विज्ञापन
Story ProgressBack

Indian Railways: क्या है कवच, जिसकी बंगाल रेल हादसे के बाद एक बार फिर से हो रही है चर्चा

Kavach: इस टेकनोलॉजी को लागू करने में समय लगने का मुख्य कारण यह है कि इसे लागू करना एक जटिल प्रक्रिया है. विशेष रूप से इसलिए क्योंकि इसे रेलगाड़ियों के शेड्यूल को बाधित किए बिना मौजूदा नेटवर्क पर स्थापित किया जाना है.

Indian Railways: क्या है कवच, जिसकी बंगाल रेल हादसे के बाद एक बार फिर से हो रही है चर्चा
रंगापानी में हुआ था भयानक रेल हादसा

Bengal Train Accident: कोलकाता (Kolkata) में अगरतला से सियालदह (Sealdah) जा रही कंचनजंगा एक्सप्रेस (Kanchanganga Express) न्यू जलपाईगुड़ी के पास रंगापानी के पास 17 जून को एक मालगाड़ी (Freight Train) से टकरा गई थी. इसमें कुल 11 लोगों की मौत हो गई थी. इससे ठीक एक साल पहले, 2 जून को, कोलकाता से चेन्नई (Chennai) जा रही कोरोमंडल एक्सप्रेस (Coromandel Express) ओडिशा के बालासोर के पास एक मालगाड़ी से टकरा गई थी, जिसमें 296 लोग मारे गए थे. दोनों दुर्घटनाओं का कारण टक्कर थी, जिन्हें कवच (Kavach in Trains) नामक एक स्वदेशी रूप से विकसित तकनीक द्वारा रोका जा सकता था, जो दोनों मामलों में काम नहीं कर रही थी. यहां ध्यान देने वाली बात यह है कि इस प्रणाली की स्थापना जटिल है, विशेष रूप से इसलिए क्योंकि इसे रेलगाड़ियों की आवाजाही में बाधा डाले बिना मौजूदा नेटवर्क पर ही स्थापित किया जाना है.

क्या है कवच प्रणाली (What is Kavach in Trains)

कवच रेलवे के अनुसंधान डिजाइन और मानक संगठन (RDSO) द्वारा बनाई गई एक इलेक्ट्रॉनिक प्रणाली है जिसका उद्देश्य तेज गति और सिग्नल विफलता जैसे खतरों को रोककर शून्य दुर्घटनाएँ प्राप्त करना है. यदि ट्रेन चालक विफल हो जाता है या ऐसा करने में असमर्थ होता है, तो यह प्रणाली स्वचालित रूप से ब्रेक लगाता है, जिससे यह दुर्घटनाओं के खिलाफ एक महत्वपूर्ण सुरक्षा बन जाता है. कवच एक सेफ्टी इंटीग्रिटी लेवल 4 (SIL-4) प्रमाणित तकनीक है, जिसमें त्रुटि की संभावना 10,000 वर्षों में एक बार होती है. कवच दुनिया की सबसे सस्ती स्वचालित ट्रेन टक्कर सुरक्षा प्रणाली भी है, जिसके संचालन की लागत 50 लाख रुपये/किमी है. दुनिया भर में इसकी लागत लगभग 2 करोड़ रुपये/किमी है.

रोकी जा सकती थी रंगापानी घटना (Rangapani Accident Reason)

विशेषज्ञों का मानना ​​है कि कवच भले ही तीसरी ट्रेन के शामिल होने के कारण बालासोर दुर्घटना को रोकने में सक्षम न रहा हो, लेकिन इससे रंगापानी दुर्घटना को रोका जा सकता था. कवच की तैनाती के लिए टावरों की स्थापना, ट्रैक पर ऑप्टिकल फाइबर केबल बिछाने और ट्रैक पर रेडियो फ्रीक्वेंसी टैग लगाने की जरूरत है. इसके अलावा, सिस्टम को हर एक लोकोमोटिव और स्टेशन में एकीकृत करने की आवश्यकता होती है, जो काफी जटिल प्रक्रिया है.

ये भी पढ़ें :- खंडवा में सुबह-सुबह कांपी धरती, 3.6 तीव्रता के भूकंप के झटके हुए महसूस, CCTV में कैद हुई घटना

इन रूटों पर लग चुकी है कवच

भारतीय रेलवे ने बीते कुछ महिनों में कवच की तैनाती में प्रगति की है. अब तक इसे 1,465 किलोमीटर रेल मार्गों और दक्षिण मध्य रेलवे के 144 इंजनों में लागू किया जा चुका है. दिल्ली-मुंबई और दिल्ली-हावड़ा के उच्च घनत्व वाले रूट पर इसे स्थापित करने का काम चल रहा है, जो लगभग 3,000 किलोमीटर के रूट को कवर करेगा. 4,055 किलोमीटर पर फाइबर ऑप्टिक केबल बिछाए जाने, 356 टेलीकॉम टावरों और 273 स्टेशनों और 301 इंजनों में अन्य उपकरण लगाए जाने के साथ काम में काफी प्रगति हुई है. 

ये भी पढ़ें :- Anna Samvardhan Abhiyan: सीएम मोहन यादव ने दी प्रदेश के किसानों को बड़ी सौगात, इस योजना को दिखाई हरी झंडी

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
NEET UGC NET Protest: परीक्षाओं में गड़बड़ी को लेकर MP कांग्रेस का धरना, एकजुटता दिखाने की भी हुई कोशिश
Indian Railways: क्या है कवच, जिसकी बंगाल रेल हादसे के बाद एक बार फिर से हो रही है चर्चा
Public Examination Act 2024 Fine of Rs 1 crore 10 years jail Anti paper leak law implemented what provision
Next Article
Public Examination Act: 1 करोड़ का जुर्माना, 10 साल की जेल... लागू हुआ एंटी पेपर लीक कानून, जानें क्या है प्रावधान?
Close
;