विज्ञापन
Story ProgressBack

दलित थी MP की वो युवती...5 साल लड़ी, भाई-चाचा को खोया पर इंसाफ नहीं मिला

उत्पीड़न की शिकार मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh News) के सागर(Sagar News) की एक 20 साल की दलित युवती इंसाफ की जंग लड़ते-लड़ते जिंदगी की जंग ही हार गई. युवती और उसके परिवार ने इसकी बड़ी कीमत चुकाई है. पहले भाई की मौत हुई फिर चाचा की मौत हुई अब वो खुद काल के गाल में समा चुकी है लेकिन अब भी नहीं मिला तो इंसाफ.

Read Time: 4 mins
दलित थी MP की वो युवती...5 साल लड़ी, भाई-चाचा को खोया पर इंसाफ नहीं मिला

Atrocities on Dalits: पांच साल...लोकतंत्र में ये वो वक्त होता है जिसमें जनता अपनी नई सरकार चुन लेती है,और इसी की कवायद इन दिनों पूरे देश में हो रही है...लेकिन इन्हीं पांच सालों में उत्पीड़न की शिकार मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh News) के सागर(Sagar News) की एक 20 साल की दलित युवती इंसाफ की जंग लड़ते-लड़ते जिंदगी की जंग ही हार गई. युवती और उसके परिवार ने इसकी बड़ी कीमत चुकाई है. पहले भाई की मौत हुई फिर चाचा की मौत हुई अब वो खुद काल के गाल में समा चुकी है लेकिन अब भी नहीं मिला तो इंसाफ. दरअसल दलितों के खिलाफ अपराध के मामले में देश का दिल कहे जाने वाले मध्यप्रदेश का रिकॉर्ड बेहद खराब है.

Latest and Breaking News on NDTV

अब युवती की मौत के मामले को और गहराई से समझते हैं. 20 साल की युवती ने साल 2019 में चार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कराया था. जिसमें उसके साथ यौन उत्पीड़न करने,धमकी देने और हमला करने का आरोप दर्ज था. तब चुनाव का वक्त था तो बीजेपी और कांग्रेस दोनों के ही नेताओं ने उसके पक्ष में बड़े-बड़े दावे किए. तब लगा भी कि युवती को इंसाफ मिलेगा लेकिन जैसे ही चुनाव खत्म हुआ दबंग आरोपी उसे फिर से केस वापसी के लिए धमकाने लगे.

युवती डटी रही, केस वापस नहीं लिया..इसी दौरान एक दिन भीड़ ने उसके भाई को पीट-पीट कर मार डाला. मां अपने बेटे को बचाने आई तो उसे भी निर्वस्त्र करने की कोशिश की गई. इस मामले में नौ लोगों के खिलाफ SC/ST एक्ट के तहत मामला दर्ज हुआ और फिर शुरू हुई एक लंबी कानूनी लड़ाई.

इसके बाद आई 25 मई 2024 की तारीख...जब युवती के चाचा को दबंगों ने समझौते के लिए बुलाया और इसी क्रम में इतना पीटा की इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई. एक बार पुलिस ने पांच लोगों आशिक कुरैशी, बबलू बेना, इजरायल बेना,फहीम खान और टंटू कुरैशी के खिलाफ मामला दर्ज किया और एक आरोपी को गिरफ्तार किया. 
लेकिन लगता है युवती की किस्मत में मुसीबत का कम होना नहीं लिखा था. रविवार को जब वो अपने चाचा के शव को एंबुलेंस में लेकर लौट रही थी तब उसकी भी मौत हो गई. ACP लोकेश सिन्हा के मुताबिक क्या और कैसे हुआ ये तो जांच का विषय है लेकिन ऐसी रिपोर्ट्स हैं कि गांव से 20 किलोमीटर पहले वैन का दरवाजा खुला और वो जंप कर गई. लोकेश के ही मुताबिक युवती के चाचा की मौत भी दो ग्रुपों की आपसी लड़ाई में हुई है. उन्होंने कहा कि जांच के बाद ही पूरी सच्चाई सामने आएगी. 
इस बीच इस मामले में फिर से सियासत गर्मा गई है. कांग्रेस नेता राहुल गांधी, प्रियंका गांधी, दिग्विजय सिंह और जीतू पटवारी ने इसे लेकर मोहन यादव सरकार और नरेन्द्र मोदी सरकार तक को घेरा है और तीखे सवाल पूछे हैं. कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष जीतू पटवारी ने इस मामले में CBI जांच की मांग की है. इन सबके बीच मुख्यमंत्री मोहन यादव पीड़ित परिवार से मिलने उनके घर पहुंचे हैं और इंसाफ का भरोसा दिया है. लेकिन सवाल ये है कि न्याय में देरी का ये अन्याय कब तक होगा?

ये भी पढ़ें: Dalit Suspicious Death: दलित भाई-बहन और चाचा की मौत पर प्रियंका गांधी ने दागे सवाल, PM मोदी से पूछा- 'आपके नारे का क्या हुआ?

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
कैलाश विजयवर्गीय के करीबी नेता की हत्या के दोनों आरोपियों को पुलिस ने मंडीदीप से दबोचा, हो सकते हैं बड़े खुलासे
दलित थी MP की वो युवती...5 साल लड़ी, भाई-चाचा को खोया पर इंसाफ नहीं मिला
Mockery of law in Ashoknagar 1 died after being crushed by a police vehicle
Next Article
अशोकनगर में उड़ा कानून का मखौल ! पुलिस गाड़ी से कुचलकर 1 की मौत
Close
;