विज्ञापन
Story ProgressBack

Gariaband: BMO ने निकाले कर्मचारियों के पैसे, 3 करोड़ के घोटाला मामले में पुलिस ने 11 लोगों को बनाया आरोपी

CG News: गरियाबंद पुलिस ने मैनपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के पूर्व बीएमओ समेत 11 कर्मचारियों के खिलाफ केस दर्ज किया है. पुलिस ने यह कार्रवाई 3 करोड़ से अधिक रुपये का गबन करने के मामले में की है.

Read Time: 3 mins
Gariaband: BMO ने निकाले कर्मचारियों के पैसे, 3 करोड़ के घोटाला मामले में पुलिस ने 11 लोगों को बनाया आरोपी
पुलिस ने यह कार्रवाई चार साल तक चली जांच के बाद की है.

Scam in Mainpur Community Health Center: गरियाबंद जिले (Gariaband) के मैनपुर ब्लॉक के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में 3 करोड़ से अधिक की राशि की अनियमितता के मामले में मैनपुर पुलिस (Gariaband Police) ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के तत्कालीन बीएमओ के.के.नेगी सहित कुल 11 कर्मचारियों के खिलाफ केस दर्ज किया है. पुलिस ने मैनपुर के वर्तमान बीएमओ गजेंद्र ध्रुव की शिकायत पर इन आरोपियों के खिलाफ धोखाधड़ी, जालसाजी और सुनियोजित तरीके से पैसे की धांधली करने जैसी धाराओं के तहत मामला दर्ज (Case Registered) किया है. पुलिस ने तत्कालीन बीएमओ के.के नेगी सहित कुल 11 आरोपियों के खिलाफ 4 साल की जांच के बाद अब 3 करोड़ 13 लाख 43 हजार 931 रुपये की राशि के गबन के आरोप में आईपीसी की धारा 120 बी, 409, 420, 467, 468 और 471 के तहत मामला दर्ज कर कार्रवाई की है.

60 से अधिक कर्मियों के पैसों का किया गबन

जानकारी के मुताबिक, मैनपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में वर्ष 2016-17 से लेकर वर्ष 2019-2020 के बीच बीएमओ के.के. नेगी ने सुनियोजित तरीके से एक टीम बनाकर अपने कर्मचारियों के एरियर, इंक्रीमेंट, अतिरिक्त वेतन की बोगस फाइल बनवाकर उस राशि को निकाल लिया. के के नेगी ने इस पूरे मामले में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में अपने अधीनस्थ कर्मचारियों और कोषालय के अधिकारियों को अपनी टीम में शामिल किया और लगभग 60 से अधिक लोगों के नाम की राशि को अपने खाते में डलवाया. इस पूरे मामले को लेकर 18 मई को मैनपुर के वर्तमान बीएमओ गजेंद्र ध्रुव की शिकायत पर इन सभी के खिलाफ मैनपुर थाने में मामला दर्ज कर लिया गया.

पुलिस ने इन्हें बनाया आरोपी

मैनपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से 3 करोड़ 13 लाख 43 हजार 971 रुपये की धोखाधड़ी और जालसाजी के मामले पुलिस ने तत्कालीन बीएमओ केके नेगी समेत जिला कोषालय अधिकारी डीपी वर्मा, जो कि वर्तमान में महासमुंद कोषालय अधिकारी हैं, को भी आरोपी बनाया है. इसके साथ ही सहायक ग्रेड 2 गुरुदेव साव (वर्तमान में बेमेतरा कोषालय अधिकारी), जिला कोषालय अधिकारी केके दुबे (वर्तमान में बलौदा बाजार कोषालय अधिकारी), के विनोद ध्रुव, वाहन चालक भारत नंदे, लुकेश चतुर्वेदानी, लिपिक वीरेंद्र भंडारी, संतोष कोमरा, जीसी कुर्रे, वार्ड बॉय भोजराम दीवान को भी आरोपी बनाया गया है. मैनपुर थाना प्रभारी शिव शंकर हुर्रा ने बताया कि इन सभी के खिलाफ 4 साल चली जांच के बाद आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है.

यह भी पढ़ें - छत्तीसगढ़ में पुलिस कस्टडी से नक्सली फरार, ऐसे चकमा देकर अस्पताल से भागा, SP ने लिया ये एक्शन

यह भी पढ़ें - 10 लाख रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार हुआ सीबीआई इंस्पेक्टर, MP नर्सिंग घोटाले की कर रहा था जांच

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
सीएम के गृहजिले में मनचले की धुनाई, सगी बहनों को छेड़ा तो बहादुर बेटियों ने सीखा दिया बड़ा सबक, Video Viral
Gariaband: BMO ने निकाले कर्मचारियों के पैसे, 3 करोड़ के घोटाला मामले में पुलिस ने 11 लोगों को बनाया आरोपी
Scorching Heat and Water Crisis Chirmiri Residents Desperate for Clean Drinking Water
Next Article
तपती गर्मी , पानी की किल्लत ! पेयजल की एक-एक बूंद को मोहताज हुए लोग
Close
;