विज्ञापन
Story ProgressBack

Bhai Dooj 2023 : यम द्वितीया की तिथि और पूजन विधि को लेकर हैं परेशान? जानिए ज्योतिषाचार्य से समाधान 

ज्योतिषाचार्य राकेश जी से जानिए इस साल कब मनाया जाएगा भाईदूज, कब है तिलक का शुभ मुहूर्त (Tilak Shubh Muhurt) और क्या है इस दिन को मनाने के पीछे की कथा?

Read Time: 5 min
Bhai Dooj 2023 : यम द्वितीया की तिथि और पूजन विधि को लेकर हैं परेशान? जानिए ज्योतिषाचार्य से समाधान 

Happy Bhai Dooj 2023: दिवाली का पूरा हफ्ता त्योहारों में बीतता है. धनतेरस (Dhanteras) से शुरू हुआ यह त्योहार भाई दूज के साथ खत्म होता है. पंचांग के अनुसार, हर साल कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितिया तिथि पर भाई दूज मनाया जाता है. भाई दूज ऐसा पर्व है जिसमें बहनें अपने भाई को तिलक करती हैं और सूखा नारियल देती हैं. यह दिन भाई और बहन (Brother And Sister Love) के प्रेम के प्रतीक के रूप में मनाया जाता है और इससे यमराज (Yamraj) और मां यमुना की पौराणिक कथा जु़ड़ी हुई है. जानिए ज्योतिषाचार्य राकेश जी से इस साल कब मनाया जाएगा भाईदूज, कब है तिलक का शुभ मुहूर्त (Tilak Shubh Muhurt) और क्या है इस दिन को मनाने के पीछे की कथा?

भाई दूज 2023 की तारीख 

इस साल पंचांग के अनुसार, कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितिया तिथि का आरंभ 14 नवंबर दोपहर 2 बजकर 36 मिनट से हो जाएगी और इस तिथि का समापन अगले दिन 15 नवंबर 1 बजकर 47 मिनट पर होगा. इस चलते 14 और 15 नवंबर दोनों ही दिन भाई दूज मनाया जा सकता है. 14 नवंबर, मंगलवार के दिन दोपहर के बाद से भाई दूज मनाया जा सकता है. भाई दूज के दिन भाई को तिलक करने से पहले यमराज और मां यमुना का ध्यान करना शुभ माना जाता है. 

भाई दूज क्यों मनाया जाता है

ऐसा माना जाता है कि भाई दूज की कथा यमराज और मां यमुना से जुड़ी हुई है. पौराणिक कथाओं के अनुसार, यमराज और मां यमुना दोनों ही सूर्य देव की संताने हैं और भाई-बहन (Siblings) हैं. दोनों में बेहद प्रेम था. अरसों बाद जब यमराज बहन यमुना से मिलने पहुंचे तो उन्होंने भाई के लिए ढेरों पकवान बनाएं, मस्तक पर तिलक लगाया और भेंट में नारियल दिया. इसके बाद यमराज ने बहन से वरदान में उपहार स्वरूप कुछ भी मांग लेने के लिए कहा जिसपर मां यमुना ने कहा कि वे बस ये विनती करती हैं कि हर साल यमराज उनसे मिलने जरूर आएं. इसी दिन से भाई दूज मनाए जाने की शुरूआत हुई. माना जाता है कि भाई दूज के दिन ही यमराज बहन यमुना से मिलने आते हैं. 

ये भी पढ़े:Govardhan Puja 2023: गोवर्धन पूजा कब है? यहां जानिए सही तिथि, शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

भाई दूज मनाने की विधि

सुबह स्नानादि करके साफ़ कपड़े पहने और भगवान का पूजन करें. इस दिन काले कपड़े पहनना शुभ नहीं माना जाता है. इसलिए इस दिन काले कपड़े न पहने. अब आप मुहूर्त से पहले ही भाई के तिलक के लिए थाल सजा लें. थाल में कुमकुम, सिंदूर, चंदन, फल, फूल, मिठाई, अक्षत और सुपारी रख लें. आप पिसे हुए चावल के आटे या घोल से चौक बनाएं और शुभ मुहूर्त में इस चौक पर भाई को बिठाएं. इसके बाद आप अपने भाई को तिलक लगाएं. तिलक करने के बाद फूल, पान, सुपारी, बताशे और काले चने भाई को दें और उनकी आरती उतारें. तिलक और आरती के बाद भाई को मिठाई खिलाएं और अपने हाथों से बना भोजना कराएं.

ऐसा माना जाता है कि जिस तिथि को बहन यमुना ने यम को अपने घर भोजन कराया था, यदि उस तिथि को भाई अपनी बहन के हाथ का स्वादिष्ट भोजन ग्रहण करता है तो उसे उत्तम भोजन के साथ धन की प्राप्ति होती है. पद्म पुराण में कहा गया है कि कार्तिक महीने की शुक्ल पक्ष की द्वितीया को पूर्वाह्न में यम की पूजा करके यमुना में स्नान करने वाला मनुष्य यमलोक के कष्ट नहीं भोगता है. उसे मोक्ष की प्राप्ति होती है.

ये भी पढ़े:Diwali Rangoli: दिवाली पर अगर घर में रंगोली खत्म हो जाए तो बिना घबराएं इन 5 चीजों का यूज़ कर बनाएं खूबसूरत रंगोली 

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • 24X7
Choose Your Destination
Close