विज्ञापन
Story ProgressBack

सब्जियों पर महंगाई की मार से किचन का बिगड़ा 'तड़का', टमाटर का दाम 80 पार, आलू-प्याज ने भी निकाले 'आंसू'

Vegetables Price in MP: मध्य प्रदेश में बारिश के चलते लगातार सब्जियां महंगी हो रही हैं. छतरपुर में टमाटर के दाम 80 रुपये प्रति हो गए हैं. इसके साथ ही अन्य सब्जियां भी महंगी हुई हैं. जिसका सीधा असर आम आदमी पर पड़ रहा है.

सब्जियों पर महंगाई की मार से किचन का बिगड़ा 'तड़का', टमाटर का दाम 80 पार, आलू-प्याज ने भी निकाले 'आंसू'
Vegetables Price in MP due to Rain

Expensive Vegetables in Madhya Pradesh: बारिश के सीजन का सबसे ज्यादा असर सब्जियों (Vegetables Price) के दाम में देखना को मिल रहा है. बारिश का सीजन शुरू होने के साथ ही स्थानीय किसानों के खेतों से निकलने वाली सब्जी की आवक कम हो गई है, जिसका सीधा असर सब्जियों की कीमत पर पड़ रहा है. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के छतरपुर (Chhatarpur) में महंगी हो रही सब्जियां आम नागरिक के लिए परेशानी बढ़ा रही हैं. यहां गरीब व मध्यम वर्ग की थाली से धीरे-धीरे सब्जियां कम होती जा रही हैं. लगातार बढ़ रहे सब्जियों के दाम ने किचन का बजट तो बिगाड़ ही रखा है, साथ ही वैवाहिक कार्यक्रमों में भी इसका असर देखा जा रहा है.

Latest and Breaking News on NDTV

बारिश में टमाटर और भी लाल

महंगाई का सबसे ज्यादा असर टमाटर पर देखने को मिला है. गरीब और मध्यम तबके की थालियों से सब्जी का स्वाद बढ़ाने वाला टमाटर अब अलग होता जा रहा है. अगर लौकी, तोरई और भिंडी को छोड़ दिया जाए तो खाने की थाली के अहम प्याज और आलू सहित बाकी सभी सब्जियां 40 रुपये या इससे अधिक कीमत में बिक रही हैं. आधे महीने पहले करीब 20 रुपये प्रति किलो के दाम से बिकने वाला टमाटर वर्तमान में चार गुना बढ़त बनाकर 80 रुपये प्रति किलो की दर से बिक रहा है.

प्याज और आलू के दाम में भी बढ़ोतरी

इसी तरह 15 से 20 रुपये प्रति किलो बिकने वाली प्याज अब 40 रुपये प्रति किलो बिक रही है. वहीं 15 से 20 रुपये प्रति किलो बिकने वाला आलू भी 30 से 40 रुपये के बीच बिक रहा है. सब्जियों में स्वाद डालने वाले टमाटर ने किचन का बजट सबसे ज्यादा बिगाड़ रखा है. स्थानीय किसानों के खेतों से निकलने वाला यही टमाटर एक महीने पहले 10 से 20 रुपये प्रति किलो तक मिल रहा था, जो कि अब 80 रुपये प्रति किलो तक बिक रहा है. बढ़ी महंगाई के कारण गरीब की थाली से टमाटर दूर होता जा रहा है. जो व्यक्ति एक किलो टमाटर खरीद रहा था, वह अब आधा किलो या पाव भर में काम चला रहा है.

सब्जियां बाहर से आने की वजह से अधिक महंगाई

छतरपुर में अधिकतर सब्जियां बाहर से आ रही हैं, जिस कारण सब्जियों के दाम में इजाफा हो रहा है. सब्जी मंडी के थोक विक्रेता इब्बू खान ने इस संबंध में बताया कि यहां टमाटर बैंगलोर से आ रहा है, जबकि आलू इटावा से और प्याज इंदौर से आ रहा है. वहीं धनिया देवास से तो अदरक बरुआ सागर से आ रहा है. अधिकतर सब्जियां बाहर से आने के कारण यह महंगाई देखने को मिली है. भाड़े के साथ-साथ ये सब्जियां जहां से आ रही हैं वहां भी महंगी मिल रही हैं, इस वजह से आम लोगों की जेब पर दोहरी मार पड़ रही है.

प्याज के साथ आलू ने भी निकाले आंसू

टमाटर, आलू और प्याज सब्जियों में प्रमुख हैं. ऐसे में सब्जी का स्वाद बढ़ाने वाला टमाटर दिन प्रतिदिन महंगाई से लाल हो रहा है, तो वहीं सब्जी का राजा कहे जाने वाला आलू भी धीरे-धीरे महंगा हो रहा है. जो आलू 15 से 20 रुपये प्रति किलो मिल रहा था वह अब 30 से 35 रुपये प्रति किलो तक बिक रहा है. इसके साथ ही आंखों में आंसू निकालने वाली प्याज भी धीरे-धीरे और भी ज्यादा महंगी हो रही है.

यह भी पढे़ं - Yug Purush Ashram: फिर विवादों में इंदौर का युग पुरुष आश्रम, इस योजना को लेकर कांग्रेस ने लगाए आरोप

यह भी पढ़ें - MP News: बूंद-बूंद के लिए तरस रहे बुंदेलखंड की बदली कहानी... अब ऐसे पहुंच रहा घर-घर पानी

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
बिना सैलरी के कैसे होगा काम ? MP के इस जिले में सफाई कर्मियों ने जताया विरोध
सब्जियों पर महंगाई की मार से किचन का बिगड़ा 'तड़का', टमाटर का दाम 80 पार, आलू-प्याज ने भी निकाले 'आंसू'
Dead people not able to be carried with four shoulders because of bad road condition in Maihar
Next Article
ऐसी भी क्या मजबूरी थी? शव को नसीब नहीं हुए चार कंधे, तो इस तरह निकली अंतिम यात्रा
Close
;