विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Dec 28, 2023

विदिशा: 370 महिलाओं ने 'लाडली बहना योजना' से कटवाया नाम, बताई ये वजह 

जिले में अभी तक 370 महिलाएं सामने आई हैं जिन्होंने लाड़ली बहना योजना के पोर्टल पर लाभ त्यागने की बात कही है. ऑनलाइन पोर्टल पर महिलाओं का नाम दर्ज किया जाता है इसमें महिलाओं के पास अधिकार होता है वो अपने आप से यह योजना का लाभ त्याग सकती है.

विदिशा: 370 महिलाओं ने 'लाडली बहना योजना' से कटवाया नाम, बताई ये वजह 
Ladli Behna Yojana

Ladli Behna Yojana: मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के विदिशा (Vidisha) जिले में 'लाडली बहना योजना' (Ladli Behna Yojana) से जुड़ी अनोखी खबर सामने आई है. यहां करीब 370 महिलाओं ने खुद अपनी इच्छा से लाड़ली योजना से नाम कटाने का फैसला किया. महिलाओं ने 'महिला बाल विकास' के ऑनलाइन पोर्टल पर इस योजना को त्यागा है. 'लाडली बहना योजना' का लाभ छोड़ने जिले में 370 महिलाएं आगे आई हैं जिन्होंने खुद को संपन्न बताते हुए कहा कि इस योजना का लाभ हमसे पहले जरूरतमंद महिलाओं दिया जाना चाहिए. वहीं, मामले में अधिकारियों का भी कहना है कि यह अच्छी पहल है....जो महिलाएं जरूरतमंद नहीं है वो योजना से अपना नाम खुद से काट सकती हैं. 

नाम कटवाने के पीछे बताई ये वजह 

दरअसल, इस योजना की शुरुआती दौर में जिले भर में महिलाओं की लंबी-लंबी कतारें देखने मिली रही थी. महिलाओं ने हजारों की संख्या में योजना का लाभ लेने के लिए आवेदन भी किए थे. जिले भर की कई महिलाओं को इस योजना का लाभ भी मिला. तीन महीने तक महिलाओं के खाते में 1250 रुपए आए... लेकिन अब इससे बिलकुल उलट कुछ ऐसी महिलाएं भी सामने आई जिन्होंने इस योजना को त्यागने का फैसला लिया है. इनमें करीब 370 महिलाएं शामिल है जिन्होंने महिला बाल विकास पहुंचकर पोर्टल से नाम कटवाने को कहा है. 

Latest and Breaking News on NDTV

जानकारी के लिए बता दें कि प्रदेश में मार्च के महीने में लाडली बहना योजना को शुरू किया गया था. जिसके तीन महीने बाद यानी कि जून से ही लाडली बहनों के खाते में एक-एक हजार भजे जाने लगाए थे. इसके बाद अक्टूबर के महीने में इस राशि को बढ़ाकर 1250 रुपए कर दिया गया था. मौजूदा समय में मध्य प्रदेश में कुल 1.32 करोड़ लाडली बहना हैं जिन्हें इस योजना के तहत पैसा पहुंचाया जा रहा है. 

ये भी पढ़ें - पहले शराब पार्टी की, फिर छेड़खानी कर लड़की को कुचलकर मार डाला, खौफनाक वीडियो आया सामने

यह योजना इतनी ज़्यादा लोकप्रिय हुई कि प्रदेश भर में इस योजना का लाभ लेने के लिए हजारों की संख्या में आवेदन जमा करने महिलाओं की कतारें लगी रहीं. इसी बीच सरकार ने अपील करते हुए कहा थी कि जो महिलाएं योजना का लाभ नहीं लेना चाहती वह अपनी मर्ज़ी से इसे छोड़ सकती है. इसके बाद जिले में अभी तक 370 महिलाएं सामने आई हैं जिन्होंने लाड़ली बहना योजना के पोर्टल पर लाभ त्यागने की बात कही है. वहीं, महिला बाल विकास अधिकारी भरत राजपूत बताते हैं यह ऑनलाइन पोर्टल पर शो होता है. पोर्टल पर ही महिलाओं का नाम दर्ज किया जाता है इसमें महिलाओं के पास अधिकार होता है वो अपने आप से यह योजना का लाभ त्याग सकती है. इसमें अभी 370 महिलाओं ने योजना को त्यागा है. 

ये भी पढ़ें - पहले शराब पार्टी की, फिर छेड़खानी कर लड़की को कुचलकर मार डाला, खौफनाक वीडियो आया सामने

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
भाजपा पार्षद पर आर्थिक सहायता के बहाने महिला से दुष्कर्म का लगा आरोप, एक्टिव हुई पुलिस
विदिशा: 370 महिलाओं ने 'लाडली बहना योजना' से कटवाया नाम, बताई ये वजह 
167 year old tradition was followed in Rewa Tajia was taken out on the day of Moharram know the history of Moharram month of islam religion
Next Article
रीवा में निभाई गई 167 साल पुरानी परंपरा, मोहर्रम के दिन निकाली गई ताजिया, जानें इन दिन का इतिहास
Close
;