विज्ञापन
Story ProgressBack

कैसे चमकेगा देश का भविष्य! जर्जर स्कूल भवनों में जान जोखिम में डालकर पढ़ने को मजबूर हैं छात्र, जानिए जमीनी हकीकत

Chhattisgarh: शासकीय पूर्व माध्यमिक विद्यालय भुमका के शिक्षक राकेश कुमार पांडे ने बताया कि भवन पूरी तरह जर्जर हो चुका है, छत से सरिया भी लटक रहे हैं. कभी भी यह भवन गिर सकता है, बरसात के समय बच्चों को एक कक्षा में बैठाकर पढ़ाया जाता है. जर्जर भवन मरम्मत के लिए अधिकारियों से कई बार शिकायत भी कर चुके हैं लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई है.

कैसे चमकेगा देश का भविष्य! जर्जर स्कूल भवनों में जान जोखिम में डालकर पढ़ने को मजबूर हैं छात्र, जानिए जमीनी हकीकत
Chhattisgarh Latest News: कैसे हो पाएगी पढाई

Chhattisgarh: मनेंद्रगढ़ - छत्तीसगढ़ में नए शैक्षणिक सत्र की शुरुआत 18 जून से होगी. नया शिक्षा सत्र शुरू होने में अब तीन दिन का समय बचा हुआ है. मनेंद्रगढ़-चिरमिरी-भरतपुर जिले में नए शिक्षा सत्र को लेकर शिक्षा विभाग को जो तैयारियां करनी थी अभी तक नहीं की गई है. नतीजा शिक्षा विभाग की इस लापरवाही का खामियाजा इन स्कूलों में पढ़ने वाले हजारों छात्रों को भुगतना पड़ेगा.

अधिकांश भवनोंं की हालत है जर्जर

आपको बता दें कि जिले में कुल 898 स्कूल संचालित है. इन स्कूलों में से अधिकांश स्कूल भवन जर्जर हालत में है. 898 में से कुल 172 स्कूल भवनों के मरम्मत की आवश्यकता है. मगर अब तक इन जर्जर भवनों पर किसी तरह का कोई ध्यान नहीं दिया गया है. जिले में 564 प्राइमरी व 239 मिडिल स्कूल के अलावा 52 हाई व 43 हायर सेकंडरी स्कूल संचालित है. जिले के भरतपुर विकासखंड के हालात ऐसे हैं नए शिक्षा सत्र को लेकर शिक्षा विभाग ने किसी भी तरह की तैय्यारियां नहीं की है. शासकीय पूर्व माध्यमिक विद्यालय भुमका, प्राथमिकशाला 1981 से संचालित है, प्राथमिक शाला ठिसकोली जो आज तक खपरैल भवन में चल रही है. यहां बच्चे जान जोखिम में डालकर भविष्य गढ़ने को मजबूर हैं.

Latest and Breaking News on NDTV

शिकायत के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं

शासकीय पूर्व माध्यमिक विद्यालय भुमका के शिक्षक राकेश कुमार पांडे ने बताया कि भवन पूरी तरह जर्जर हो चुका है, छत से सरिया भी लटक रहे हैं. कभी भी यह भवन गिर सकता है, बरसात के समय बच्चों को एक कक्षा में बैठाकर पढ़ाते हैं, जर्जर भवन मरम्मत के लिए अधिकारियों से कई बार शिकायत भी कर चुके हैं लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई है. वहीं ग्राम पंचायत सरपंच बताते हैं कि भवन जर्जर है जिसके लिए हमने विधायक और अधिकारियों से शिकायत की थी लेकिन सुनवाई नहीं हुई है.

Latest and Breaking News on NDTV

जिला शिक्षा अधिकारी ने ये दिया जवाब

इसके जवाब में जिला शिक्षा अधिकारी अजय मिश्रा ने बताया कि नए शैक्षणिक सत्र की शुरुआत 18 जून से होगी. हमने पूरी तैयारी कर ली है. 18 जून से पहले अपने स्कूल में स्वच्छ और सुंदर वातावरण करने के लिए अपनी टीम को लगाया है जो दूरस्थ अंचल के स्कूल हैं जहां पर सुविधाओं का अभाव होता है उसके लिए हमने फोकस किया है, इसके लिए हमने टीम गठित किया है. इसके लिए सभी स्कूल में समुचित शिक्षा की व्यवस्था हो. जहां पर जर्जर भवन होंगे वहां पर वैकल्पिक व्यवस्था करके स्कूल संचालित करेंगे. जिले में 172 भवन और शौचालय जर्जर है जिसके लिए हमने शासन को प्रस्ताव बनाकर भेजा है बहुत ही जल्द स्वीकृत होकर आ जाएंगे.

ये भी पढ़ेंCrime: दादी ने मां को कहा अपशब्द तो गुस्से में पोते ने कर दी हत्या, दूसरे मामले में बेटे ने पीटकर ले ली पिता की जान

ये भी पढ़ें Baloda Bazar Violence: 9 FIR, 132 उपद्रवियों की गिरफ्तारी... कलेक्ट्रेट में हुए आगजनी में 2.25 करोड़ से अधिक का नुकसान

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Chhattisgarh: उपयुक्तता प्रमापत्र बनाने वाले दिव्यांग विद्यार्थियों के लिए खुशखबरी, आज रायपुर में राज्य स्तरीय शिविर का आयोजन
कैसे चमकेगा देश का भविष्य! जर्जर स्कूल भवनों में जान जोखिम में डालकर पढ़ने को मजबूर हैं छात्र, जानिए जमीनी हकीकत
Vishnu Dev Sai will give houses to more than 47 thousand families know who will be eligible
Next Article
Chhattisgarh: विष्णु देव साय सरकार 47 हजार से अधिक परिवारों को देगी मकान, जानें कौन होगा पात्र
Close
;