विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Oct 25, 2023

MP Election 2023 : देवसर में स्थानीय उम्मीदवार की मांग, सुनाई दे रहे हैं 'राजेन्द्र मेश्राम हटाओ BJP बचाओ' के नारे

Assemblyelection2023 : कांग्रेस (Congress) और भारतीय जनता पार्टी (BJP) के लिए उनके ही प्रत्याशी सिरदर्द बनते जा रहे है. मध्यप्रदेश विधान सभा चुनाव (Madhya Pradesh Assembly Election 2023) को लेकर जैसे-जैसे इन पार्टियों ने अपने उम्मीदवारों के नाम घोषित किए उनमें से कईयों का विरोध होने लगा.

Read Time: 4 mins
MP Election 2023 : देवसर में स्थानीय उम्मीदवार की मांग, सुनाई दे रहे हैं 'राजेन्द्र मेश्राम हटाओ BJP बचाओ' के नारे
सिंगरौली:

Assemblyelection2023 : मध्यप्रदेश विधान सभा चुनाव (Madhya Pradesh Assembly Election 2023) में कांग्रेस (Congress) और भारतीय जनता पार्टी (BJP) के लिए उनके ही प्रत्याशी सिरदर्द बनते जा रहे है. प्रत्याशियों की सूची (MP Assembly Election Canidate List) जैसे-जैसे सामने आ रही है, वैसे-वैसे कुछ जगहों से विरोध के सुर भी सुनाई देने लगे हैं. ऐसा ही माहौल सिंगरौली (Singrauli) की देवसर विधानसभा सीट (Deosar Assembly Seat) से भी देखने को मिल रहा है, यहां स्थानीय लोग 'राजेन्द्र मेश्राम हटाओ BJP बचाओ' का नारा लगाते हुए दिखाई दे रहे हैं.

स्थानीय उम्मीदवार की मांग

बीजेपी की केंद्रीय चुनाव समिति ने मध्‍य प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए पांचवी सूची (BJP Candidate List) जारी कर दी है. इस सूची में सिंगरौली के देवसर विधानसभा सीट से राजेंद्र मेश्राम (Rajendra Meshram) को टिकट दिया गया है. टिकट की घोषणा के बाद से ही माड़ा सहित कई गांवों में राजेन्द्र मेश्राम के खिलाफ जमकर नारेबाजी हुई है. देवसर विधानसभा के लोग इस बार स्थानीय उम्मीदवार की मांग कर रहे हैं.

मौजूदा विधायक का टिकट कटा

सिंगरौली जिले की देवसर विधानसभा सीट से बीजेपी ने मौजूदा विधायक सुभाष चंद्र वर्मा का टिकट काटकर राजेन्द्र मेश्राम को अपना उम्मीदवार बनाया है. राजेन्द्र मेश्राम मूलतः बालाघाट के निवासी बताये जा रहे हैं. सिंगरौली में आकर मेश्राम  ने अपना राजनीति सफर शुरू किया है. 2013 से 2018 तक देवसर विधानसभा सीट पर बीजेपी से राजेन्द्र मेश्राम विधायक रहें थे, उनके कार्यकाल से जनता नाखुश थी, काफी विरोध के बाद उनका टिकट काटकर बीजेपी ने 2018 विधानसभा चुनाव में सुभाष वर्मा को दिया था.

2018 से लेकर अब तक सुभाष वर्मा इस सीट पर विधायक हैं. लेकिन 2023 के विधानसभा चुनाव में फिर पार्टी ने राजेन्द्र मेश्राम को टिकट देकर चुनावी महासंग्राम में उतार दिया, जिसके बाद से पार्टी के कार्यकर्ताओं सहित ग्रामीणों में आक्रोश है, लोग सड़कों पर उतरकर राजेन्द्र हटाओ देवसर बचाओ और मतदान बहिष्कार के नारे लगा रहे हैं.


देवसर विधानसभा में करीब 2.20 लाख से ज्यादा मतदाता (Voter) है, सबसे ज्यादा वोटर्स हरिजन समाज के हैं, जो विधानसभा चुनाव में अहम भूमिका निभाते हैं. यह सीट अनुसूचित जाति के लिए रिजर्व है. इस सीट पर एससी वर्ग के लोगों के अलावा आदिवासी, क्षत्रिय और साहू वोटर्स की संख्या अधिक है. देवसर विधानसभा क्षेत्र में एससी वर्ग की नाराजगी से इस सीट पर भाजपा को नुकसान हो सकता है, क्योंकि यहां पूर्व विधायक सुभाष वर्मा का एससी समाज में अच्छा प्रभाव है.

पार्टी नेता उम्मीदें लगाए बैठे हैं

पार्टी के शीर्ष नेताओं की ओर से की गई कोशिशों के बावजूद भी अभी तक कहीं से पार्टी के लिए अच्छी खबर सामने नहीं आई है. हालांकि पार्टी को अब भी उम्मीद है कि समय रहते नाराज कार्यकर्ता मान जाएंगे. लेकिन अगर ये विरोध थमता नहीं है तो पार्टी को आने वाले समय में नुकसान हो सकता है.

यह भी पढ़ें :  MP Election 2023 : कांग्रेस ने विरोध के बाद बदले चार नाम, नए उम्मीदवारों का किया ऐलान

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Amarwara Bypolls: 7 नाम वापस, अब कुल 9 प्रत्याशी मैदान में, बीजेपी-कांग्रेस-गोगपा के बीच टक्कर
MP Election 2023 : देवसर में स्थानीय उम्मीदवार की मांग, सुनाई दे रहे हैं 'राजेन्द्र मेश्राम हटाओ BJP बचाओ' के नारे
Madhya Pradesh Assembly Election Results 2023 Anuppur Assembly Seat lok sabha constituency all you need to know
Next Article
Anuppur Election Results 2023: अनूपपुर में कैसे बदल गया सियासी समीकरण? इस बार BJP ने मार ली बाजी
Close
;