विज्ञापन
Story ProgressBack

MP News: पुराना सोना बेचना हुआ मुश्किल, जानिए क्यों सर्राफा एसोसिएशन ने जारी की इसके लिए एडवाइजरी...

Selling Old Gold Becomes Difficult: इस एडवाइजरी के मुताबिक ग्राहक अगर ज्वेलर्स के पास पुराना सोना लेकर आता है तो उसको पुराना बिल जरूर दिखाना होगा. वहीं अगर पुराने जेवर से नया जेवर ग्राहक ले रहा है और उसके पास पूराना बिल नहीं है तो उसकी पूरी जानकारी लेने के बाद ही आप जेवर एक्सचेंज करें. इसके साथ ही आधार कार्ड, पैन कार्ड, फोन नंबर जरूर लेना होगा.

MP News: पुराना सोना बेचना हुआ मुश्किल, जानिए क्यों सर्राफा एसोसिएशन ने जारी की इसके लिए एडवाइजरी...
Jabalpur News: अब सोना बेचना होगा मुश्किल

Madhya Pradesh: अगर आप जबलपुर (Jabalpur) से हैं और आप सोना खरीदना या बेचना चाहते हैं तो ये खबर आपके लिए ही है. आपके लिए अब पुराना सोना बेचना मुश्किल होने वाला है. शहर के ज्वेलर्स अब आपसे पुराना सोना नहीं खरीदेंगे क्योंकि पिछले कई दिनों से जालसाजी और ठग पुराने नकली गहने देकर असली गहनों पर हाथ साफ कर रहे थे. 

पुराना सोना खरीदने से किया गया है मना

जबलपुर के सर्राफा एसोसिएशन ने ज्वेलर्स को ग्राहकों से पुराना सोना खरीदने से मना किया है. इसके लिए एसोसिएशन ने एक एडवाइजरी भी जारी की है. जिसमे पुराना सोना खरीदने के नियम कानून भी बनाए गए हैं. सर्राफा एसोसिएशन के अध्यक्ष राजा सर्राफ ने NDTV को बताया की सर्राफा एसोसिएशन जबलपुर देश का पहला संगठन है. जिसने अपने सदस्यों के लिए इस तरह की एडवाइजरी जारी की है. जिसको लेकर एसोसिएशन के सभी सदस्य सहमत हैं.

उन्होंने बताया शहर में सोना-चांदी की चोरी और जालसाजी के मामले लगातार बढ़ रहे थे और चोर नए-नए तरीकों से चुराए हुए सोना-चांदी के जेवर बेच रहे थे. जिसके चलते कहीं न कहीं ज्वेलर्स, दुकानदार परेशान होते थे. यही कारण है कि पुराना सोना लेने से एसोसिएशन ने मना किया है. हालांकि विपरीत परिस्थितियों में इसके लिए एडवाइजरी भी जारी की है. जिसके तहत ग्राहक पुराना सोना बेच सकेंगे.

एडवाइजरी से मिलेगी जालसाजों से राहत

इस एडवाइजरी के मुताबिक ग्राहक अगर ज्वेलर्स के पास पुराना सोना लेकर आता है तो उसको पुराना बिल जरूर दिखाना होगा. वहीं अगर पुराने जेवर से नया जेवर ग्राहक ले रहा है और उसके पास पुराना बिल नहीं है तो उसकी पूरी जानकारी लेने के बाद ही आप जेवर एक्सचेंज करें. इसके साथ ही आधार कार्ड, पैन कार्ड, फोन नंबर जरूर लेना होगा.
नया या अपरिचित ग्राहक आपके पास पुराना जेवर बेचने या गिरवी रखने आता है तो कृपया बिल होने के बाद भी आप गिरवी ना रखें, ना ही जेवर खरीदें क्योंकि आजकल चोर फर्जी बिल बनाकर भी जेवर बेचने का या गिरवी रखने का काम कर रहे हैं.

बिना बिल के सोना ना खरीदें

इसके साथ ही सोना गलाई और टंच वालों को भी निर्देश दिए गए हैं. आपके पास अगर कोई रिटेल ग्राहक गलाई करने या टंच करने आ रहा है तो कृपया उसका काम ना करें. अगर आपके पास किसी दुकान का लड़का जेवर गलाने या टंच कराने आ रहा है तो आप उस दुकानदार से कंफर्म करने के बाद ही उसका काम करें. अगर कोई कारीगर गलाई वाले के यहां अपनी छीलन ,कतरन ,डाई आदि के अलावा अगर पुराना जेवर या नया जेवर या संदेहास्पद कोई सामग्री गला रहा है तो पहले उसकी पूरी जानकारी ले लें और सर्राफा एसोसिएशन के पदाधिकारी से संपर्क करने के बाद ही आप उसका काम करें.

बेचने वाले की लें पूरी जानकारी

अगर कोई कारीगर ज्यादा सोना बेचता है या बार-बार सोना बेच रहा है तो कृपया उसकी जानकारी ले लें या जिसका वह काम कर रहा है उसकी जानकारी दे दें, क्योंकि छिलाई वाले कारीगरो के यहां से होलसेलर और कारखाने वाले अपनी छीलन एक डेढ़ महीने बाद इकट्ठी लेते हैं, तो सतर्क होकर कारीगरों से सोना खरीदी करें.
इसके साथ ये भी कहा गया है कि गलाई वाले सिर्फ गलाई करें और टंच वाले सिर्फ टंच का काम करें. खरीद बिक्री करने वाले रजिस्ट्रेशन कराए और GST नम्बर लेने के बाद खरीद बिक्री सिर्फ व्यापारी से करें. सर्राफा व्यापारियों को उम्मीद है कि इन दिशा निर्देशों से उनके ऊपर पुलिस द्वारा लगातार चोर पकड़ने के बाद सोना खरीदने के आरोप लगाए जाते हैं उससे सर्राफा व्यापारी बच सकेंगे और जो लोग नकली  सोना देकर नए जेवर लेने की जलसाजी कर रहे हैं उस पर भी रोक लग सकेगी.

ये भी पढ़ें अंतिम संस्कार के 53 दिन बाद लाडली बहना योजना की राशि निकालते ही पकड़ी गई मृत महिला, जानें पूरा मामला

ये भी पढ़ें New Indian Law: नए कानून के लागू होने के बाद मध्य प्रदेश के भोपाल में पहली FIR दर्ज होने का दावा

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
बिना सैलरी के कैसे होगा काम ? MP के इस जिले में सफाई कर्मियों ने जताया विरोध
MP News: पुराना सोना बेचना हुआ मुश्किल, जानिए क्यों सर्राफा एसोसिएशन ने जारी की इसके लिए एडवाइजरी...
Dead people not able to be carried with four shoulders because of bad road condition in Maihar
Next Article
ऐसी भी क्या मजबूरी थी? शव को नसीब नहीं हुए चार कंधे, तो इस तरह निकली अंतिम यात्रा
Close
;