विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Aug 23, 2023

अब साल में दो बार होगी बोर्ड परीक्षा, 11वीं, 12वीं के छात्र को विषय चुनने की होगी आजादी 

राष्ट्रीय पाठ्यचर्या ढांचे के दस्तावेज के अनुसार, कक्षा 11वीं और 12वीं में विषयों का चयन कला, विज्ञान, वाणिज्य 'स्ट्रीम' तक सीमित नहीं रहेगा बल्कि छात्र-छात्राओं को अपनी पसंद का विषय चुनने की आजादी भी मिलेगी.

अब साल में दो बार होगी बोर्ड परीक्षा, 11वीं, 12वीं के छात्र को विषय चुनने की होगी आजादी 
अब साल में दो बार होगी बोर्ड परीक्षा, 11वीं और 12वीं में छात्रों को पसंद के विषय चुनने की होगा आजादी 
नई दिल्ली:

शिक्षा मंत्रालय ने स्कूली शिक्षा का नया राष्ट्रीय पाठ्यचर्या ढांचा (एनसीएफ) तैयार किया है जिसके तहत अब बोर्ड परीक्षाएं साल में दो बार होंगी, छात्र-छात्राओं को सर्वश्रेष्ठ अंक बरकरार रखने का विकल्प होगा. इसके साथ ही कक्षा 11वीं और 12वीं के छात्र-छात्राओं को दो भाषाओं का अध्ययन करना होगा और इनमें से कम से कम एक भाषा भारतीय होनी चाहिए. मंत्रालय के अधिकारियों के अनुसार, नई शिक्षा नीति (एनईपी) के अनुसार नया पाठ्यचर्या ढांचा तैयार है और इसके आधार पर 2024 के शैक्षणिक सत्र के लिए पाठ्य पुस्तकें तैयार की जाएंगी.

MPSC ग्रुप बी मुख्य परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन 18 अगस्त से होंगे शुरू

स्कूली स्तर पर राष्ट्रीय पाठ्यचर्या ढांचे के दस्तावेज के अनुसार, कक्षा 11वीं और 12वीं में विषयों का चयन कला, विज्ञान, वाणिज्य 'स्ट्रीम' तक सीमित नहीं रहेगा बल्कि छात्र-छात्राओं को अपनी पसंद का विषय चुनने की आजादी भी मिलेगी. इसमें कहा गया है कि नए पाठ्यचर्या ढांचे के तहत बोर्ड परीक्षाएं साल में दो बार होंगी और छात्र-छात्राओं को सर्वश्रेष्ठ अंक बरकरार रखने की इजाजत होगी.

एमपी नीट यूजी काउंसलिंग राउंड 2 शेड्यूल जारी, च्वाइस फाइलिंग 22 तक

छात्र बोर्ड परीक्षा में इसमें से उस परीक्षा में उपस्थित हो सकते हैं जिसके लिए वे अपने को तैयार महसूस करेंगे. इसके अनुसार, कक्षा 11वीं और 12वीं के छात्र-छात्राओं को दो भाषाओं का अध्ययन करना होगा. दो भाषाओं में कम से कम एक भाषा का भारतीय होनी जरूरी है. 

नए पाठ्यचर्या ढांचे के अनुसार, बोर्ड परीक्षाएं महीनों की कोचिंग और रट्टा लगाने की क्षमता के मुकाबले छात्र-छात्राओं की समझ और दक्षता के स्तर का मूल्यांकन करेंगी. इसके तहत कक्षाओं में पाठ्य पुस्तकों को 'कवर' करने की मौजूदा प्रथा से बचा जाएगा और पाठ्य पुस्तकों की कीमतों में कमी लाई जाएगी. 

यही नहीं नये पाठ्यचर्या ढांचे के अनुसार, स्कूल बोर्ड उचित समय में ‘मांग के अनुसार' परीक्षा की पेशकश करने की क्षमता विकसित करेंगे.

NEET SS 2023 आवेदन फॉर्म में सुधार का आखिरी मौका, जानें क्या कर सकते हैं एडिट

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
MPHC जूनियर ज्यूडिशियल असिस्टेंट एग्जाम की डेट जारी, अगले माह होगी परीक्षा  
अब साल में दो बार होगी बोर्ड परीक्षा, 11वीं, 12वीं के छात्र को विषय चुनने की होगी आजादी 
CGPSC Civil Judge 2023 Admit card released at psc.cg.gov.in know how to download
Next Article
CGPSC सिविल जज 2023 भर्ती परीक्षा के लिए एडमिट कार्ड जारी, यहां डाउनलोड करें  
Close
;