विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Sep 25, 2023

MP आएं तो भीमबेटका रॉक शेल्टर्स जरूर जाएं... 500 गुफाओं में मिलेंगी 3000 साल पुरानी चित्रकारी

भारत के जाने-माने पुरातत्वविद डॉक्टर विष्णु श्रीधर वाकणकर ने साल 1957-1958 में रायसेन जिले में स्थित भीमबेटका रॉक शेल्टर्स की खोज की थी. यहां 500 गुफाएं हैं जिनमें हजारों साल पुरानी चित्रकारी है.

Read Time: 3 mins
MP आएं तो भीमबेटका रॉक शेल्टर्स जरूर जाएं... 500 गुफाओं में मिलेंगी 3000 साल पुरानी चित्रकारी
भीमबेटका रॉक शेल्टर्स (फोटो साभार : mptourism.com)

MP Tourist Places : मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh), एक ऐसा राज्य जिसने अपनी ऐतिहासिक धरोहरों (Historical Places in MP) को आज भी संजोकर रखा है. 'हिंदुस्तान का दिल' कहे जाने वाले मध्य प्रदेश में न सिर्फ पूरे देश बल्कि दुनियाभर से पर्यटक घूमने आते हैं. मध्य प्रदेश में घूमने के लिए बहुत कुछ है. श्रद्धालुओं के लिए यहां उज्जैन (Ujjain) है जिसे 'मंदिरों का शहर' कहा जाता है, आधुनिक इतिहास में दिलचस्पी रखने वालों के लिए ग्वालियर शहर में विशालकाय किले और खूबसूरत महत समेत देखने के लिए बहुत कुछ है. खजुराहो से लेकर पचमढ़ी तक मध्य प्रदेश के पास अपने पर्यटकों के लिए बहुत कुछ है. ऐसे ही एक अद्भुत पर्यटन स्थल (Tourist Places in MP) का नाम है- भीमबेटका रॉक शेल्टर्स (Bhimbetka Rock Shelters).

मध्य प्रदेश के रायसेन जिले में स्थित भीमबेटका रॉक शेल्टर्स अपने शैलचित्रों यानी पत्थरों पर की गई चित्रकारी और रॉक शेल्टर्स के लिए मशहूर है. भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने 1990 में इस पुरापाषाणिक जगह को राष्ट्रीय महत्व का स्थल घोषित किया था. 20 साल पहले 2003 में यूनेस्को इसे विश्व धरोहर स्थल घोषित कर चुका है.

ऐसा कहा जाता है कि यहां मौजूद पत्थरों और चट्टानों के बीच घूमते हुए आप अतीत की यात्रा करते हैं क्योंकि ये चट्टानें करीब 3,000 साल पुरानी हैं. यहां 600 रॉक शेल्टर्स हैं जिनमें से 275 पर प्राचीन चित्रकारी की गई है. 

यह भी पढ़ें : विदिशा : विजय मंदिर की तरह हुबहू दिखता है भारत का नया संसद भवन 

महाभारत के पांडव भीम से भी संबंध
मान्यता है कि इस जगह का संबंध महाभारत के भीम से भी है और पहले इस जगह का नाम 'भीमबैठका' था लेकिन बाद में इसे 'भीमबेटका' कहा जाने लगा. इसे मानव विकास का शुरुआती स्थान भी कहा जाता है जिसका सबूत यहां की चट्टानों पर बनी चित्रकारी से मिलता है.

भीमबेटका में लगभग 500 गुफाएं हैं जो चारों तरफ से विंध्य पर्वतमालाओं से घिरी हैं. माना जाता है कि इन गुफाओं की दीवारों पर बनी सबसे प्राचीन चित्रकारी करीब 12 हजार साल पुरानी है.

 यह भी पढ़ें : नर्मदापुरम : सतपुड़ा के जंगलों से घिरे होशंगाबाद की रेशम से बनी पहचान

भीमबेटका रॉक शेल्टर्स तक कैसे पहुंचें?
साल 1957-1958 में भारत के जाने-माने पुरातत्वविद डॉक्टर विष्णु श्रीधर वाकणकर ने इस जगह की खोज की थी. अब सवाल यह है कि इतनी प्राचीन और ऐतिहासिक जगह पर कैसे पहुंचा जाए? यहां आना बहुत आसान है. यह जगह मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से सिर्फ 46 किमी दूर है. दिल्ली से इसकी दूरी 795 और मुंबई से 818 किमी है. भोपाल से बस या टैक्सी के माध्यम से रायसेन जिले में स्थित भीमबेटका रॉक शेल्टर्स तक पहुंचा जा सकता है.

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
विदिशा : विजय मंदिर की तरह हुबहू दिखता है भारत का नया संसद भवन
MP आएं तो भीमबेटका रॉक शेल्टर्स जरूर जाएं... 500 गुफाओं में मिलेंगी 3000 साल पुरानी चित्रकारी
Happy birthday Dev Anand: 'Tere Mere Sapne' was shot at the beautiful location of MP Chhindwara
Next Article
Happy birthday Dev Anand : MP छिंदवाड़ा की खूबसूरत लोकेशन पर शूट हुई थी 'तेरे मेरे सपने'
Close
;