विज्ञापन
Story ProgressBack

'लिव-इन' पार्टनर से दुष्कर्म के आरोप से शादीशुदा व्यक्ति हुआ बरी, कोर्ट ने इस आधार पर दिया फैसला

MP News: इंदौर की जिला अदालत ने 'लिव-इन' पार्टनर से दुष्कर्म और जबरन गर्भपात मामले शादीशुदा व्यक्ति को आरोपों से बरी कर दिया है. अदालत ने लिव इन कपल के बीच हुए एग्रीमेंट को आधार मानते हुए यह फैसला सुनाया है.

Read Time: 3 mins
'लिव-इन' पार्टनर से दुष्कर्म के आरोप से शादीशुदा व्यक्ति हुआ बरी, कोर्ट ने इस आधार पर दिया फैसला
प्रतीकात्मक फोटो

Verdict on Live-in Partner Rape Case: इंदौर की जिला अदालत (District Court Indore) ने 34 वर्षीय व्यक्ति को अपनी 'लिव-इन' जोड़ीदार से दुष्कर्म (Rape), जबरन गर्भपात (Forced Abortion) और जान से मारने की धमकी देने के आरोपों से बरी कर दिया है. अभियोजन पक्ष के एक अधिकारी ने बुधवार को यह जानकारी दी. खास बात यह है कि दोषमुक्ति में एक अनुबंध इस विवाहित व्यक्ति का मददगार साबित हुआ, जिसमें 29 वर्षीय महिला ने इस बात पर सहमति जताई थी कि वह सात दिन उसके साथ और सात दिन अपनी पत्नी के साथ बारी-बारी से रहेगा.

अधिकारी ने बताया कि महिला ने इस व्यक्ति के खिलाफ शहर के भंवरकुआं पुलिस थाने (Indore Police) में 27 जुलाई 2021 को प्राथमिकी दर्ज कराई थी कि उसने शादी का झांसा देकर उसके साथ बार-बार बलात्कार किया, जबरन गोलियां खिलाकर उसका गर्भपात कराया और उसे जान से मारने की धमकी भी दी.

एग्रीमेंट की वजह से कोर्ट ने किया दोषमुक्त

अपर सत्र न्यायाधीश जयदीप सिंह ने तथ्यों और सबूतों पर गौर करने के बाद इस व्यक्ति को भारतीय दंड विधान की धारा 376 (दो) (एन) (महिला से बार-बार बलात्कार), धारा 313 (स्त्री की सहमति के बिना उसका गर्भपात कराना) और धारा 506 (धमकाना) के आरोपों से 25 अप्रैल को बरी कर दिया. अदालत ने अपने फैसले में रेखांकित किया कि प्राथमिकी दर्ज कराने वाली महिला ने इस व्यक्ति के साथ 15 जून 2021 को बाकायदा अनुबंध किया था जिसमें साफ लिखा गया था कि आरोपी पहले से शादीशुदा है और वह एक हफ्ते उसके साथ और एक हफ्ते अपनी पत्नी के साथ बारी-बारी से रहेगा. अनुबंध में यह भी लिखा गया था कि महिला और इस व्यक्ति के बीच पिछले दो साल से प्रेम संबंध है.

कोर्ट ने फैसले में क्या कहा?

अपर सत्र न्यायाधीश ने कहा कि इस अनुबंध से स्पष्ट है कि 'लिव-इन' संबंध (किसी जोड़े का बिना शादी के साथ रहना) में रहने के दौरान महिला और इस व्यक्ति ने आपसी सहमति से शारीरिक रिश्ते बनाए थे और यह शख्स पहले से शादीशुदा होने के कारण उसके साथ विवाह करने की स्थिति में नहीं था. अदालत ने इस व्यक्ति को आरोपों से बरी करते हुए कहा, ‘‘ऐसी स्थिति में इस व्यक्ति को बलात्कार और जबरन गर्भपात का दोषी नहीं ठहराया जा सकता. जहां तक (शिकायतकर्ता महिला को) जान से मारने की धमकी दिए जाने का संबंध है, इस सिलसिले में रिकॉर्ड पर विश्वसनीय सबूत मौजूद नहीं हैं.''

आपको बता दें कि महिला के दर्ज कराए गए मामले में इस व्यक्ति को 15 अगस्त 2021 को गिरफ्तार किया गया था और दो मार्च 2022 को जमानत पर रिहा होने से पहले वह 200 दिन तक न्यायिक हिरासत के तहत जेल में रहा था.

यह भी पढ़ें - लापरवाही: 29 की जगह सिर्फ 18 हजार क्विंटल धान का ही हुआ उठान, लाखों का हो रहा नुकसान

यह भी पढ़ें - Water Crisis: डिंडौरी में पानी के लिए भटक रहे ग्रामीण, बावली का दूषित पानी पीने को लोग मजबूर

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Monsoon Rains: सीहोर में हुई झमाझम बारिश, 2 घंटे में गिरा 107MM पानी, शहर के नदी-नाले हुए जलमग्न
'लिव-इन' पार्टनर से दुष्कर्म के आरोप से शादीशुदा व्यक्ति हुआ बरी, कोर्ट ने इस आधार पर दिया फैसला
CM Mohan Yadav's big announcement Madhya Pradesh government build 3 crore houses, every poor person will get a permanent house, bonus on milk production
Next Article
खुशखबरी... CM मोहन यादव का ऐलान प्रदेश में हर गरीब को मिलेगा पक्का मकान, दूध उत्पादन पर बोनस
Close
;