विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Jan 13, 2024

धर्म को राजनीति से ना जोड़ें... दिग्विजय के भाई की नसीहत पर कमलनाथ ने दिया जवाब

दिग्विजय सिंह के छोटे भाई लक्ष्मण सिंह ने न्यूज एजेंसी एएनआई को एक बयान दिया था. इसमें उन्होंने कहा था कि जो लोग राम मंदिर आंदोलन में लड़े, वे स्पष्ट रूप से प्राण प्रतिष्ठा के संबंध में निर्णय लेंगे. उन्होंने निर्णय ले लिया है.

धर्म को राजनीति से ना जोड़ें... दिग्विजय के भाई की नसीहत पर कमलनाथ ने दिया जवाब
दिग्विजय के भाई की नसीहत पर कमलनाथ ने दिया जवाब

Kamalnath News: मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) के छोटे भाई और पूर्व विधायक लक्ष्मण सिंह के बयान पर अब पूर्व सीएम कमलनाथ (Former CM Kamalnath) ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी है. कमलनाथ (Kamalnath) ने कहा कि सबकी अपनी-अपनी राय हो सकती है. धर्म का राजनीतिकरण नहीं होना चाहिए. धर्म को राजनीति से ना जोड़ें. 

कमलनाथ शनिवार सुबह भोपाल के कोलार रोड पर आयोजित श्रीमद भागवत कथा एवं रूद्राभिषेक कार्यक्रम में हुए शामिल थे. इस दौरान उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि भारत विश्व की सबसे बड़ी आध्यात्मिक शक्ति है. भारत सनातन धर्म का देश है. यही भावनाएं हम सबको बल और शक्ति देती हैं.

Latest and Breaking News on NDTV

यह भी पढ़ें : 'तिल संक्रांति' के लिए तैयार महाकौशल और बुंदेलखंड, जानें शनि और सूर्य भगवान से जुड़ी मान्यता

लक्ष्मण सिंह ने पार्टी को दी नसीहत

दिग्विजय सिंह के छोटे भाई लक्ष्मण सिंह ने न्यूज एजेंसी एएनआई को एक बयान दिया था. इसमें उन्होंने कहा था कि जो लोग राम मंदिर आंदोलन में लड़े, वे स्पष्ट रूप से प्राण प्रतिष्ठा के संबंध में निर्णय लेंगे. उन्होंने निर्णय ले लिया है. जहां तक निमंत्रण का सवाल है, इसे अस्वीकार करने का क्या मतलब है. हम क्या संदेश दे रहे हैं. जब राजीव गांधी ने ताला खुलवाया था तो आप कौन होते हैं इसे अस्वीकार करने वाले. 

यह भी पढ़ें : गाली से गोली तक... कलेक्टर के जाते ही भिड़े पूर्व और वर्तमान सरपंच, पूरे गांव के शस्त्र लाइसेंस सस्पेंड

'लोकसभा चुनाव में दिखाई देगा नुकसान'

उन्होंने कहा कि अगर हमारा नेतृत्व ऐसे सलाहकारों को रखता है तो परिणाम वहीं होंगे जो अब तक आए हैं. लक्ष्मण सिंह ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने मंदिर का ताला खुलवाया था, ऐसे में निमंत्रण अस्वीकार करने का क्या मतलब है. उन्होंने कहा कि इससे नुकसान होगा जो आगामी लोकसभा चुनाव में दिखाई देगा.

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
बिना सैलरी के कैसे होगा काम ? MP के इस जिले में सफाई कर्मियों ने जताया विरोध
धर्म को राजनीति से ना जोड़ें... दिग्विजय के भाई की नसीहत पर कमलनाथ ने दिया जवाब
Dead people not able to be carried with four shoulders because of bad road condition in Maihar
Next Article
ऐसी भी क्या मजबूरी थी? शव को नसीब नहीं हुए चार कंधे, तो इस तरह निकली अंतिम यात्रा
Close
;