विज्ञापन
Story ProgressBack

यहां के जलाशयों में बचा सिर्फ 55 फीसदी पानी, कृषि विभाग ने किसानों को ये फसल उगाने की दी सलाह

Farmers News: मौसम विभाग पहले ही कह चुका है कि आने वाले दिनों में इन जिलों में तापमान 44 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाएगा. फिलहाल इन जिलों में तापमान 38 से 42 डिग्री सेल्सियस के बीच है. वहीं जल संसाधन विभाग के सूत्रों ने बताया, क्षेत्र के प्रमुख जलाशयों में बचे 55 फीसदी पानी का उपयोग कृषि के लिए नहीं किया जाएगा. इसका उपयोग केवल घरेलू खपत के लिए किया जाएगा.

Read Time: 3 mins
यहां के जलाशयों में बचा सिर्फ 55 फीसदी पानी, कृषि विभाग ने किसानों को ये फसल उगाने की दी सलाह

Agriculture News: देश के कुछ इलाकों में भीषण जल संकट (Water Crisis) देखने को मिल रहा है. कई जगह तो पेयजल (Drinking Water) के लिए लंबी-लंबी कतार देखने को मिली रही हैं. न्यूज एजेंसी IANS के मुताबिक इस राज्य में के जल संसाधन विभाग (Department of Water Resources) के अधिकारियों ने अन्नदातों (Farmers) को सतर्क करते हुए कहा कि अब आपक कम पानी पर निर्भरता बढ़ाइए. हम जिस राज्य की बात कर रहे हैं वहां के जिलों के बारे में मौसम विभाग (India Meteorological Department) या IMD अलर्ट जारी कर चुका है.

कहां बन रहे हैं ऐसे हालात?

तमिलनाडु के सूखाग्रस्त (Drought-hit) वेल्लोर, रानीपेट, तिरुपत्तूर और तिरुवन्नामलाई जिलों के अधिकांश जलाशयों में केवल 55 प्रतिशत पानी बचा है. बहुत ज्यादा गर्मी की स्थिति के कारण पलार नदी सूख गई है. यह नदी इस क्षेत्र में पानी के मुख्य स्रोतों में से एक है. इसलिए किसानों को कम पानी की जरूरत वाली फसलों की ओर रुख करने की सलाह दी गई है. तमिलनाडु जल संसाधन विभाग के सूत्रों ने आईएएनएस को बताया, "क्षेत्र के प्रमुख जलाशयों में बचे 55 फीसदी पानी का उपयोग कृषि के लिए नहीं किया जाएगा. इसका उपयोग केवल घरेलू खपत के लिए किया जाएगा."

मौसम विभाग पहले ही कह चुका है कि आने वाले दिनों में इन जिलों में तापमान 44 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाएगा. फिलहाल इन जिलों में तापमान 38 से 42 डिग्री सेल्सियस के बीच है.

कृषि विभाग ने दी यह सलाह

तमिलनाडु कृषि विभाग (Agriculture Department) ने किसानों को मक्का, रागी, मूंगफली, गेहूं, दालें जैसे- मूंग और उड़द की फसलें उगाने की सलाह दी है. इन फसलों को कम पानी की जरूरत होती है.

ये फसलें किसानों को अधिक रिटर्न भी देंगी. तमिलनाडु में किसान परंपरागत रूप से गन्ना, धान और केले की खेती करते हैं, जिनके लिए ज्यादा पानी की जरूरत होती है.

किसानों का क्या कहना है?

तिरुपत्तूर में गन्ना किसान के रामास्वामी ने आईएएनएस को बताया, "कृषि विभाग ने क्षेत्र में पानी की ज्यादा कमी होने के कारण पहले ही हमें गन्ना और धान की खेती से मक्का, गेहूं और रागी की खेती करने के लिए कहा है. हालांकि, हमने अभी तक इस पर फैसला नहीं लिया है. विभाग ने हमें नई फसलों पर स्विच करने के फायदों के बारे में जानकारी दी है. इसके अलावा उन्होंने कहा कि किसानों को जल संरक्षण के लिए ड्रिप सिंचाई तकनीक अपनाने की भी सलाह दी गई है.

यह भी पढ़ें : Lok Sabha Election 2024 Voting: 3 सीटों पर वोटिंग, आजादी के बाद छत्तीसगढ़ में पहली बार 46 गांवों में मतदान

यह भी पढ़ें : चुनाव आयोग के अधिकारियों से लेकर नेता तक हैं परेशान! आखिर क्यों कम हो रहा मतदान? जानिए इसके मायने

यह भी पढ़ें : MP में सबसे ज्यादा होशंगाबाद तो रीवा में सबसे कम वोटिंग, कैसा रहा दमोह, सतना, खजुराहो व टीकमगढ़ का हाल?

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
संसद के विशेष सत्र की हुई शुरुआत, PM मोदी ने सांसद पर की ली शपथ
यहां के जलाशयों में बचा सिर्फ 55 फीसदी पानी, कृषि विभाग ने किसानों को ये फसल उगाने की दी सलाह
Health News: Tattoo lovers should be careful, doctors said- getting a tattoo can lead to the risk of deadly diseases like hepatitis, HIV and cancer
Next Article
टैटू के शौकीन हो जाएं सावधान... एक्सपर्ट्स ने कहा- इससे है हेपेटाइटिस, HIV और कैंसर का खतरा
Close
;