विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Sep 05, 2023

इंदौर : सरकारी विद्यालय के शिक्षकों ने खुद चंदा करके गरीब बच्चों के लिए बनाई 'स्मार्ट' क्लास

विद्यालय की प्रभारी सोनाली डगांवकर ने बताया कि 'स्मार्ट' कक्षा में बच्चे बड़े उत्साह से पढ़ते हैं. उन्होंने बताया कि 'स्मार्ट' कक्षा में दृश्य-श्रव्य माध्यम से पढ़ाए जाने के कारण विद्यालय की कक्षा एक में दाखिला लेने वाले बच्चों की तादाद में इजाफा हुआ है.

Read Time: 3 mins
इंदौर : सरकारी विद्यालय के शिक्षकों ने खुद चंदा करके गरीब बच्चों के लिए बनाई 'स्मार्ट' क्लास
शिक्षकों ने खुद चंदा करके गरीब बच्चों के लिए बनाई 'स्मार्ट' कक्षा
इंदौर:

इंदौर के बिजलपुर क्षेत्र के शासकीय प्रायोगिक माध्यमिक विद्यालय का नजारा आम सरकारी स्कूलों से काफी अलग है. इस विद्यालय के शिक्षक-शिक्षिकाओं ने गरीब परिवारों के नौनिहालों को निजी स्कूलों की तर्ज पर दृश्य-श्रव्य माध्यम से बेहतर शिक्षा देने के लिए खुद चंदा करके ‘‘स्मार्ट'' कक्षा तैयार की है.

‘‘स्मार्ट''कक्षा की तैयार

विद्यालय के प्राथमिक शिक्षक पीयूष दुबे ने सोमवार को ‘‘पीटीआई-भाषा'' को बताया, ‘‘एक बार मैं अपने लैपटॉप की मदद से बच्चों को पढ़ा रहा था. मैंने देखा कि खासकर पहली और दूसरी कक्षा के बच्चे लैपटॉप से पढ़ने में खास रुचि ले रहे हैं. इससे हम शिक्षक-शिक्षिकाओं के मन में बच्चों के लिए स्मार्ट कक्षा तैयार करने का विचार आया.'' उन्होंने बताया कि विद्यालय के शिक्षक-शिक्षिकाओं ने करीब 23,000 रुपये का चंदा करके प्रोजेक्टर, चार स्पीकर का सेट आदि खरीदा है और ‘‘स्मार्ट'' कक्षा तैयार की है.

ये भी पढ़ें- 30 वर्ष तक नहीं ली एक भी छुट्टी, मिलिए नंगे पैर चलने वाले इन शिक्षक से...क्या है कहानी

दाखिला लेने वाले बच्चों की तादाद में हुआ इजाफा 

विद्यालय की प्रभारी सोनाली डगांवकर ने बताया कि 'स्मार्ट' कक्षा में बच्चे बड़े उत्साह से पढ़ते हैं. उन्होंने बताया कि 'स्मार्ट' कक्षा में दृश्य-श्रव्य माध्यम से पढ़ाए जाने के कारण विद्यालय की कक्षा एक में दाखिला लेने वाले बच्चों की तादाद में इजाफा हुआ है. विद्यालय की प्राथमिक शिक्षिका वंदना परमार जोर देकर कहती हैं कि सरकारी विद्यालयों में पढ़ने वाले बच्चे मेधा और प्रतिभा के मामले में निजी स्कूलों के विद्यार्थियों से कतई कम नहीं हैं, बशर्ते उन्हें सही रास्ता दिखाया जाए. उन्होंने कहा, ‘‘हम स्मार्ट कक्षा के जरिये अपने सरकारी विद्यालय के बच्चों को पढ़ाई का बेहतर माहौल देने की कोशिश कर रहे हैं.''

प्रोजेक्टर से पढ़ना बच्चों को लग रहा अच्छा

बिजलपुर क्षेत्र में करीब 300 विद्यार्थियों वाले इस माध्यमिक विद्यालय में पढ़ने वाले ज्यादातर बच्चे गरीब परिवारों के हैं और जाहिर है कि उनके परिजन निजी स्कूलों की महंगी फीस का बोझ नहीं उठा सकते. विद्यालय के बच्चों का कहना है कि ब्लैक बोर्ड के बजाय प्रोजेक्टर पर पढ़ने में न केवल उन्हें मजा आ रहा है, बल्कि वे कक्षा में पढ़ाए जाने वाले सबक को ज्यादा अच्छे से समझ भी पा रहे हैं. कक्षा दो के छात्र फैजान ने अपनी तुतलाती जुबान में कहा, ‘‘हमें प्रोजेक्टर से पढ़ने में बड़ा मजा आता है. हम प्रोजेक्टर से अ-आ-इ-ई (हिन्दी वर्णमाला), गिनती-पहाड़े आदि सीखते हैं. मुझे बड़ा होकर अपने विद्यालय की शिक्षिका जैसा बनना है.'' 

ये भी पढ़ें- Janmashtami 2023: जन्माष्टमी पर इन 5 खूबसूरत मंदिरों में करें दर्शन, दिखती है खास रौनक

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
PM College of Excellence: इंदौर से केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह 55 जिलों में करेंगे शुभारंभ, जानिए क्यों खास हैं ये संस्थान
इंदौर : सरकारी विद्यालय के शिक्षकों ने खुद चंदा करके गरीब बच्चों के लिए बनाई 'स्मार्ट' क्लास
IMD weather forecast Meteorological Center Bhopal issued an alert of heavy rain and lightning in Madhya Pradesh, know how to protect yourself
Next Article
MP Weather News: भारी बारिश और बिजली गिरने को लेकर IMD ने जारी किया अलर्ट, कैसे करें खुद का बचाव
Close
;