विज्ञापन
Story ProgressBack

जैतपुर विधानसभा : शहडोल में बीजेपी के अपराजेय योद्धा हैं जयसिंह मरावी, लगातार 6वीं बार बने विधायक

Madhya Pradesh Results 2023 : अपना पहला चुनाव जयसिंह मरावी ने वर्ष 1990 कोतमा विधानसभा से लड़ा. लेकिन कांटे के संघर्ष के बाद चुनाव हार गए थे, उस चुनाव में इनका मुकाबला भाजपा प्रत्याशी छोटेलाल सिंह से हुआ था. बाद में जयसिंह मरावी भाजपा पार्टी में शामिल हो गए और 1998 में पहली बार कोतमा विधानसभा से भाजपा के टिकट से चुनाव जीतकर विधायक बने.

Read Time: 4 min
जैतपुर विधानसभा : शहडोल में बीजेपी के अपराजेय योद्धा हैं जयसिंह मरावी, लगातार 6वीं बार बने विधायक
शहडोल:

Madhya Pradesh Election results 2023 : मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव 2023 (Madhya Pradesh Assembly Election 2023) में शहडोल जिले की जैतपुर सीट से भारतीय जनता पार्टी (BJP) के प्रत्याशी जयसिंह मरावी ने जीत दर्ज कर लगातार छठवीं बार विधायक बनने का रिकॉर्ड कायम किया है. जयसिंह मरावी ने जैतपुर सीट से कांगेस (Congress Party) की उमा धुर्वे को 30 हजार से अधिक वोट से हराकर छठवीं बार विधायक बने. जयसिंह मरावी वर्ष 1998 में पहली बार कोतमा विधानसभा से भाजपा के टिकट पर जीत कर विधायक बने. 2003 में फिर कोतमा से ही दूसरी बार जीते थे.

परिसीमन में सीट बदली पर जीत रही बरकरार

वर्ष 2008 में परिसीमन होने के बाद भाजपा ने उन्हें शहडोल जिले की जैतपुर सीट से प्रत्याशी बनाया, लेकिन जयसिंह अपराजेय योद्धा की तरह 2008 और 2013 में लगातार फिर दो बार जैतपुर सीट भाजपा का परचम लहराते हुए विधायक बने. 2008 में ये प्रदेश सरकार में वन एवं राजस्व राज्य मंत्री भी बने.

2018 में फिर पार्टी से उनकी सीट बदल दी और शहडोल जिला मुख्यालय की सीट जयसिंहनगर से प्रत्याशी बनाया, लेकिन जयसिंह मरावी अजेय रहे और 2018 में जयसिंहनगर विधानसभा सीट से फिर जीत दर्ज कर विधायक बने.

2023 के चुनाव में फिर पार्टी ने उनकी सीट बदल दी और जैतपुर विधानसभा सीट से चुनाव लड़ाया. लेकिन पार्टी के लिए संकटमोचन बनकर उभरे जयसिंह मरावी 2023 का चुनाव भी 30 हजार से अधिक वोट से जीतकर छठवीं बार विधायक बने.

कहां-कहां से विधायक रहे हैं?

जयसिंह मरावी दो बार कोतमा विधानसभा, दो बार जैतपुर एक बार जयसिंह नगर और फिर 2023 में जैतपुर से विधायक बने है. पार्टी ने इन्हें हर बार सीट बदलकर लड़ाया और जयसिंह मरावी ने हर बार प्रचंड जीत दर्ज की.

कालरी की नोकरी छोड़ राजनीति में आये थे

मूलतः अनूपपुर जिले के पथरौडी गाँव (अभिवाजित शहडोल जिला) के रहने वाले जयसिंह मरावी की शिक्षा हायर सेकेंडरी है. पढ़ाई के बाद SECL कालरी में नौकरी की शुरुआत की. लेकिन इन्हें नौकरी रास नहीं आई और राजनीति में उतर गए. अपना पहला चुनाव जयसिंह मरावी ने वर्ष 1990 कोतमा विधानसभा से लड़ा. लेकिन कांटे के संघर्ष के बाद चुनाव हार गए थे, उस चुनाव में इनका मुकाबला भाजपा प्रत्याशी छोटेलाल सिंह से हुआ था. बाद में जयसिंह मरावी भाजपा पार्टी में शामिल हो गए और 1998 में पहली बार कोतमा विधानसभा से भाजपा के टिकट से चुनाव जीतकर विधायक बने.

अपने सहज सरल मृदुभाषी स्वभाव के कारण जयसिंह मरावी जनता में काफी लोकप्रिय हैं. इस वजह से हर बार जनता इन्हें आशीर्वाद देकर चुनाव में विजयी बनाती रही है. लगातार छठवीं बार चुनाव जीतने के कारण इस बार ये मंत्री पद के भी प्रबल दावेदार हैं. देखना है कि अब बनने वाली नई सरकार में इन्हें स्थान मिलता है या नहीं.

यह भी पढ़ें : Viksit Bharat Sankalp Yatra:पीएम ने कहा- परिणाम बता रहे है कि मोदी की गारंटी में दम है, हर गरीब मेरे लिए VIP

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • 24X7
Choose Your Destination
Close