विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Dec 28, 2023

शबनम के'राम ': मुंबई से पैदल ही अयोध्या के लिए निकली मुस्लिम लड़की, MP के बड़वानी पहुंची

मुंबई की रहने वाली शबनम बीते 21 दिसंबर को मुंबई से अयोध्या तक की पैदल यात्रा पर निकली है. उसके साथ हैं उसके साथी रमन राज शर्मा व विनीत पांडे. शबनम को 1425 किलोमीटर की दूरी तय करनी है लेकिन राम की धुन में उसके चेहरे पर थकान नहीं दिखती. उसे अपने मुस्लिम होने पर गर्व है और कहती है- राम की पूजा या उन्हें मानने के लिए हिंदू होना जरूरी नहीं है

शबनम के'राम ': मुंबई से पैदल ही अयोध्या के लिए निकली मुस्लिम लड़की, MP के बड़वानी पहुंची

Madhya Pradesh News: वो लड़की है,मुस्लिम है..लेकिन उसे राम से प्यार है. ये लाइनें पढ़कर आप थोड़ा चौंक सकते हैं लेकिन पूरी कहानी आपको रोमांचित कर देगी. दरअसल मुंबई की रहने वाली शबनम बीते 21 दिसंबर को मुंबई से अयोध्या (Mumbai to Ayodhya) तक की पैदल यात्रा पर निकली है. उसके साथ हैं उसके साथी  रमन राज शर्मा व विनीत पांडे. शबनम (Shabnam) को 1425 किलोमीटर की दूरी तय करनी है लेकिन राम की धुन में उसके चेहरे पर थकान नहीं दिखती. उसे अपने मुस्लिम होने पर गर्व है और कहती है- राम की पूजा या उन्हें मानने के लिए  हिंदू होना जरूरी नहीं है. जरूरत है तो बस एक अच्छा इंसान होने की. फिलहाल शबनम मध्यप्रदेश के बड़वानी जिले (Barwani news ) के सेंधवा पहुंच चुकी है. वे और उनके साथी हर दिन 25-30 किमी का सफर तय करते हैं. भगवान राम की भक्ति में वे इतने रमे हुए हैं कि उन्होंने अयोध्या पहुंचने की अपनी कोई तारीख निश्चित नहीं की है. लगता है कि उन्होंने अपना सूत्र वाक्य बना रखा है- होइहि सोइ जो राम रचि राखा. 
 

Latest and Breaking News on NDTV

फिलहाल शबनम और उनके साथियों की सोशल मीडिया पर खूब चर्चा हो रही है. शबनम से जब सवाल किया गया तो वो कहती हैं- मैं अपनी यात्रा से दो ही संदेश देना चाहती हूं. पहला तो ये भगवान राम सबके हैं. वे किसी जाति-धर्म में बंधे नहीं हैं. वे भारत ही नहीं पूरी दुनिया के हैं. दूसरा शबनम बताना चाहती हैं कि लड़कियां भी किसी से कम नहीं. वे भी लड़कों की तरह पैदल यात्रा कर सकती हैं. वे ये भ्रम तोड़ना चाहती हैं कि कोई अमुक काम कोई लड़का ही कर सकता है. शबनम ने जब से यात्रा शुरू की है तब से उन्हें पुलिस की सुरक्षा मिली हुई है.

महाराष्ट्र में कुछ संवेदनशील इलाकों में जब वे फंस गईं थीं तो पुलिस ने उन्हें बाहर निकाला और मध्यप्रदेश तक पहुंचाया. पुलिस ही उनके खाने और ठहरने का भी इंतजाम करती है. वे अपनी यात्रा को लेकर बहुत उत्साहित हैं.

उनका कहना है कि यात्रा के दौरान उन्हें सोशल मीडिया पर कुछ नफरती कमेंट मिले हैं लेकिन ज्यादातर लोग इसे पॉजिटिव ले रहे हैं. वे भगवा झंडे को हाथ में लेकर चल रही हैं तो कई बार रास्ते में मिलने वाले मुस्लिम समुदाय के लोग उन्हें सलाम करने करने के साथ-साथ जय श्री राम भी कहते हैं. वे बताती हैं कि लोगों को ये मान रहे हैं कि 22 जनवरी को अयोध्या में रामलला की मूर्ति स्थापित होगी तब हमलोग भी अयोध्या में पहुंच जाएंगे. लेकिन ये सच नहीं है हमने ऐसी कोई तारीख निश्चित नहीं की है. 

/ये भी पढ़ें: रामनगरी अयोध्या भेजा जाएगा छत्तीसगढ़ से 300 टन चावल, भगवान श्रीराम को लगेगा भोग

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
बिना सैलरी के कैसे होगा काम ? MP के इस जिले में सफाई कर्मियों ने जताया विरोध
शबनम के'राम ': मुंबई से पैदल ही अयोध्या के लिए निकली मुस्लिम लड़की, MP के बड़वानी पहुंची
Dead people not able to be carried with four shoulders because of bad road condition in Maihar
Next Article
ऐसी भी क्या मजबूरी थी? शव को नसीब नहीं हुए चार कंधे, तो इस तरह निकली अंतिम यात्रा
Close
;