरह पीटा और पिला दिया हार्पिक... नाक में नली लगाकर एसपी ऑफिस पहुंची एक दहेड़ पीड़िता

गांवों से मवेशियों को इकट्ठा कर पहुंचे कलेक्ट्रेट

परेशान किसानों ने पहले गांव में मवेशियों को इकट्ठा किया. फिर सभी को समूह में लेकर मंगलवार को कलेक्ट्रेट पहुंचे. शिवसेना के बैनर तले हुए इस अनोखे विरोध को लेकर प्रशासनिक अधिकारी कर्मचारी भी दंग रह गए. शहर में अस्पताल चौक से लेकर कलेक्ट्रेट तक सड़क पर मवेशी ही मवेशी नजर आ रहे थे.

विरोध दर्ज कराने पर पुलिस के साथ हुई झड़प

विरोध दर्ज करने पहुंचे किसानों और शिव सैनिकों को पुलिस ने कलेक्ट्रेट के भीतर प्रवेश नहीं करने दिया. इस पर झड़प भी हुई. कोतवाली पुलिस की ओर से मामला दर्ज करने की धमकी भी दी जाती रही लेकिन क्षेत्र के किसान और शिव सैनिक अपनी बात पर अड़े रहे और विरोध दर्ज कराते रहे. बाद में पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की समझाइश के बाद लोग मान गए और मवेशियों को वहीं छोड़कर चले गए. उन्होंने चेतावनी भी दी कि यदि गांव में ऐरा प्रथा पर विराम नहीं लगाया गया और गौशालाओं का सही तरीके से संचालन नहीं किया गया तो आने वाले दिनों में फिर से मवेशियों को कलेक्ट्रेट के भीतर भरने का कार्य किया जाएगा.

यह भी पढ़ें : लोकसभा चुनाव से पहले छत्तीसगढ़ सरकार की बड़ी घोषणा, महतारी वंदन की तरह जल्द शुरू होगी महतारी सदन योजना

पुलिस ने कहा- हाथ में ले रहे कानून!

इस संबंध में कोतवाली टीआई अभिषेक उपाध्याय ने कहा कि विरोध करने का यह कोई तरीका नहीं है. मवेशियों को जिला पंचायत लाने की सूचना दी गई थी और जिला पंचायत ना ले जाकर कलेक्ट्रेट परिसर में भरने की तैयारी की गई थी. पुलिस की ओर से मवेशियों को मुक्त कर दिया गया है. साथ ही शिव सैनिकों और किसानों को बताया गया है कि आगामी समय में यदि इस तरीके का कोई भी कार्य किया गया तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Gwalior: बालिका गृह में फिल्मी स्टाइल में घुसे नकाबपोश, किशोरी को नींद से जगाया और अगवा कर ले गए, CCTV में कैद हुई घटना
कलेक्ट्रेट पहुंचे हजारों मवेशी, दंग रह गया प्रशासन, परेशान किसानों का अनोखा विरोध प्रदर्शन
Bhojshala dispute: ASI presented 2000 page report in High Court Indore, next hearing will be on July 22
Next Article
भोजशाला विवादः ASI ने हाई कोर्ट में पेश की 2000 पन्नों की रिपोर्ट, जानें- कितनी मूर्तियां मिलने का है दावा
Close
;