विज्ञापन
Story ProgressBack

चुनाव से पहले कमलनाथ को सबसे बड़ा झटका, 4 दशक पुराने साथी दीपक सक्सेना ने थामा बीजेपी का दामन

लोकसभा चुनाव से ठीक पहले मध्यप्रदेश कांग्रेस और खासकर कमलनाथ को बड़ा झटका लगा है. करीब 4 दशकों से कमलनाथ के साथ रहे और उनके कट्टर समर्थक माने जाने वाले दीपक सक्सेना (Deepak Saxena) ने अब बीजेपी का दामन थाम लिया है. उन्होंने मुख्यमंत्री मोहन यादव (Mohan Yadav)की मौजूदगी में सीएम आवास में ही बीजेपी की सदस्यता ग्रहण की.

Read Time: 3 mins
चुनाव से पहले कमलनाथ को सबसे बड़ा झटका, 4 दशक पुराने साथी दीपक सक्सेना ने थामा बीजेपी का दामन
CM मोहन यादव की मौजूदगी में पूर्व मंत्री दीपक सक्सेना ने बीजेपी की सदस्यता ग्रहण की.

Lok Sabha Elections 2024: लोकसभा चुनाव से ठीक पहले मध्यप्रदेश कांग्रेस (Madhya Pradesh Congress) और खासकर कमलनाथ (Kamal Nath) को बड़ा झटका लगा है. करीब 4 दशकों से कमलनाथ के साथ रहे और उनके कट्टर समर्थक माने जाने वाले दीपक सक्सेना (Deepak Saxena) ने अब बीजेपी का दामन थाम लिया है. उन्होंने मुख्यमंत्री मोहन यादव (Mohan Yadav)की मौजूदगी में बीजेपी कार्यालय में बीजेपी की सदस्यता ग्रहण की. दीपक ने कहा कि अब आगे भविष्य बीजेपी का है और कांग्रेस का अब कोई भविष्य बचा नहीं है तो ऐसे में जरूरी हो जाता है कि बीजेपी में ही चला जाए.

सैकड़ों कार्यकर्ताओं के साथ दीपक सक्सेना ने बीजेपी की सदस्यता ली

सैकड़ों कार्यकर्ताओं के साथ दीपक सक्सेना ने बीजेपी की सदस्यता ली

दीपक सक्सेना ने कुछ दिनों पहले कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दिया था. इससे पहले बीते 21 मार्च को दीपक सक्सेना के पुत्र अजय सक्सेना भी बीजेपी में शामिल हुए थे. दीपक सक्सेना की नाराजगी के बाद कांग्रेस की ओर से उन्हें मनाने के भी प्रयास किए गए थे. गुरुवार को खुद कमलनाथ रोहाना जाकर दीपक सक्सेना से मिले थे. दोनों के बीच बंद कमरे में काफी देर तक चर्चा भी हुई लेकिन कमलनाथ उन्हें मनाने में सफल नहीं हो सके. इससे पहले नकुलनाथ की छिंदवाड़ा में हुई रैली दीपक नहीं शामिल हुए थे. दीपक सक्सेना कांग्रेस के वरिष्ठ नेता माने जाते थे और कमलनाथ सरकार में प्रदेश में मंत्री भी रह चुके हैं.शुक्रवार को  बीजेपी ज्वाइन करने से पहले वो उनके सैकड़ों समर्थक कई गाड़ियों के काफिले के साथ भोपाल पहुंचे थे. दीपक सक्सेना के साथ करीब 400 कार्यकर्ताओं ने बीजेपी ज्वाइन किया है. दीपक सक्सेना राज्य में 4 बार मंत्री रह चुके हैं. ऐन चुनाव से पहले उनके बीजेपी में शामिल होने को कमलनाथ के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है. 

इससे पहले जब उनसे पत्रकारों ने सवाल किया तो उन्होंने कहा कि 44 साल काफी लंबा वक्त होता है. मैंने एक लंबा समय कमलनाथ के साथ बिताया है लिहाजा उन्हें छोड़ने का दुख तो है. लेकिन इलाके के विकास के लिए अब बीजेपी की जरूरत है. हालांकि नकलुनाथ के चुनाव जीतने के सवाल पर वे बचते नजर आए. उन्होंने कहा कि छिंदवाड़ा (Chhindwara Lok Sabha seat) में कौन चुनाव जीतेगा ये तो 4 जून को ही पता चलेगा.  

ये भी पढ़ें: Khajuraho Lok Sabha Seat: गठबंधन को झटका, BJP को वॉक ओवर! विष्णु सिलेक्ट मीरा रिजेक्ट, इस कारण रद्द हुआ नामांकन

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Crime: सास ने बहू को कहा सिर्फ यह एक शब्द, तो बहू ने दी ऐसी सजा कि सुनकर कांप जाएगी रूह
चुनाव से पहले कमलनाथ को सबसे बड़ा झटका, 4 दशक पुराने साथी दीपक सक्सेना ने थामा बीजेपी का दामन
ceremony of MPL Before 2 people were murdered in Gwalior know how the double murder happened amidst high security
Next Article
MPL के उद्धाटन समारोह से पहले ग्वालियर में 2 लोगों की हत्या, जानें हाई सिक्युरिटी के बीच कैसे हुआ डबल मर्डर?
Close
;