विज्ञापन
Story ProgressBack

MP News: 5 लाख लोग और उनके लिए केवल एक आधी- अधूरी मृदा परीक्षण प्रयोगशाला...ऐसे कैसे चलेगा काम

Shivpuri: कृषि विज्ञान केंद्र की प्रयोगशाला की बात करें या फिर मंडी में बनाई गई प्रयोगशाला की. प्रयोगशाला तो कहीं से कहीं तक नजर नहीं आई हां दोनों जगह का रियलिटी चेक करने पर प्रयोगशाला के नाम पर एक कमरा जरूर दिखाई दिया और इस कमरे में सैंपल भी भरे थे.

MP News: 5 लाख लोग और उनके लिए केवल एक आधी- अधूरी मृदा परीक्षण प्रयोगशाला...ऐसे कैसे चलेगा काम
Shivpuri News: मंडी में फसल बेचने आए किसानों से जब NDTV  ने बात की और उनकी मिट्टी परीक्षण के संबंध में जानकारी ली तो हैरान करने वाली जानकारी सामने आ

Madhya Pradesh: मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) कृषि मंत्रालय के अनुसार हर विकासखंड पर एक मृदा परीक्षण प्रयोगशाला का होना जरूरी है और इसके लिए बाकायदा बिल्डिंग भी बना दी गई है लेकिन मध्य प्रदेश के ज्यादातर जिलों में नाम मात्र के लिए ही इस तरह की मृदा परीक्षण प्रयोगशाला मौजूद है. प्रदेश की शिवपुरी जिले (Shivpuri District) की अगर बात करें तो 5 लाख से ज्यादा किसानों की संख्या के बावजूद इस जिले में सिर्फ एक मृदा परीक्षण प्रयोगशाला है. जिसमें एक टेक्नीशियन और एक एमएससी मृदा विशेषज्ञ के अलावा कोई दूसरा मृदा परीक्षण वैज्ञानिक मौजूद नहीं है.

दिख रही है सिर्फ खानापूर्ति

इतना ही नहीं मशीनों की अगर बात करें तो यहां ज्यादातर जांच करना संभव ही नहीं है. क्योंकि एक 15 बाई 15 के कमरे में चलने वाली लैब मे महज परीक्षण की खानापूर्ति की जा रही है. किसानों का कहना है कि आज तक उन्हें कभी कोई मृदा परीक्षण की रिपोर्ट नहीं मिली और सैंपल लेने कोई उनके पास नहीं पहुंचा. अगर गांव वाले किसान खुद अपना मिट्टी का सैंपल लेकर जाते हैं तो विभाग पहले तो उसे लेने से मना कर देता है और अगर लेता भी है तो फिर कहां फेंक देता है कोई नहीं जानता. कुल मिलाकर मृदा परीक्षण के नाम पर सिर्फ खाना पूर्ति ही दिख रही है.

 शिवपुरी जिले में हैं आठ विकासखंड

कृषि विज्ञान केंद्र की प्रयोगशाला की बात करें या फिर मंडी में बनाई गई प्रयोगशाला की. प्रयोगशाला तो कहीं से कहीं तक नजर नहीं आई हां दोनों जगह का रियलिटी चेक करने पर प्रयोगशाला के नाम पर एक कमरा जरूर दिखाई दिया और इस कमरे में सैंपल भी भरे थे, मशीन भी रखी थी और वहीं केमिकल भी पड़े थे. कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिकों ने अपना पल्ला यह कहकर झाड़ दिया कि हमारे यहां लैब स्वीकृत ही नहीं है.

हैरान करने वाली जानकारी आई सामने

मंडी में फसल बेचने आए किसानों से जब NDTV  ने बात की और उनकी मिट्टी परीक्षण के संबंध में जानकारी ली तो हैरान करने वाली जानकारी सामने आई. किसानों ने एक आवाज में आरोप लगाया कि आज तक उन्हें किसी भी मिट्टी परीक्षण की रिपोर्ट नहीं सौंपी गई. नाराज किसानों का कहना है कि जब वह अपनी मिट्टी का सैंपल लेकर  कृषि विभाग के पास जाते हैं तो या तो विभाग उन्हें फेंक देता है या फिर रखकर भी रिपोर्ट नहीं देता और जिस अधिकारी के ऊपर मिट्टी के सैंपल इकट्ठे करने की जिम्मेदारी है. वह अपनी जिम्मेदारी पूरी करने कभी किसानों के पास जाने की जहमत नहीं उठाता.

ये भी पढ़ें Aadhaar-Ration Card Linking: आपका राशन कार्ड आधार से नहीं है लिंक तो इस तारीख तक जरूर कर लें ये काम

ये भी पढ़ें बताइए 400 हैंडपंप को सुधारने के लिए केवल एक प्लंबर! कहीं प्यासे ही ना रह जाए MCB जिले के लोग...

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Ujjain: अखाड़े पर वर्चस्व के लिए संत ने महंत पर किया हमला, केस दर्ज होते ही हुआ फरार 
MP News: 5 लाख लोग और उनके लिए केवल एक आधी- अधूरी मृदा परीक्षण प्रयोगशाला...ऐसे कैसे चलेगा काम
Bhojshala Survey Temple or Mosque in Dhar Bhojshala ASI will present report in High Court today
Next Article
धार के भोजशाला में मंदिर या मस्जिद? आज हाई कोर्ट में रिपोर्ट पेश करेगी ASI की टीम
Close
;