विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Dec 04, 2023

Dabra Assembly Seat: डबरा सीट पर 15 सालों में लगातार 5वीं बार कांग्रेस का कब्जा, सिंधिया की प्रतिष्ठा को लगा झटका

ग्वालियर जिले के डबरा विधानसभा सीट पर कांग्रेस के सुरेश राजे की जीत हुई है. जबकि इस सीट पर ज्योतिरादित्य सिंधिया की करीबी और कट्टर समर्थक इमरती देवी को हार का सामना करना पड़ा है.

Dabra Assembly Seat: डबरा सीट पर 15 सालों में लगातार 5वीं बार कांग्रेस का कब्जा, सिंधिया की प्रतिष्ठा को लगा झटका
सुरेश राजे कांग्रेस डबरा सीट ग्वालियर

Madhya Pradesh Election Results 2023: मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के रिजल्ट में बीजेपी की बड़ी जीत हुई है. बीजेपी ने यहां 163 विधानसभा सीटों पर जीत हासिल कर प्रचंड बहुमत हासिल किया है. हालांकि, मध्य प्रदेश में एक ऐसी विधानसभा सीट है जिसपर कांग्रेस का एकछत्र राज है जिसे बीजेपी 15 सालों से हिला नहीं सकी है. इस सीट का नाम है डबरा विधानसभा सीट जिस पर ज्योतिरादित्य सिंधिया की प्रतिष्ठा भी दांव पर लगी थी. सिधिंया ने इस सीट को बीजेपी के पाले में करने की पूर जोर कोशिश की लेकिन आखिरकार सिंधिया की प्रतिष्ठा को झटका लगा. 

दरअसल, ग्वालियर जिले के डबरा विधानसभा सीट पर कांग्रेस के सुरेश राजे की जीत हुई है. जबकि इस सीट पर ज्योतिरादित्य सिंधिया की करीबी और कट्टर समर्थक इमरती देवी को हार का सामना करना पड़ा है. हालांकि, दोनों की बीच कांटे की टक्कर थी. इससे पहले 2020 में भी सुरेश राजे ने इमरती देवी को हराया था. जबकि इमरती देवी डबरा सीट पर पहले 10 साल राज कर चुकी है.

सुरेश राजे और इमरती देवी ने बदला पाला फिर भी जीत कांग्रेस के पक्ष में

डबरा सीट पर कहानी कुछ दिलचस्प है. इस सीट पर इमरती देवी ने साल 2008, 2013 और 2018 में लगातार तीन बार जीत हासिल की है. हालांकि, उस वक्त तक इमरती देवी कांग्रेस से चुनाव लड़ रही थी. साल 2018 में इमरती देवी के सामने बीजेपी के कप्तान सिंह सहसारी की चुनौती थी. लेकिन इमरती देवी ने प्रचंड जीत हासिल की. इससे पहले 2013 में इमरती देवी के सामने बीजेपी से सुरेश राजे मैदान में थे.

2018 में कांग्रेस के प्रत्याशी इमरती देवी को 90598 वोट मिले थे. जबकि, बीजेपी उम्मीदवार कप्तान सिंह सहसारी को 33152 वोट हासिल हो सके थे, और वह 57446 वोटों से हार गए थे.

हालांकि, 2020 में जब ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस छोड़ा तो इमरती देवी ने भी विधायक पद से इस्तीफा दे दिया और बीजेपी में शामिल हो गई. वहीं, सुरेश राजे ने बीजेपी का साथ छोड़ कांग्रेस का हाथ थाम लिया. इसके बाद जब 2020 में डबरा सीट पर उपचुनाव हुआ तो सियासत बदल चुकी थी. अब सुरेश राज कांग्रेस से थे और इमरती देवी बीजेपी से मैदान में थी. तब जीत सुरेश राजे की हुई.

अब 2023 के विधानसभा चुनाव में भी सुरेश राजे और इमरती देवी के बीच जबरदस्त टक्कर दिखी. लेकिन आखिरकार सुरेश राजे ने इमरती देवी को 2267 वोटों से हरा दिया. सुरेश राजे को 84717 और इमरती देवी को 82450 वोट मिले.

यह भी पढ़ेंः मध्यप्रदेश में बीजेपी को मिली बंपर जीत तो शिवराज के 12 मंत्री चुनाव क्यों हारे?

डबरा सीट पर आखिरी बार बीजेपी ने 2003 में जीत हासिल की थी

डबरा सीट पर 2008 से कांग्रेस का राज है लेकिन जब इस सीट पर नरोत्तम मिश्रा बीजेपी की ओर से जब भी मैदान में उतरे उन्होंने जीत हासिल की है. नरोत्तम मिश्रा डबरा सीट से साल 1990, 1998 और 2003 में तीन बार जीत हासिल की है. हालांकि 2023 में नरोत्तम मिश्रा दातिया सीट से चुनाव लड़ रहे थे वहां उन्हें 7742 वोट से कांग्रेस के भारती राजेंद्र से हार का सामना करना पड़ा.

यह भी पढ़ेंः Madhya Pradesh Election Results : BJP की सुनामी, ग्वालियर-चंबल में आखिर क्यों जीत से चूक गए 8 सिंधिया समर्थक?

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Union Budget: ऐसे देख सकते हैं बजट 2024 की घोषणा का सीधा प्रसारण, जानें पूरी डिटेल
Dabra Assembly Seat: डबरा सीट पर 15 सालों में लगातार 5वीं बार कांग्रेस का कब्जा, सिंधिया की प्रतिष्ठा को लगा झटका
Prayag Kumbh Mela Ujjain Akhada Parishad president said entry of saints who do not perform religious activities is prohibited, one Mahamandaleshwar expelled
Next Article
Ujjain News: धार्मिक कार्य नहीं करने वाले संतों का कुंभ में प्रवेश वर्जित, एक महामंडलेश्वर निष्कासित
Close
;