विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Jul 27, 2023

मध्य प्रदेश- छत्तीसगढ़ में 'आई फ्लू' का कहर, अस्पताल में पहुंच रहे हज़ारों केस

अक्सर देखा जाता है कि बारिश के मौसम में लोगों को ऐसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है. इस बार यह क्रम ज़्यादा देखने को मिल रहा है.

Read Time: 4 mins
मध्य प्रदेश- छत्तीसगढ़ में 'आई फ्लू' का कहर, अस्पताल में पहुंच रहे हज़ारों केस
फाइल फोटो

राज्य में आई फ्लू का संक्रमण बढ़ता ही जा रहा है. बीते एक सप्ताह से अस्पतालों में सैकड़ों केस आ रहे हैं. मरीज आई फ्लू से परेशान होकर अस्पताल के चक्कर काट रहे हैं. मौसम में नमी के कारण आंखों का संक्रमण तेजी से फैल रहा है. गांव-गांव यह बीमारी इन दिनों देखने को मिल रही है. वायरस के कारण आंखें लाल हो रहीं हैं, साथ ही सूजन तथा चिपचिपा पदार्थ निकलने के प्रकरण सामने आ रहे हैं. अधिकांश मरीजों के आंखों में जलन या खुजली हो रही है.  प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता, सुबह पलकों पर पपड़ी जमने सहित कई परेशानियां देखने को मिल रही हैं.

h7i2kug

जिला चिकित्सालय छतरपुर, मध्य प्रदेश

अक्सर देखा जाता है कि बारिश के मौसम में लोगों को ऐसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है. इस बार यह क्रम ज़्यादा देखने को मिल रहा है. स्वास्थ्य विभाग की ओर से आई फ्लू के लक्षण बताए गए हैं. उसमें आंखें लाल होना व पलकों में सूजन होना, आंखों में दर्द, कंकड़ जैसी चुभन होना, पानी बहना, सवेरे उठते समय आंखें चिपक जाना, प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता बढ़ जाना (फोटोफोबिया) और दृष्टि में धुंधलापन होना लक्षण है. इसकी रोकथाम के लिए बरसात के मौसम में गंदे पानी से आंखें नहीं धोएं, बरसात के पानी से आंखों को बचा कर रखें. 

सीएमएचओ डॉ एलके तिवारी ने बताया कि आई फ्लू के केस सतना में काफी आ रहे हैं. लिहाजा जिला कार्यक्रम प्रबंधक अंधत्व नियंत्रण समिति का जिम्मा  प्रशासकीय कार्य सुविधा की दृष्टि से वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी डां. पीके श्रीवास्तव को सौंपा गया है. लोगों को सलाह दी जा रही है कि वे विभाग द्वारा जारी की गई एडवाइजरी का पालन करें. वैसे यह बीमारी चार से पांच दिन में ठीक हो रही है। ऐसे में किसी प्रकार से घबराने की कोई आवश्यकता नहीं है.

मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में पिंक आई इंफेक्शन (कंजक्टिवाइटिस) नई बीमारी ने दस्तक दी है. यहां बीमारी पिंक आई इंफेक्शन (कंजक्टिवाइटिस) तेजी से फैल रही है. शुरुआती लक्षण में आंखों में चुभन के साथ 24 घंटे के अंदर पानी बहने से लेकर आंखें लाल होने तक की स्थिति में पीड़ित मरीज हॉस्पिटल पहुंच रहे हैं. स्वास्थ्य विभाग के जिला चिकित्सालय मैं पदस्थ डॉक्टर रचना चौरसिया नेत्र रोग  विशेषज्ञ ने अलर्ट जारी किया है. और बताया की जिला अस्पताल के आई वार्ड में रोज करीब 300 मरीज इस बीमारी को लेकर इलाज कराने पहुंचे रहे हैं. वहीं पर प्राइवेट में डॉक्टरों के पास कई जगह लगभग 500 मरीजों पहुंच रहे हैं छतरपुर जिले यह संक्रमण एक से दूसरे व्यक्ति के संपर्क मे आने के कारण हो रहा है.

qrldpkfo

जिला चिकित्सालय सतना, मध्य प्रदेश

1 साल से लेकर 60 साल तक के व्यक्ति इस बीमारी के संपर्क में ज्यादा आ रहे हैं. स्वास्थ्य विभाग ने सभी हेल्थ सेंटरों को अलर्ट कर दिया है. लोगों को सावधान रहने की सलाह दी जा रही है. इसके बावजूद संक्रमण तेजी से फैल रहा है. यह संक्रमण 10 से 18 साल तक के बच्चों को ज्यादा प्रभावित कर रहा. स्वास्थ्य विभाग ने स्कूलों में भी अलर्ट जारी किया है.

जिला अस्पताल के नेत्र सर्जन डॉ. रचना चौरसिया  ने बताया कि पिंक आई एक तरह का वायरल इंफेक्शन है, जो तेजी से फैलता है. यह मौसम परिवर्तन व नमी की वजह से होता है. इससे पीड़ित मरीजों का आंख लाल होना,आखों में दर्द, खुजली, सुजन, जैसी लक्षण रहते हैं, इसे ठीक होने में 5 से 6 दिन का समय लगता हैं. 

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Spark Award: पीएम स्ट्रीट वेंडर योजना में मध्य प्रदेश पहले स्थान पर, आज दिल्ली में मिलेगा सम्मान
मध्य प्रदेश- छत्तीसगढ़ में 'आई फ्लू' का कहर, अस्पताल में पहुंच रहे हज़ारों केस
Mumbai Interactive session on investment opportunities in Madhya Pradesh CM Mohan Yadav will meet one-to-one with industrial representatives
Next Article
MP में निवेश बढ़ाने के लिए CM मोहन यादव कल जाएंगे मुंबई, इंटरेक्टिव सेशन में इनसे करेंगे बात
Close
;