विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Dec 28, 2023

MP News: पन्ना में स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही, नसबंदी के बाद फर्श पर लेटने को मजबूर महिलाएं

Panna News: जनसंख्या नियंत्रण के लिए पन्ना में निशुल्क नसबंदी शिविर लगाया गया. इसके लिए लोगों को प्रोत्साहित भी किया जा रहा है. लेकिन पन्ना जिले में इस शिविर में हो रही लापरवाही से लोगों में नाराजगी है.

MP News: पन्ना में स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही, नसबंदी के बाद फर्श पर लेटने को मजबूर महिलाएं
पन्ना जिले के अजयगढ़ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में नसबंदी कराने के बाद महिलाओं को जमीन पर लेटना पड़ रहा है.

MP News: पन्ना (Panna) जिले के अजयगढ़ सामुदायिक स्वास्थ्य में चल रहे निशुल्क महिला नसबंदी शिविर में लापरवाही सामने आई है. नसबंदी के बाद दर्जनों महिलाओं को कड़ाके की ठंड में फर्श पर लेटने को मजबूर होना पड़ा. लापरवाही यहीं तक नहीं है बल्कि इसी शिविर में एक महिला को बेहोशी का इंजेक्शन लगाकर छोड़ दिया गया. शाम को जब उसे होश आया तो पता चला कि उसका ऑपरेशन हुआ ही नहीं है, इन लापरवाहियों के बाद लोगों में अस्पताल प्रबंधन के प्रति नाराजगी है.

महिला को बेहोश कर छोड़ा

दरअसल अजयगढ़ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में नसबंदी शिविर लगा था. यहां जमुनिहा की महिला लीला भी नसबंदी करवाने आई. बाकायदा उसके ऑपरेशन की भी तैयारियां भी हो गई. नर्स ने इंजेक्शन लगाकर उसे बेहोश किया. दिनभर वह बेहोश पड़ी रही. शाम को उसे होश आया तो पता चला कि उसका ऑपरेशन हुआ ही नहीं है. इसके बाद महिला और उसके परिजनों में नाराजगी देखी गई. 

30 बिस्तरों का है अस्पताल

अजयगढ़ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र 30 बेड का है. अधिकतर बेड पर मरीज होने के कारण नसबंदी कराने आने वाली महिलाओं को कड़ाके की ठंड में फर्श पर लेटने को मजबूर होना पड़ा. इस संबंध में जब खंड चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर केपी राजपूत से बात की गई तो उन्होंने बताया कि एक दिन में अधिकतम 60 महिलाओं की नसबंदी की जा सकती है. इसके लिए एफआरएचएस ने कांट्रैक्ट लिया है. डॉक्टर, नर्सिंग ऑफिसर इत्यादि लगभग सभी व्यवस्थाएं एफआरएचएस के द्वारा ही उपलब्ध कराई जाती हैं. अजयगढ़ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में केवल बेड उपलब्ध कराए जाते हैं. नसबंदी में 1 घंटे का समय लगता है. उसके बाद 3 घंटे तक रेस्ट के बाद महिला को छुट्टी दे दी जाती है. वहीं एफआरएचएस के संदीपन सिंह परिहार ने कहा कि बेड की कमी की वजह से नसबंदी के बाद महिलाओं को फर्श पर लेटना पड़ा, लेकिन उनके लिए गद्दे कंबल इत्यादि की व्यवस्था की गई है.

ये भी पढ़ें - शबनम के 'राम' : मुंबई से पैदल ही अयोध्या के लिए निकली मुस्लिम लड़की, MP के बड़वानी पहुंची

लोगों में नाराजगी 

यही हाल जिला चिकित्सालय पन्ना एवं जिले के अन्य सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों के शिविरों के बताए जा रहे हैं. महिलाओं के परिजनों ने नाराजगी जाहिर करते हुए बताया कि इस प्रकार संवेदनशील कार्य में बरती गई घोर लापरवाही की वजह से महिलाओं के स्वास्थ्य और जिंदगी पर खतरा हो सकता है. जिसे एफआरएचएस अधिकारियों के द्वारा नजर अंदाज किया जा रहा है. कुछ लोगों के द्वारा यह भी कहा गया है कि ऐसी लापरवाही बरतने वालों पर सख्त कार्रवाई होनी चाहिए, ताकि दोबारा इस प्रकार महिलाओं की सुरक्षा एवं जिंदगी से खिलवाड़ ना हो. 

ये भी पढ़ें - पहले शराब पार्टी की, फिर छेड़खानी कर लड़की को कुचलकर मार डाला, खौफनाक वीडियो आया सामने

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
भाजपा पार्षद पर आर्थिक सहायता के बहाने महिला से दुष्कर्म का लगा आरोप, एक्टिव हुई पुलिस
MP News: पन्ना में स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही, नसबंदी के बाद फर्श पर लेटने को मजबूर महिलाएं
167 year old tradition was followed in Rewa Tajia was taken out on the day of Moharram know the history of Moharram month of islam religion
Next Article
रीवा में निभाई गई 167 साल पुरानी परंपरा, मोहर्रम के दिन निकाली गई ताजिया, जानें इन दिन का इतिहास
Close
;