विज्ञापन
Story ProgressBack

ICC अंडर 19 वर्ल्ड कप: भारत को फाइनल में पहुंचाने वाले सचिन धास और उदय सहारन की कहानी

ICC Under-19 World Cup 2024 News: साउथ अफ्रीका के खिलाफर अंडर-19 विश्व कप के पहले सेमीफाइनल में सहारन और ढास के बीच पांचवें विकेट के लिए 171 रनों की साझेदारी हुई थी, जिसने भारत को फाइनल में पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई थी. वहीं सहारन और ढास के शतकों की बदौलत ही भारत सेमीफाइनल में पहुंचा था.

Read Time: 4 min
ICC अंडर 19 वर्ल्ड कप:  भारत को फाइनल में पहुंचाने वाले सचिन धास और उदय सहारन की कहानी

ICC Under-19 Cricket World Cup Final: आईसीसी अंडर 19 वर्ल्ड का फाइनल मुकाबला 11 फरवरी को टीम इंडिया और ऑस्ट्रेलिया (IND Vs AUS) के बीच खेला जाएगा. अंडर-19 वर्ल्ड कप (Under-19 World Cup) के फाइनल में भारत को स्थान दिलाने में उदय सहारन (Uday Saharan) और सचिन धास (Sachin Dhas) की अहम भूमिका रही है. साउथ अफ्रीका के खिलाफ हुए सेमीफाइनल मुकाबले में जब भारतीय टीम (Team India) जीत से बहुत दूर जाती हुई दिखाई दे रही थी, तब इन दोनों खिलाड़ियों ने टिकाऊ पारियां खेलते हुए भारतीय टीम को जीत तक पहुंचाया था. इस मैच में सचिन ने 96 और उदय ने 81 रनों की परियां खेली थीं. आज हम टीम के इन दोनों सितारों की कहानी जानेंगे.

पिता गावस्कर के फैन, बेटे को दिया सचिन तेंदुलकर का नाम

सचिन धास महाराष्ट्र के रहने वाले हैं. उनके पिता संजय धास बताते हैं कि सचिन के पसंदीदा खिलाड़ी सुनील गावस्कर हैं, लेकिन उन्होंने अपने बेटे का नाम दूसरे पसंदीदा खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर के नाम पर रखा, ताकि वो तेंदुलकर से कनेक्ट महसूस कर सके. उन्हें उम्मीद थी कि बड़े होने पर यह जुड़ाव सचिन को प्रेरित करेगा. नेपाल के खिलाफ जोरदार शतक जड़कर सचिन हीरो बनकर उभरे थे.

सचिन धास ने बचपन से ही क्रिकेटर बनने का सपना संजोया था. अपनी मां के शुरुआती विरोध के बावजूद, राज्य स्तर पर उनके समर्पण और कौशल ने उनकी मां का मन बदल दिया. सचिन के पिता संजय कॉलेज के दिनों में क्रिकेट खेला करते थे. उनकी मां एक पूर्व एथलीट और राज्य स्तरीय कबड्डी खिलाड़ी हैं, शुरूआती विरोध के बाद उन्होंने अपने बेटे की क्षमता को पहचाना और उसकी क्रिकेट आकांक्षाओं का समर्थन किया.

क्रिक इंफो के अनुसार सचिन के पिता का कहना है कि "जब वह पैदा भी नहीं हुआ था, तब ही मैने ठान लिया था कि वह क्रिकेट ही खेलेगा, उसके अलावा कुछ नहीं करेगा# इसके लिए मुझे चाहे जो करना पड़ता, मैं करता. जब वह दो-ढाई साल का था, तभी मैंने उसे MRF का बैट थमा दिया और रोज़ सुबह उसे अपने साथ क्रिकेट ग्राउंड ले जाता था. जब वह चार-साढ़े चार साल का था, तभी मैंने उसे क्रिकेट एकेडमी में डाल दिया. मुझे पता था कि अगर उसे बड़ा करना है और इंडिया खेलना है तो काफ़ी कम उम्र से ही उसे ट्रेनिंग शुरू करनी होगी. मैं नहीं चाहता था कि वह मेरी तरह जिला स्तर का क्रिकेटर बनकर रहे."


2 विश्वकप का हिस्सा रह चुके हैं उदय सहारन

राजस्थान के श्रीगंगानगर जन्में उदय ने 11 साल की उम्र से ही क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया था. उदय ने पहली बार जिला क्रिकेट एसोसिएशन फाजिल्का की तरफ से क्रिकेट खेला था. तब उनका प्रदर्शन इतना सराहनीय रहा कि 11 साल की उम्र में ही उनका चयन अंडर 16 के ट्रायल्स के लिए हो गया था. हालांकि सेलेक्टर्स ने कम उम्र की वजह से उनका चयन नहीं किया. इसके बाद उन्होंने U-14 के लिए बठिंडा में ट्रायल दिया, जहां उनका सिलेक्शन पंजाब टीम के लिए हो गया. 
2022 U19 विश्वकप में भी उदय टीम का हिस्सा रह चुके हैं, हालांकि उस समय वे रिज़र्व प्लेयर के तौर पर टीम के साथ जुड़े हुए थे पर उन्हें खेलने का मौका नहीं मिला था. उदय के पिता संजीव सहारन ही उनके कोच भी हैं, संजीव पेशे से एक आयुर्वेदिक डॉक्टर हैं लेकिन शुरूआती दिनों में वे भी क्रिकेटर बनना चाहते थे लेकिन घर की परिस्थितिओं के चलते वे करियर को ज़्यादा आगे नहीं बढ़ा सके, वे BCCI के लेवल 1 के कोच भी हैं.

यह भी पढ़ें : ICC Under-19 World Cup: साउथ अफ्रीका नहीं हटा पा रही चोकर्स का टैग, भारत ने टूर्नामेंट से किया बाहर

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • 24X7
Choose Your Destination
Close