विज्ञापन
Story ProgressBack

Madhya Pradesh Liquor scam: लोकायुक्त की जांच शुरु, पूछा- कौन हैं शर्मा जी, बांगड़े साहब, पाण्डेय बाबू?

Madhya Pradesh Liquor Scam Case News: सूत्रों के अनुसार छापेमारी के दौरान एक कोडेड डायरी बरामद की गई थी, जिसमें संदिग्ध वित्तीय लेन-देन का विवरण था. इस डायरी ने आबकारी विभाग (Excise Department) के कई अधिकारियों को संदेह के घेरे में ला दिया है. इनमें भोपाल में वर्तमान में पदस्थ एक सहायक आयुक्त भी शामिल हैं, जिनकी भूमिकाओं और हितों के टकराव की भी जांच की जा रही है.

Read Time: 3 mins
Madhya Pradesh Liquor scam: लोकायुक्त की जांच शुरु, पूछा- कौन हैं शर्मा जी, बांगड़े साहब, पाण्डेय बाबू?

Madhya Pradesh Liquor Scam Case News Update: मध्य प्रदेश लोकायुक्त टीम (Madhya Pradesh Lokayukta Team) ने आयकर विभाग (Income Tax Department) की गोपनीय रिपोर्ट की जांच शुरू कर दी है. वहीं आबकारी विभाग से सख्त लहजे में पूछा है कि शर्मा जी, बांगड़े साहब कौन हैं? उनका ड्राइवर कौन था? विश्वकर्मा साहब, पाण्डेय बाबू कौन हैं? लोकायुक्त ने ये सवाल आयकर विभाग की एक गोपनीय रिपोर्ट की जांच के बाद पूछे हैं. यह रिपोर्ट 2016 में मध्य प्रदेश (MP Liquor Scam Case) और छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh Liquor Scam Case) में शराब के एक व्यवसायी (Liquor Businessman) के यहां तलाशी के दौरान जब्ती से संबंधित हैं. इस जांच के केंद्र में कई गंभीर आरोप (Serious Allegations) और वित्तीय अनियमितताएं (Financial Irregularities) शामिल हैं.

कोडेड डायरी का खुलासा

सूत्रों के अनुसार छापेमारी के दौरान एक कोडेड डायरी बरामद की गई थी, जिसमें संदिग्ध वित्तीय लेन-देन का विवरण था. इस डायरी ने आबकारी विभाग (Excise Department) के कई अधिकारियों को संदेह के घेरे में ला दिया है. इनमें भोपाल में वर्तमान में पदस्थ एक सहायक आयुक्त भी शामिल हैं, जिनकी भूमिकाओं और हितों के टकराव की भी जांच की जा रही है.

व्यापक तलाशी अभियान चला

7 जनवरी 2016 को मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, झारखंड, छत्तीसगढ़, उत्तराखंड और राजस्थान में एक बड़े शराब कारोबारी के ठिकानों पर इनकम टैक्स का छापा पड़ा था, जिसमें 1000 करोड रुपए से ज्यादा की अघोषित आय का पता चला था.
55 परिसरों पर तलाशी ली गई थी. इस छापे में कई करोड़ नकद, जेवर, जमीन, कॉलेज और कोल्ड स्टोरेज में निवेश के अलावा अन्य संपत्तियां भी बरामद हुईं थीं.

विशेष पुलिस स्थापना लोकायुक्त के निरीक्षक कविंद्र सिंह चौहान ने आयकर रिपोर्ट पर जानकारी मांगने के लिए आबकारी विभाग को नोटिस भेजा है, उन्होंने विभाग से 28 फरवरी, 2013 और 3 मई, 2013 को आबकारी आयुक्त के पद के बारे में जानकारी भी मांगी है.

विस्तृत जानकारी की मांग

सूत्रों के अनुसार, अलग-अलग तारीखों पर ग्वालियर, शिवपुरी और अन्य स्थानों पर तैनात अधिकारियों के बारे में भी जानकारी मांगी गई है, एनडीटीवी (NDTV) के पास नोटिस की एक प्रति है, जिसमें ग्वालियर में 'शर्मा' के बारे में जानकारी मांगी गई है और यह भी पूछा गया है कि किस अधिकारी/कर्मचारी को 'बांगरे साहब' के नाम से जाना जाता था.

यह भी पढ़ें : Chhattisgarh Liquor Scam: सुप्रीम कोर्ट में ED नहीं साबित कर पाई 2000 करोड़ रुपये का घोटाला, इसलिए मामला हुआ रद्द

यह भी पढ़ें : Chhattisgarh Liquor Scam: 2000 करोड़ रुपये के घोटाले का केस सुप्रीम कोर्ट में रद्द होने पर घिरी ED, लगे ये गंभीर आरोप

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
प्रोटेम स्पीकर के सवाल पर फग्गन सिंह कुलस्ते ने दिया नपा-तुला जवाब, मंत्री पद को लेकर दिए बयान से हुई थी किरकिरी
Madhya Pradesh Liquor scam: लोकायुक्त की जांच शुरु, पूछा- कौन हैं शर्मा जी, बांगड़े साहब, पाण्डेय बाबू?
Land Scame Ratlam Municipal Corporation Officers sales illegal Land lokayukta Police Registered FIR Against buyers
Next Article
MP News: रतलाम में प्लॉट खरीदने वालों पर मंडराया जेल जाने का खतरा, डर ऐसा कि शहर छोड़कर भागे रसूखदार
Close
;