विज्ञापन
Story ProgressBack

Water Crisis: डिंडौरी के बजाग में पानी के लिए भटक रहे ग्रामीण, बावली का दूषित पानी पीने को लोग मजबूर

Water Crisis in Bajag: बजाग तहसील मुख्यालय में नलजल योजना के लिए चार साल पहले साढ़े तीन करोड़ रुपये की राशि स्वीकृत की गई, लेकिन पीएचई का ठेकेदार आधा अधूरा काम कर गायब हो गया है. वहीं ग्रामीणों की शिकायत के बाद भी अधिकारी ध्यान नहीं दे रहे हैं.

Read Time: 3 mins
Water Crisis: डिंडौरी के बजाग में पानी के लिए भटक रहे ग्रामीण, बावली का दूषित पानी पीने को लोग मजबूर

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के डिंडौरी (Dindori) के बजाग तहसील मुख्यालय के कई मोहल्ले इस समय दूषित पानी पीने को मजबूर हैं. गर्मियों में पेयजल स्त्रोत सूखने से जिले में भीषण जल संकट के हालात बने हुए हैं. इधर, बजाग तहसील मुख्यालय में संचालित पुरानी नलजल योजना पिछले डेढ़ महीने से बंद पड़ी हुई है, जिसके कारण यहां के रहवासियों को पेयजल के लिए काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. इतना ही नहीं बजाग तहसील के कई मोहल्ले में लोग बावली का दूषित पानी पीकर प्यास बुझाने को मजबूर हैं.

4 साल गुजर जाने के बाद भी पूरा नहीं हो पाया काम

बता दें कि साल 2020 में बजाग तहसील मुख्यालय से लगे तीन ग्राम पंचायतों में शुद्ध पेयजल मुहैया कराने के लिए पीएचई विभाग द्वारा साढ़े तीन करोड़ रुपये की लागत से नलजल योजना का काम शुरू किया गया था, जो चार साल गुजर जाने के बाद भी पूरा नहीं हो पाया है. नलजल योजना के नामपर एक बड़ा गड्ढा, फिल्टर का ढांचा और संपवेल का निर्माण किया गया था, जो अब कबाड़ में तब्दील होते जा रहा है.

डिंडौरी

नलजल योजना के नामपर एक बड़ा गड्ढा, फिल्टर का ढांचा और संपवेल का निर्माण कर भाग गया ठेकेदार.

पीएचई विभाग की लापरवाही: नलजल योजना के नामपर बड़ा गड्ढा  कर भाग गया ठेकेदार

आरोप है कि पीएचई विभाग के अधिकारियों द्वारा नलजल योजना में मनमानी की गई, जिसके कारण ठेकेदार काम छोड़कर भाग गया. जिसका खामियाजा स्थानीय लोगों को भुगतना पड़ रहा है.

भाग गया ठेकेदार

बजाग तहसील के लोग बावली का दूषित पानी पीकर प्यास बुझाने को मजबूर हैं.

हालांकि जिले में भीषण जलसंकट को देखते हुए कलेक्टर विकास मिश्रा गांव का दौरा कर रहे हैं और भीषण जल संकट का जायजा ले रहे हैं, जबकि 'जल ही जीवन है' का नारा अलापने वाले पीएचई विभाग के अधिकारी बंद कमरों में AC का लुत्फ उठाते हुए नजर आ रहे हैं.

ये भी पढ़े: MP High Court ने नर्सिंग के स्टूडेंट्स को दी बड़ी राहत... कोर्ट ने कहा- 'सभी छात्र दे सकेंगे एग्जाम'

कलेक्टर विकास मिश्रा ने डिंडौरी जिले में स्वीकृत जल जीवन मिशन के तहत नलजल योजना में गड़बड़ी और लेटलतीफी करने वाले ठेकेदारों को ब्लैकलिस्टेड करने की बात कही है. साथ ही भीषण जल संकट वाले गांवों में टैंकर के माध्यम से पानी मुहैया कराने का आश्वासन दिया है.

ये भी पढ़े: AstraZeneca ने दुनियाभर से वापस मंगाई कोरोना वैक्सीन, मौतों पर मचे बवाल के बाद लिया फैसला

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Crime: सास ने बहू को कहा सिर्फ यह एक शब्द, तो बहू ने दी ऐसी सजा कि सुनकर कांप जाएगी रूह
Water Crisis: डिंडौरी के बजाग में पानी के लिए भटक रहे ग्रामीण, बावली का दूषित पानी पीने को लोग मजबूर
ceremony of MPL Before 2 people were murdered in Gwalior know how the double murder happened amidst high security
Next Article
MPL के उद्धाटन समारोह से पहले ग्वालियर में 2 लोगों की हत्या, जानें हाई सिक्युरिटी के बीच कैसे हुआ डबल मर्डर?
Close
;