विज्ञापन
Story ProgressBack

पैसों के लिए सरसों में कंकड़ की मिलावट, मुनाफाखोरों पर प्रशासन ने कसा शिकंजा

Madhya Pradesh Bhind News : इन खरीदी केंद्रों पर किसानों से अच्छी सरसों खरीदकर वेयर हाउस भेजने से पहले सरसों में कचरा की भारी मिलावट की जाती थी.... ताकि इसमें से अच्छी सरसों निकालकर इसका वजन बढ़ा दिया जाए.

Read Time: 4 mins
पैसों के लिए सरसों में कंकड़ की मिलावट, मुनाफाखोरों पर प्रशासन ने कसा शिकंजा
पैसों के लिए सरसों में कंकड़ की मिलावट, मुनाफाखोरों पर प्रशासन ने कसा शिकंजा

Madhya Pradesh News in Hindi : भिण्ड जिले की मौ मंडी में दो सरकारी खरीदी केंद्र पर कलेक्टर की छापेमारी पर एक बड़ी गड़बड़ी का मामला सामने आया है. इन खरीदी केंद्रों पर किसानों से अच्छी सरसों खरीदकर वेयर हाउस भेजने से पहले सरसों में कचरा की भारी मिलावट करते थे.... ताकि इसमें से अच्छी सरसों निकालकर इसका वजन बढ़ा दिया जाए. कलेक्टर ने कचरा की बोरियों से भरा एक ट्रैक्टर जब्त किया है. साथ ही, एक पार्षद समेत दो अलग-अलग लोगों के घर से भी बड़ी मात्रा में कचरे की बोरियां बरामद की गई हैं. सभी जगह से 600 से अधिक कचरा की बोरी मिल चुकीं. हालांकि इस मामले में जांच की जा रही है.

किसानों से सरसों लेकर मिलावट

दरअसल छैकुरी और जमदारा के खरीदी केंद्र में मौ कस्बे की मंडी में संचालित हैं. इन केंद्रों पर जो सरसों किसानों से खरीदी गई है, उसमें रात के समय कचरा मिलाकर वजन बढ़ाया जा रहा था. यह शिकायत कलेक्टर संजीव श्रीवास्तव को मिली, जिसके बाद कलेक्टर ने रात में ही मौ तहसीलदार माला शर्मा को जांच के लिए मौके पर भेजा. हालांकि तहसीलदार को रात में इसमें कचरा नजर नहीं आया. उन्होंने दोनों खरीदी केंद्र पर रखी सरसों का सेंपल भरवा लिया. यहां से रात में सरसों हटा न दी जाए, इसलिए तहसीलदार ने कर्मचारियों की ड्यूटी लगा दी. इसके बाद दूसरे दिन दोपहर में कलेक्टर संजीव श्रीवास्तव और गोहद SDM पराग जैन पहुंचे.

कलेक्टर ने दिए जांच के आदेश

कलेक्टर ने देखा कि जो सरसों मिली है उसमें बड़ी तादाद में कचरा था. कलेक्टर ने वीर सिंह यादव और पार्षद संजीव यादव के घर जांच कराई, तो इन दोनों लोगों के यहां कचरे की बोरियां भरी मिलीं. वीर सिंह यादव के यहां 250 बोरी बरामद की गई. करीब इतनी ही बोरी कचरा पार्षद संजीव यादव के घर में मिला. इसके अलावा नगर परिषद के पास खड़े एक ट्रैक्टर को भी जब्त किया गया है. इस ट्रैक्टर में 100 से 150 बोरी कचरा भरा है. एक पार्षद समेत दो अलग-अलग लोगों के घर से भी बड़ी मात्रा में कचरे की बोरियां बरामद की गई हैं. सभी जगह से 600 से अधिक कचरा की बोरी मिल चुकीं. घरों में भरकर रखी कचरा की बोरियां से सरसों के सैंपल जांच के लिए भेजे दिए थे.

अब तक 56 लाख का घपला

कलेक्टर की इस छापामार कार्रवाई के बाद हुई जांच में सामने आया कि अब तक सरसों में एक हजार क्विंटल मिट्टी-कंकड़ मिलाया जा चुका है. इसमें समिति प्रबंधक व अन्य लोगों ने मिलकर 56 लाख रुपए से ज्यादा की चपत लगा दी है. इस घपले की वजह से किसानों का भुगतान भी अटक सकता है. वहीं, जिन तीन वेयर हाउस में सरसों का भंडारण किया गया था. उन्हें फिलहाल बंद करा दिया गया है. सोमवार को मामले में जांच के लिए कृषि विभाग, सहकारिता विभाग और विपणन विभाग की संयुक्त टीम जांच के लिए मौ गई.

जांच रिपोर्ट पर उठे सवाल

इस टीम ने जमदारा, बैंकुरी के अलावा देहगवां के खरीदी केंद्र से भी सैंपल भरे. यह केंद्र गिर्राज वेयर हाउस के बगल में ही संचालित है. यहीं से खरीदी के बाद सीधे सरसों को वेयर हाउस में रखवा दिया जाता है. संयुक्त जांच टीम ने मंगलवार को अपनी रिपोर्ट कलेक्टर को सौंप दी है. इस जांच रिपोर्ट में मात्र 10 प्रतिशत मिलावट पाई गई. ये रिपोर्ट संदेह के दायरे में आ गई. खुद कलेक्टर भी संदेह जता रहे हैं. कलेक्टर का कहना है कि वे सैंपल को दोबारा से जांच के लिए भेजेंगे. क्योंकि इसमें कचरा ज़्यादा था. वहीं, पूरे मामले में अब तक समिति प्रबंधकों के खिलाफ कार्रवाई नहीं हो सकी है. इसलिए कि DDA ने तीन दिन बीतने के बाद भी मामले की रिपोर्ट कलेक्टर को नहीं सौंपी.

ये भी पढ़ें : 

बलौदा बाजार सेक्स स्कैंडल का मास्टरमाइंड फरार, अब कोर्ट ने जमानत पर लगाई रोक  

बॉस ने किया रेप तो लड़की ने ऑफिस में की खुदकुशी... WhatsApp चैट ने खोले राज

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
जबलपुर में गोवंश का सिर मिलने से सनसनी, जांच के दायरे में 4 युवक
पैसों के लिए सरसों में कंकड़ की मिलावट, मुनाफाखोरों पर प्रशासन ने कसा शिकंजा
MP News: Despite CM's instructions, Excise Commissioner gave three days' time to Som Group
Next Article
CM के निर्देश के बावजूद आबकारी आयुक्त ने सोम ग्रुप को दिया तीन दिन का समय, बाल श्रम मामले में 4 अधिकारी हो चुके हैं सस्पेंड
Close
;