विज्ञापन
Story ProgressBack

MP News: 'स्त्री-पुरुष श्रृंगार प्रसाधन' पर शोध कर देश की पहली PHD धारक बनी मुस्लिम महिला, जानें इनके बारे में 

Ujjain News: मध्य प्रदेश के उज्जैन की रहने वाली महिला सलमा शाईन स्त्री-पुरुष श्रृंगार प्रसाधन पर शोध कर देश की पहली PHD धारक बन गई है. 

Read Time: 3 mins
MP News: 'स्त्री-पुरुष श्रृंगार प्रसाधन' पर शोध कर  देश की पहली PHD धारक बनी मुस्लिम महिला, जानें इनके बारे में 

Research on men and women cosmetics : मध्य प्रदेश के उज्जैन की रहने वाली महिला सलमा शाईन ने विक्रम विश्वविद्यालय में शोधार्थी ने स्त्री-पुरुष के पारंपरिक और आधुनिक श्रृंगार प्रसाधन, उनकी संस्कृति और साहित्यिक पर शोध कर देश की पहली PHD उपाधि प्राप्त करने का रिकॉर्ड बनाया है. यह उपाधि उन्हें 28 वें दीक्षांत समारोह में दी गई है. 

बचपन से ही इस कला में निपुण हैं सलमा  

तराना निवासी डा सलमा शाईन का पारंपरिक पारिवारिक व्यवसाय चूड़ी का है. लाख, कांच, ब्रास आदि की चूडिय़ों के निर्माण में मनिहार कला का उपयोग किया जाता है. इसलिए डॉ सलमा बचपन से ही इस कला में निपुण हैं. हिन्दी साहित्य में M.A.करने के दौरान प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा के निर्देशन में चूडिय़ों पर किए जाने वाले मनिहार कला पर रिसर्च पेपर लिखा था. इसमें स्त्री-पुरुष के श्रृंगार और मनिहार कला का उल्लेख किया था. इस रिसर्च पेपर को सराहना मिली, तो डॉ सलमा ने प्रो. प्रज्ञा थापक और प्रो. शर्मा के निर्देशन में स्त्री-पुरुष के पारंपरिक श्रृंगार प्रसाधन पर मालवी लोक साहित्य एवं संस्कृति के साथ अनुशीलन करते हुए शोध कार्य प्रारंभ कर चार वर्ष में PHD कर ली.

डॉ सलमा ने बताया कि इसमें महिलाओं के पारंपरिक से आधुनिक समय तक के आभूषण वस्त्र,रूप सौन्दर्य और रूप श्रृंगार सहित पुरुषों के आभूषण घड़ी चेन अंगूठी वस्त्र को शामिल कर यह बताया कि कैसे श्रृंगार बदलता गया और अब किस तरह का श्रृंगार किया जाता है. इसके लिए पारंपरिक से लेकर आधुनिक समय तक स्त्री- पुरुषों द्वारा किए जाने वाले श्रृंगार को केंद्रित रखते हुए प्राचीन समय से प्रयुक्त होने वाली श्रृंगार सामग्री, वस्त्र, आभूषण पर शोध कार्य पूर्ण किया. यही वजह है कि स्त्री-पुरुष श्रृंगार प्रसाधन,उनकी संस्कृति और साहित्यिक अभिव्यक्ति पर शोध कर देश की पहली PHD उपाधि प्राप्त की है.

 ये भी पढ़ें KKR vs LSG: कोलकाता के स्टेडियम में आज होगा रोमांचक मुकाबला, यहां जानें पिच, Prediction और प्लेइंग इलेवन

मनिहार देश की एक मुस्लिम बिरादरी

प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा ने बताया कि मनिहार कला चूडिय़ों, पाटले, बाजूबंद और कंठहार आदि पर होने वाली एक विशेष प्रकार की कला को कहा जाता है. चूडिय़ां महिलाओं के श्रृंगार​​​​​​ प्रसाधन में उपयोग में आती है, इसीलिए श्रृंगार प्रसाधन पर केंद्रित करते हुए शोध कार्य शुरू कराया गया. स्त्री-पुरुष के श्रृंगार पर केंद्रित शोध कार्य संभवत: देश का पहला शोध कार्य है. प्रो. शर्मा ने बताया कि मनिहार हिन्दुस्तान में रहने वाली एक मुस्लिम बिरादरी की जाति है, जिन्हें शीशगर भी कहा जाता है. क्योंकि इनके द्वारा कांच की चूडिय़ां और अन्य सामग्री का निर्माण किया जाता है. इस जाति के लोगों का मुख्य पेशा चूड़ी बनाना और बेचना है. इसलियए इन्हें चूड़ीहार या लखेरा भी कहते हैं. मुख्यत: यह जाति मध्य एशिया से उत्तरी भारत और पाकिस्तान के सिन्ध प्रान्त में रहती है.  नेपाल की तराई क्षेत्र में भी मनिहारों के वंशज मिलते हैं.

ये भी पढ़ें Chhattisgarh: मां गई थी पड़ोस की शादी में, इधर घर में सो रहे 3 बच्चे ज़िंदा जले...पूरी घटना जानकर कांप जाएगा कलेजा

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Assembly By Elections: गोंडवाना पार्टी ने जारी किया अमरवाड़ा सीट से अपने उम्मीदवार का नाम, इस वजह से दिया मौका
MP News: 'स्त्री-पुरुष श्रृंगार प्रसाधन' पर शोध कर  देश की पहली PHD धारक बनी मुस्लिम महिला, जानें इनके बारे में 
Lakes under Amrit Sarovar yojana faces corruption in Satna know the reality
Next Article
MP में चरम पर भ्रष्टाचार, कागजों में ही खोद डाले करोड़ों के तालाब
Close
;