विज्ञापन
Story ProgressBack

छात्रों ने खोली गड़बड़ी की पोल तो यूनिवर्सिटी ने डराने के लिए अपनाया ये हथकंडा

Madhya Pradesh Gwalior News in Hindi : छात्रों ने परीक्षा जांच को लेकर जब यूनिवर्सिटी पर सवाल खड़ा किया तो यूनिवर्सिटी प्रशासन ने इस पर अंकुश लगाने की बजाय उल्टा छात्रों को ही डराने का तरीका अपना लिया.

Read Time: 3 mins
छात्रों ने खोली गड़बड़ी की पोल तो यूनिवर्सिटी ने डराने के लिए अपनाया ये हथकंडा
छात्रों ने खोली गड़बड़ी की पोल तो यूनिवर्सिटी ने डराने के लिए अपनाया ये हथकंडा

Gwalior Jiwaji News : मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के ग्वालियर की जीवाजी यूनिवर्सिटी (Gwalior Jiwaji University) से हैरान करने वाला मामला सामने आया है. छात्रों ने परीक्षा जांच को लेकर जब यूनिवर्सिटी पर सवाल खड़ा किया तो यूनिवर्सिटी प्रशासन ने इस पर अंकुश लगाने की बजाय उल्टा छात्रों को ही डराने का तरीका अपना लिया. दरअसल, जीवाजी के छात्रों ने यूनिवर्सिटी पर सवाल उठाया कि वो परीक्षा की कॉपी की जांच में गड़बड़ी कर रही है. इसके बाद छात्रों ने RTI के माध्यम से इसका खुलासा किया तो यूनिवर्सिटी प्रशासन ने विरोध कर रहे छात्रों को डराने के लिए अजीबोगरीब हथकंडा अपना लिया.

यूनिवर्सिटी ने अपनाया ये तरीका

अपनी करतूत का भंडाफोड़ होने और छात्रों के विरोध किए जाने पर यूनिवर्सिटी ने बच्चों के माता-पिता को पत्र लिख कर उन्हें बुलाने की प्रक्रिया शुरू कर दी. इससे छात्रों का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया और वो जमकर उबल पड़े. इसी कड़ी में छात्रों ने यूनिवर्सिटी में हंगामा करते हुए अधिकारियों को जमकर खरी खोटी सुनाई. दरअसल, छात्रों ने NSUI (National Students' Union of India) के नेतृत्व में जीवाजी विश्वविद्यालय में कॉपी चैकिंग में की जा रही गड़बड़ी को लेकर आंदोलन किया था. इसमें उन्होंने RTI से कॉपी निकाली थी जिसमें साफ हो गया कि यह कॉपियां गलत तरीके से चैक की जा रही हैं जिससे छात्र असंतुष्ट हैं. 

इसे लेकर NSUI के विश्वविद्यालय अध्यक्ष पारस यादव ने कहा कि हम लोगों ने इस प्रक्रिया को चैलेंज करने के लिए कोर्ट में जाने की भी बात कही थी. इसके बाद छात्रों पर प्रेशर बनाने के लिये B.P.Ed के 11 छात्रों के पैरेंट्स को लेटर भेज कुलसचिव और कुलपति ने 28तारीख  को मिलने बुलाया.

कुलसचिव और कुलपति पर गिरी गाज

इधर, आज इसी मुद्दे पर चर्चा करने के लिए अध्यक्ष NSUI के जीवाजी विश्वविद्यालय अध्यक्ष पारस यादव डायरेक्टर फिजिकल डिपार्टमेंट से मिलने पहुंचे लेकिन वो नहीं मिले. उसके बाद वे छात्रों और पेरेंट्स को लेकर कुलसचिव ऑफिस पहुंचे. वहां पर उन्होंने राजीव मिश्रा से बात की कि यह लेटर किस ऑर्डिनेंस के तहत भेजे गए है? छात्रों के पैरेंट्स को तो वो जवाब नहीं दे पाए जिससे साफ़ देखा जा सकता है कि कुलपति और कुलसचिव बच्चों पर दबाव बनाकर कोर्ट जाने से रोकने का काम कर रहे है जिससे इनके गड़बड़ियां सामने न आ पाए. बता दें कि इस मौके पर जीवाजी विश्वविद्यालय अध्यक्ष की तरफ से चेतावनी दी गई है अगर किसी छात्र को कुछ हुआ तो इसका ज़िम्मेदार कुलसचिव और कुलपति होंगे.

ये भी पढ़ें : 

लुटेरी दुल्हन ! शादी के बाद दूल्हे से करती थी ये ज़िद, बात मनवाकर हो जाती थी गायब

बॉस ने किया रेप तो लड़की ने ऑफिस में की खुदकुशी... WhatsApp चैट ने खोले राज

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Crime: सास ने बहू को कहा सिर्फ यह एक शब्द, तो बहू ने दी ऐसी सजा कि सुनकर कांप जाएगी रूह
छात्रों ने खोली गड़बड़ी की पोल तो यूनिवर्सिटी ने डराने के लिए अपनाया ये हथकंडा
ceremony of MPL Before 2 people were murdered in Gwalior know how the double murder happened amidst high security
Next Article
MPL के उद्धाटन समारोह से पहले ग्वालियर में 2 लोगों की हत्या, जानें हाई सिक्युरिटी के बीच कैसे हुआ डबल मर्डर?
Close
;