विज्ञापन
Story ProgressBack

USA vs Russia: बाइडेन सरकार का बड़ा कदम, रूस के Kaspersky Antivirus Software पर लगाया बैन

Biden Bans Kaspersky Software: अमेरिका में कैस्परस्की सॉफ्टवेयर की बिक्री पर 20 जुलाई से प्रतिबंध लगा दिया जाएगा. रूसी बहुराष्ट्रीय कंपनी 29 सितंबर तक मौजूदा यूजरों को सॉफ्टवेयर अपडेट प्रदान करने में सक्षम होगी. कैस्परस्की का सॉफ्टवेयर यूजरों को ट्रोजन, स्पाइवेयर और अन्य साइबर खतरों से बचाने के लिए डिज़ाइन किया गया है.

USA vs Russia: बाइडेन सरकार का बड़ा कदम, रूस के Kaspersky Antivirus Software पर लगाया बैन

Biden bans Kaspersky: अमेरिका (US) ने मॉस्को (Moscow) स्थित साइबर सुरक्षा कंपनी कैस्परस्की (Cyber Security company Kaspersky) द्वारा बनाए गए एंटीवायरस सॉफ्टवेयर (Antivirus Software) की बिक्री पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की है. अमेरिकी वाणिज्य विभाग (US Commerce Department) ने गुरुवार को एक बयान में कहा कि रूसी सरकार (Russian Government) की आक्रामक साइबर क्षमताओं और कैस्परस्की के संचालन को प्रभावित करने या निर्देशित करने की क्षमता के कारण अमेरिका में कंपनी के संचालन से राष्ट्रीय सुरक्षा (National Security) को खतरा है. बयान में कहा गया है कि कैस्परस्की अब आम तौर पर अन्य गतिविधियों के अलावा अमेरिका में अपने सॉफ़्टवेयर नहीं बेच सकेगी (US Ban on Sales of Kaspersky Software) और न ही पहले से उपयोग किये जा रहे सॉफ़्टवेयर के अपडेट (Antivirus Software Update) प्रदान करने में सक्षम होगी.

अमेरिकी सरकार ने यूजर्स से कहा- दूसरा विकल्प खोज लीजिए

अमेरिकी वाणिज्य विभाग ने कहा कि कैस्परस्की के व्यापक रूप से इंस्टॉल किए गए एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर के निजी और पेशेवर यूजरों को जोखिम के कारण कोई अन्य विकल्प तलाशना चाहिए.

वाणिज्य सचिव जीना रायमोंडो ने कहा कि रूस ने बार-बार दिखाया है कि उनके पास कैस्परस्की लैब जैसी रूसी कंपनियों का शोषण करने की क्षमता और इरादा है, ताकि वे संवेदनशील अमेरिकी जानकारी एकत्र कर सकें और उसे हथियार बना सकें. हम अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा और अमेरिकी लोगों की सुरक्षा के लिए अपने पास मौजूद हर उपकरण का उपयोग करना जारी रखेंगे.

कब से लगेगा बैन?

अमेरिका में कैस्परस्की सॉफ्टवेयर की बिक्री पर 20 जुलाई से प्रतिबंध लगा दिया जाएगा. रूसी बहुराष्ट्रीय कंपनी 29 सितंबर तक मौजूदा यूजरों को सॉफ्टवेयर अपडेट प्रदान करने में सक्षम होगी. कैस्परस्की का सॉफ्टवेयर यूजरों को ट्रोजन, स्पाइवेयर और अन्य साइबर खतरों से बचाने के लिए डिज़ाइन किया गया है. अमेरिका में, सरकारी उपकरणों पर इसके इंस्टॉलेशन पर 2017 से प्रतिबंध लगा दिया गया है. जर्मनी में भी सूचना सुरक्षा के जुड़े संघीय कार्यालय ने सॉफ्टवेयर का उपयोग करने के खिलाफ चेतावनी दी है. कैस्परस्की ने अपने उत्पादों से किसी प्रकार का जोखिम होने की बात से इनकार करते हुए कहा है कि यह एक निजी वैश्विक साइबर सुरक्षा कंपनी है जिसका रूसी सरकार से कोई संबंध नहीं है.

यह भी पढ़ें : Ujjain Rape Case: काम की तलाश में आयी आदिवासी महिला से गैंगरेप, 1.5 किलोमीटर तक अर्धनग्न हालत में भागी

यह भी पढ़ें : Nvidia का उलटफेर, Apple को पछाड़ बनी दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी कंपनी, मार्केट कैप इतने ट्रिलियन के पार

यह भी पढ़ें : 35 चीता ट्रैकर्स ने छोड़ा काम, मांस कटवाने पर हड़ताल, कूनो में क्यों मच गया बवाल? देखिए NDTV पड़ताल

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
International Yoga Day 2024: योग दिवस पर PM मोदी के बताए योग मुद्रा के लाभ जानिए यहां
USA vs Russia: बाइडेन सरकार का बड़ा कदम, रूस के Kaspersky Antivirus Software पर लगाया बैन
'What Worry the World' by IPSOS claims India has become one of the top three Optimistic countries in the world
Next Article
India: देश को लेकर आई अच्छी खबर, इस मामले में भारत बना दुनिया के तीन सर्वोच्च देशों में से एक
Close
;