विज्ञापन
Story ProgressBack

जब 8वीं के छात्र नहीं पढ़ पाएंगे हिंदी... तो MP में कैसे होगा शिक्षा का विकास ?

Educational Crisis in MP : शहडोल (Shahdol) जिले में शिक्षा का स्तर इस कदर गिरा हुआ है कि सरकारी मिडिल स्कूल के कक्षा 7वीं और 8वीं के ज़्यादातर बच्चे ठीक से हिंदी की किताब भी नही पढ़ पाये.

जब 8वीं के छात्र नहीं पढ़ पाएंगे हिंदी... तो MP में कैसे होगा शिक्षा का विकास ?
जब 8वीं के छात्र नहीं पढ़ पाएंगे हिंदी... तो MP में कैसे होगा शिक्षा का विकास ?

Madhya Pradesh News in Hindi : शहडोल (Shahdol) जिले में शिक्षा का स्तर इस कदर गिरा हुआ है कि सरकारी मिडिल स्कूल के कक्षा 7वीं और 8वीं के ज़्यादातर बच्चे ठीक से हिंदी की किताब भी नही पढ़ पाये. शहडोल के कमिश्नर बी एस जामोद ने आज जिले के स्कूलों की अचानक निरीक्षण का फैसला किया. इस दौरान जब वो पंचगांव स्कूल गए तो वहां पर पढ़ाई का जो स्तर देखने को मिला उसे देखकर अब हर कोई हैरान है. दरअसल,  शहडोल जिले में शिक्षा सत्र की सुरुआत होते ही अधिकारियों के निरीक्षण से गायब रहने वाले शिक्षकों पर सस्पेंशन की गाज गिरनी शुरू हो गई है.

100 में 12 का भाग नहीं निकाल पाए बच्चे

शहडोल जिले के पंचगांव मिडिल स्कूल में आज शहडोल कमिश्नर बी एस जामोद ने अचानक निरीक्षण किया. शिक्षा सत्र की शुरुआत में ही स्कूल से 3 शिक्षक गायब मिले जिन्हें कमिश्नर ने तत्काल सस्पेंड कर दिया. शिक्षिको की मनमानी पर उन्हें सस्पेंड किया गया. वहीं, पढ़ाई का निम्न स्तर होने पर हेड मास्टर भी सस्पेंड हो गए. जानकारी के ली लिए बता दें कि इस मिडिल स्कूल में 9 शिक्षक पदस्थ है. जब स्कूल में मौजूद 7वीं और 8वीं के बच्चे सही ढंग से हिंदी की किताब भी नही पड़ पाए.... तो बच्चो से 100 में 12 का भाग देने के लिए कहा गया लेकिन क्लास का एक भी बच्चा इसे हल करके नहीं दिखाया.

ये भी पढ़ें : 

MP में दम तोड़ रही शिक्षा व्यवस्था, बिन स्कूल झोपड़ी में पढ़ने को मजबूर बच्चे 

कमिश्नर के आदेश के बाद काटी गई सैलरी

शिक्षा का स्तर दयनीय निम्न स्तर होने पर हेडमास्टर साब भी निलंबन की चपेट में आ गए. कल हुए प्रवेश उत्सव में विद्यालय के शिक्षकों ने अभिवावकों को भी नहीं बुलाया था. ये बातें भी बच्चो से पूछने पर सामने आई. वहीं, हाइस्कूल बन्धवाबड़ा में स्कूल में शिक्षक तो मौजूद रहे लेकिन बच्चे एक भी नहीं आये थे. प्रवेश उत्सव की समुचित जानकारी और की गई गतिविधियो के बारे में कोई ठोस जबाब न देने पर कमिश्नर ने स्कूल में मौजूद तीनों शिक्षको का एक दिन का वेतन काटने के निर्देश दिए. जबकि निरीक्षण में होस्टल में भी काफी अनियमितता देखने को मिली.

ये भी पढ़ें : 

खंडहर में तब्दील हो रहा स्कूल... सालों से मरम्मत का इंतजार, जोखिम में बच्चों की जान

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
बिना सैलरी के कैसे होगा काम ? MP के इस जिले में सफाई कर्मियों ने जताया विरोध
जब 8वीं के छात्र नहीं पढ़ पाएंगे हिंदी... तो MP में कैसे होगा शिक्षा का विकास ?
Dead people not able to be carried with four shoulders because of bad road condition in Maihar
Next Article
ऐसी भी क्या मजबूरी थी? शव को नसीब नहीं हुए चार कंधे, तो इस तरह निकली अंतिम यात्रा
Close
;