विज्ञापन
Story ProgressBack

भारतीय संस्कृति पर कलंक है लिव इन रिलेशनशिप, हाईकोर्ट ने इस मामले में बच्चे की कस्टडी देने से किया इनकार

CG News: बिलासपुर हाई कोर्ट ने लिव इन रिलेशनशिप में पैदा हुए बच्चे की कस्टडी उसके नेचुरल पिता को सौंपने से इनकार किया है. साथ ही कहा कि अपीलकर्ता कानूनी अभिभावक होने और अदालत के आदेश का दावा नहीं कर सकता.

Read Time: 3 mins
भारतीय संस्कृति पर कलंक है लिव इन रिलेशनशिप, हाईकोर्ट ने इस मामले में बच्चे की कस्टडी देने से किया इनकार

Chhattisgarh High Court News: छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट ने लिव इन (Live-in Relationship) से अलग हुए युवक को उसकी प्रेमिका से हुए बच्चे की कस्टडी देने से इनकार कर दिया है. साथ ही कोर्ट (High Court of Bilaspur) ने लिव इन रिलेशनश‍िप पर कड़ी टिप्पणी करते हुए कहा है कि यह भारतीय संस्कृति के विपरीत है. समाज के कुछ क्षेत्रों में लिव इन रिलेशनशिप भारतीय संस्कृति पर कलंक के तौर पर जारी है. हाईकोर्ट के जस्टिस गौतम भादुड़ी और जस्टिस संजय एस अग्रवाल के डिवीजन बेंच में इस प्रकरण की सुनवाई हुई.

क्या है मामला?

दंतेवाड़ा जिला के रहने वाले अब्दुल हमीद सिद्दिकी शादीशुदा है और 3 बच्चों के पिता थे. फिर भी करीब 3 साल से वह एक हिंदू महिला के साथ लिव इन रिलेशनशिप में रह रहे थे. साल 2021 में महिला ने धर्म परिवर्तन किए बिना उससे शादी कर ली. इस संबंध के चलते हिंदू महिला ने अगस्त 2021 में एक बच्चे को जन्म दिया. उसके बाद बीते 10 अगस्त 2023 को महिला अपने बच्चे को लेकर गायब हो गई.

आगे चलकर अब्दुल हमीद ने नेचुरल पिता की हैसियत से बच्चे को पाने के लिए पहले परिवार न्यायालय में आवेदन पेश किया. कोर्ट में आवेदन खारिज हो गया. फिर इस फैसले को चुनौती देते हुए हाईकोर्ट में बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका लगाई गई. सुनवाई के दौरान महिला अपने माता-पिता और बच्चे के साथ पेश हुई. डीबी ने अंतिम सुनवाई के बाद 30 अप्रैल 2024 को फैसला सुनाया है. कोर्ट ने न सिर्फ बच्चे को सौंपने से इनकार किया है, बल्कि ये अहम टिप्पणी के साथ ही कई अन्य बातें भी कही है. 

इस मामले में कोर्ट की प्रमुख टिप्पणी क्या रही?

* समाज के कुछ क्षेत्रों में अपनाई जाने वाली लिव इन रिलेशनशिप अभी भी भारतीय संस्कृति में कलंक के रूप में जारी है, क्योंकि लिव इन रिलेशनशिप आयातित धारणा है, जो कि भारतीय रीति की सामान्य अपेक्षाओं के विपरीत है.

* व्यक्तिगत कानून के प्रावधानों को किसी भी अदालत के समक्ष तब तक लागू नहीं किया जा सकता, जब तक कि इसे प्रथा के रूप में पेश और साबित नहीं किया जाता है.

* एक विवाहित व्यक्ति के लिए लिव इन रिलेशनशिप से बाहर आना बहुत आसान है और ऐसे मामलो में, उक्त कष्‍टप्रद लिव इन रिलेशनशिप से बचे व्यक्ति की वेदनीय स्थिति और उक्त रिश्‍ते से जन्म लिए संतानो के संबंध में न्यायालय अपनी आंखें बंद नहीं कर सकता है.

* हाईकोर्ट के जस्टिस गौतम भादुड़ी और जस्टिस संजय एस. अग्रवाल के डिवीजन बेंच में इस प्रकरण की सुनवाई हुई है.

*कोर्ट ने लिव इन रिलेशनशिप में पैदा हुए बच्चे की कस्टडी उसके नेचुरल पिता को सौंपने से इनकार किया है. साथ ही कहा कि अपीलकर्ता कानूनी अभिभावक होने और अदालत के आदेश का दावा नहीं कर सकता.

यह भी पढ़ें : चलें बूथ की ओर! तीसरे चरण की वोटिंग के बाद अब चौथे चरण में आगे बढ़कर करें मतदान, MP में शुरु हुआ अभियान

यह भी पढ़ें : Rabindranath Tagore Jayanti 2024: सरल रहना कठिन है... गुरुदेव के जीवन, अनमोल वचन व प्रसिद्ध कविताएं देखिए यहां

यह भी पढ़ें : MP में सबसे ज्यादा राजगढ़ तो भिंड में सबसे कम वोटिंग, जानिए भोपाल, गुना, ग्वालियर, विदिशा, बैतूल, मुरैना व सागर का हाल?

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Balodabazar Violence: फिलहाल बलौदाबाजार शहर में 20 जून तक लागू रहेगी धारा 144, 21 सदस्यीय टीम कर रही जांच
भारतीय संस्कृति पर कलंक है लिव इन रिलेशनशिप, हाईकोर्ट ने इस मामले में बच्चे की कस्टडी देने से किया इनकार
CG Lok Sabha Result: BJP leading on 9 Lok Sabha seats in Chhattisgarh, Congress leading on 2 seats
Next Article
CG Lok Sabha Result: छत्तीसगढ़ में 9 लोकसभा सीट पर भाजपा आगे, 2 सीट पर कांग्रेस की बढ़त
Close
;