विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Oct 31, 2023

छत्तीसगढ़ में NOTA बना लोकतंत्र के विरोध का जरिया! नक्सल प्रभावित इलाकों में सर्वाधिक दबा ये बटन

स्वस्थ्य लोकतंत्र के फलने-फूलने में आपराधिक प्रवृत्ति के लोगों का चयन सबसे बड़ी बाधा है. पार्टियों द्वारा चुनाव मैदान में इन्हें हतोत्साहित करने के उद्देश्य से बेहद सोच-विचार कर नोटा का विकल्प लाया गया है. लेकिन, छत्तीसगढ़ में पिछले 2 विधानसभा चुनावों के आंकड़े को करीब से देखें तो पाएंगे कि नक्सल प्रभाव वाली सीटों पर इसका उपयोग सर्वाधिक किया गया है.

Read Time: 3 mins
छत्तीसगढ़ में NOTA बना लोकतंत्र के विरोध का जरिया! नक्सल प्रभावित इलाकों में सर्वाधिक दबा ये बटन

Chhattisgarh Assembly Election 2023: स्वस्थ्य लोकतंत्र के फलने-फूलने में आपराधिक प्रवृत्ति के लोगों का चयन सबसे बड़ी बाधा है. पार्टियों द्वारा चुनाव मैदान में इन्हें हतोत्साहित करने के उद्देश्य से बेहद सोच-विचार कर नोटा का विकल्प (NOTA option) लाया गया है. लेकिन, छत्तीसगढ़ में पिछले 2 विधानसभा चुनावों (assembly elections) के आंकड़े को करीब से देखें तो पाएंगे कि नक्सल प्रभाव (Naxal influence) वाली सीटों पर इसका उपयोग सर्वाधिक किया गया है. सीधे तौर पर यह लोकतंत्र की खिलाफत का बड़ा जरिया बन गया है.

छत्तीसगढ़ में पिछले 2 विधानसभा चुनावों के आंकड़ों पर गौर करें तो 2013 में इसे लेकर ज्यादा उत्साह देखा गया था और कुल वोट का 3.1 प्रतिशत वोट नोटा को गया था. फिर 2018 के चुनाव में यह कम होकर 2 प्रतिशत रह गया. 

2013 में जहां चित्रकोट में सर्वाधिक 10 हजार 848 वोट नोटा को पड़ा था तो 2018 में दंतेवाड़ा में 9,929 वोट नोटा के खाते में आया था.दोनों धुर नक्सल प्रभावित इलाके हैं.

बीते शनिवार को अपने एक बयान में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (Chief Minister Bhupesh Baghel) ने कहा कि निर्वाचन आयोग को नोटा का विकल्प खत्म करने पर विचार करना चाहिए. सीएम भूपेश का तर्क था कि कई बार वोटर कन्फ्यूजन में इस विकल्प का इस्तेमाल करते हैं, जिसका असर चुनाव परिणाम पर पड़ता है. उन्होंने ये बातें रायपुर में मीडिया से चर्चा के दौरान कही थी.

Latest and Breaking News on NDTV

2013 में शुरू हुआ नोटा

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद, 2013 में चुनाव आयोग ने वोटिंग पैनल पर अंतिम विकल्प के रूप में ईवीएम में 'उपरोक्त में से कोई नहीं' या नोटा बटन जोड़ा. नोटा का अपना प्रतीक मतपत्र है जिस पर काला क्रॉस बना होता है. इसका मतलब है कि मतदाता किसी भी उम्मीदवार को वोट देने का इच्छुक नहीं है.

ये भी पढ़ें: CG Election 2023: विधानसभा की 90 सीटों के लिए 1442 प्रत्याशी हैं मैदान में, इन दिग्गजों का भविष्य है दांव पर

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Amarwara Bypolls: 7 नाम वापस, अब कुल 9 प्रत्याशी मैदान में, बीजेपी-कांग्रेस-गोगपा के बीच टक्कर
छत्तीसगढ़ में NOTA बना लोकतंत्र के विरोध का जरिया! नक्सल प्रभावित इलाकों में सर्वाधिक दबा ये बटन
Madhya Pradesh Assembly Election Results 2023 Anuppur Assembly Seat lok sabha constituency all you need to know
Next Article
Anuppur Election Results 2023: अनूपपुर में कैसे बदल गया सियासी समीकरण? इस बार BJP ने मार ली बाजी
Close
;