विज्ञापन
Story ProgressBack

बकरी का लालच नहीं आया काम... अब पाइप लाइन से तेंदुए को ऐसे निकालेगा वन विभाग, जानिए रेस्क्यू प्लान

Wildlife News: देवास के डीएफओ पीके मिश्रा का कहना है कि उज्जैन की रेस्क्यू टीम पहुंच गई है. साथ ही ऑटोमेटिक पिंजरा भी बुलाया गया है. जिसे पाइपलाइन के मुहाने पर लगाया जाएगा, यदि फिर भी मादा तेंदुआ अपने शावकों के साथ पिंजरे में नहीं आती है तो उसे टेक्सुलाइज कर रेस्क्यू किया जाएगा.

Read Time: 3 mins
बकरी का लालच नहीं आया काम... अब पाइप लाइन से तेंदुए को ऐसे निकालेगा वन विभाग, जानिए रेस्क्यू प्लान

Forest Department Leopard Rescue Operation: मध्य प्रदेश के देवास में 48 घंटे बाद भी वन विभाग का रेस्क्यू ऑपरेशन (Forest Department Rescue Operation) सफल नहीं हो सका, पाइप लाइन (Pipeline) में फंसी मादा तेंदुआ अंदर मछलियां खाकर पेट भर रही है. इसलिए वह बाहर नहीं आ रही है. नर्मदा-पार्वती लिंक परियोजना (NARMADA-PARVATI LINK PROJECT) की पाइप लाइन में तीन शावकों के साथ घुसी मादा तेंदुआ कई घंटों की मशक्कत के बाद भी बाहर नहीं आ रही है. मादा तेंदुआ व उसके शावकों को पाइप से निकालने के लिए वन विभाग (Forest Department Team) की टीम ने पाइप के मुहाने पर पिंजरा रखकर उसमें बकरी का बच्चा बांधा है. इसके बावजूद भी मादा तेंदुआ व उसके शावक बाहर नहीं आए हैं.

कहां का है मामला?

ग्राम बुरुट व किलोदा के बीच नर्मदा-पार्वती लिंक परियोजना की पाइप लाइन डालने का काम चल रहा है. उपसरपंच जितेंद्र पटेल के खेत से निकलने वाली पाइप लाइन के बाहर कुछ दिन पहले मजदूरों ने मादा तेंदुए को तीन शावकों के साथ देखा था. इसके बाद वन विभाग को सूचना दी गई थी. रेंजर सृजन जाधव वन अमले के साथ मौके पर पहुंचे. इस दौरान मादा तेंदुआ शावकों के साथ पाइप के अंदर चली गई. तब से अब तक वह बाहर नहीं आई है.

मादा तेंदुआ का ध्यान आकर्षित करने के उद्देश्य से पाइपलाइन के बाहर पिंजरा रखकर उसमें बकरी के बच्चे को बांधा गया ताकि शिकार के बहाने मादा तेंदुआ पिंजरे में प्रवेश करे, लेकिन उसके बाद भी वन विभाग को सफलता नहीं मिल पा रही है.

क्यों बाहर नहीं आ रही है?

इसके पीछे कई कारण हैं एक बात यह भी है कि जब तक शावक शिकार करने नहीं लग जाते तब तक मादा तेंदुआ उन्हें अपने से दूर नहीं करती. अभी शावकों का फीडिंग का भी समय चल रहा है. साथ ही जिस पाइप लाइन में वह रुकी है, वहां पानी भरा हुआ है. ग्रामीण बता रहे हैं कि उसमें मछलियां भी हैं, तेंदुए को जब भूख लगती है तो वह मछलियां भी मारकर खा लेती है. इसी के चलते वह बाहर नहीं आ रही है. उसने काफी सोच समझ कर उक्त स्थान को अपना प्राकृतिक स्थान बना लिया है. ट्रैप कैमरे लगे हैं, टीम लगातार निगरानी कर रही है.

वन विभाग के अधिकारी का क्या कहना है?

देवास के डीएफओ पीके मिश्रा का कहना है कि उज्जैन की रेस्क्यू टीम पहुंच गई है. साथ ही ऑटोमेटिक पिंजरा भी बुलाया गया है. जिसे पाइपलाइन के मुहाने पर लगाया जाएगा, यदि फिर भी मादा तेंदुआ अपने शावकों के साथ पिंजरे में नहीं आती है तो उसे टेक्सुलाइज कर रेस्क्यू किया जाएगा.

यह भी पढ़ें : वन विभाग के एक्पर्ट्स हुए नाकाम, सांप मित्र ने कर दिया बड़ा काम, फिर तेंदुए पकड़ने पर मिला ईनाम

यह भी पढ़ें : Forest Department में 15 साल से जमे हैं वनकर्मी, वन क्षेत्रपाल से असिस्टेंट डायरेक्टर तक की जिम्मेदारी

यह भी पढ़ें : छत्तीसगढ़ में 44.21 % हिस्से में जंगल फिर क्यों पड़ रही है रिकॉर्डतोड़ गर्मी ?

यह भी पढ़ें : MP में दिग्गज हैं पर दिल्ली में वैल्यू हुई कम, पुराने कांग्रेसियों को पार्टी ने ही कैंपेन में नहीं दिया महत्व

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
वीरता पुरस्कार पाने पर मिली जमीन का सरकार ने 14 साल तक नहीं दिया पट्‌टा, अब High Court ने लगायी फटकार
बकरी का लालच नहीं आया काम... अब पाइप लाइन से तेंदुए को ऐसे निकालेगा वन विभाग, जानिए रेस्क्यू प्लान
MP News: Budget of economic prosperity-You can also contribute in Viksit Bharat-Viksit Madhya Pradesh, send your suggestions here by this date, Deputy Chief Minister MP
Next Article
MP News: विकसित भारत-विकसित मध्यप्रदेश में आप भी दे सकते हैं योगदान, इस तारीख तक यहां भेजे सुझाव
Close
;