विज्ञापन
Story ProgressBack

MP-CG सहित जहां मिली कांग्रेस को करारी, वहां की पड़ताल शुरु, खरगे ने इतनी कमेटी गठित की

Congress fact-finding committees: हार के कारण जानने के लिए तीन सदस्यीय फैक्ट फाइंडिंग कमेटी बनाई गई है. इस कमेटी में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पृथ्वीराज चौहान, सप्तगिरि उलका और जगदीश मेवानी शामिल हैं. छत्तीसगढ़ में मिली हार के कारणों का पता लगाने के लिए वीरप्पा मोइली और हरीश चौधरी को जिम्मेदारी सौंपी गई है.

MP-CG सहित जहां मिली कांग्रेस को करारी, वहां की पड़ताल शुरु, खरगे ने इतनी कमेटी गठित की

Congress News: लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election 2024) में देश के कई राज्यों में कांग्रेस (Congress) को जबरदस्त हार का सामना करना पड़ा है. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) दिल्ली (Delhi), हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh), उत्तराखंड (Uttarakhand) जैसे राज्य तो ऐसे हैं, जहां कांग्रेस (Indian National Congress Party) का खाता तक नहीं खुल सका. यही वजह है कि कांग्रेस ने मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh), ओडिशा, दिल्ली, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, कर्नाटक व तेलंगाना जैसे राज्यों में मिली हार का कारण ढूंढना शुरू कर दिया है. इन राज्यों में मिली हार के कारण ढूंढने के लिए कांग्रेस (President of Indian National Congress) अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे (Mallikarjun Kharge) ने अलग-अलग फैक्ट फाइंडिंग (Fact Finding Committees) कमेटियों का गठन किया है.

कितनी कमेटी गठन की हैं?

कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने बुधवार को 19 जून को कुल 6 फैक्ट फाइंडिंग कमेटियों के गठन को मंजूरी दी है. ये सभी कमेटियां इन राज्यों में हार के कारणों का पता लगाएंगी. इस प्रक्रिया में स्थानीय कांग्रेस नेताओं से भी उनकी राय ली जाएगी. सभी से बात करने के उपरांत हार के कारणों की रिपोर्ट कांग्रेस अध्यक्ष को सौंपी जाएगी.

मध्य प्रदेश में कांग्रेस को करारी हार का सामना करना पड़ा था. पार्टी यहां लोकसभा की सभी 29 सीटों पर चुनाव हार गई. यहां हार के कारण जानने के लिए तीन सदस्यीय फैक्ट फाइंडिंग कमेटी बनाई गई है. इस कमेटी में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पृथ्वीराज चौहान, सप्तगिरि उलका और जगदीश मेवानी शामिल हैं.

छत्तीसगढ़ में इनको मिली जिम्मेदारी

छत्तीसगढ़ में मिली हार के कारणों का पता लगाने के लिए वीरप्पा मोइली और हरीश चौधरी को जिम्मेदारी सौंपी गई है. ओडिशा में भी कांग्रेस चुनाव बुरी तरह हार गई. यहां हार के कारणों का पता लगाने की जिम्मेदारी अजय माकन और तारिक अनवर को सौंपी गई है.

तीन और राज्य ऐसे हैं, जहां कांग्रेस पार्टी का खाता भी नहीं खुल पाया. इनमें दिल्ली, उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश शामिल हैं. इन तीनों राज्यों के लिए भी एक फैक्ट फाइंडिंग कमेटी बनाई गई है. इस कमेटी में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पीएल पुनिया और रजनी पाटिल शामिल हैं.

कांग्रेस के नेता इन राज्यों में हार के कारणों का पता लगाकर आलाकमान को रिपोर्ट सौंपेंगे. कर्नाटक में भी कांग्रेस पार्टी को उम्मीद के मुताबिक नतीजे नहीं मिल पाए, यही कारण है कि यहां हुई हार के लिए भी तीन सदस्यीय फैक्ट फाइंडिंग कमेटी बनाई गई है. इस कमेटी में मधुसूदन मिस्त्री, गौरव गोगोई और हीबी ईडन शामिल हैं. वहीं, तेलंगाना में पीजे कुरियन, रकिबुल हुसैन और प्रगट सिंह की फैक्ट फाइंडिंग कमेटी उम्मीद के मुताबिक नतीजे न मिलने के कारणों का पता लगाएगी.

लोकसभा के बाद अब विधानसभा की तैयारी

लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को केवल 99 सीटें ही मिल सकी थी. जबकि कांग्रेस और उसके सहयोगी दलों के इंडिया गठबंधन को कुल 234 सीटें मिली हैं. चुनाव नतीजों से पहले कांग्रेस ने इंडिया गठबंधन को 295 सीटें मिलने का अनुमान लगाया था. कांग्रेस पार्टी ने हरियाणा, महाराष्ट्र, झारखंड विधानसभा चुनाव के लिए रोडमैप बनाने की प्रक्रिया भी प्रारंभ कर दी है. कांग्रेस अभी से विधानसभा चुनाव की तैयारी में भी जुट जाना चाहती है. यही कारण है कि पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं ने प्रत्येक विधानसभावार प्रभारी नियुक्त करने का सुझाव दिया है.

यह भी पढ़ें : AFG vs IND: टी-20 वर्ल्ड कप में भारत Vs अफगान, पेस या स्पिन किन पर रहेंगी नजरें, जानिए सब कुछ यहां

यह भी पढ़ें : DAP-NPK के लिए लाइन है लंबी... किसान परेशान, मानसून में बुआई के लिए नहीं मिल रही पर्याप्त खाद

यह भी पढ़ें : NDTV की खबर का बड़ा असर, 'मुर्दों' के मन की बात सरकार तक पहुंची, अब लोकायुक्त पुलिस का बड़ा एक्शन

यह भी पढ़ें : गोलमाल है भाई... ठेकेदार-अधिकारी की मिलीभगत व भ्रष्टाचार के चलते सालों से सूखी हैं नहर, अब आंदोलन की चेतावनी

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
कांग्रेस विधायक की गिरफ्तारी पर शर्मा का पलटवार, बोले- चुनाव के वक्त भाजपा ED-CBI के जरिए खेलती है गंदा खेल
MP-CG सहित जहां मिली कांग्रेस को करारी, वहां की पड़ताल शुरु, खरगे ने इतनी कमेटी गठित की
Indore created a world record, registered its name in the Guinness Book of World Records by planting 12 lakh saplings in 24 hours
Next Article
Indore Create History: इंदौर ने बनाया विश्व रिकॉर्ड, 24 घंटे में 12 लाख पौधे लगाकर गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज कराया नाम
Close
;