विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Aug 26, 2023

ग्वालियर : गंभीर मरीजों को रेफर न करें प्राइवेट अस्पताल, मेडिकल कॉलेज के डीन ने लिखा अजीबोगरीब पत्र

ग्वालियर के गजराराजा मेडिकल कॉलेज ने एक अलग तरह का और अजीबोगरीब फरमान जारी किया है. डॉक्टरों ने सीएमएचओ से कहा है कि वे इस बात की व्यवस्था करें कि गंभीर मरीज मेडिकल कॉलेज रेफर न किए जाएं क्योंकि यहां मरणासन्न मरीज भेजे जा रहे हैं.

Read Time: 5 mins
ग्वालियर : गंभीर मरीजों को रेफर न करें प्राइवेट अस्पताल, मेडिकल कॉलेज के डीन ने लिखा अजीबोगरीब पत्र
मेडिकल कॉलेज के डीन ने सीएमएचओ को लिखा अजीबोगरीब पत्र

ग्वालियर : जब कोई व्यक्ति बीमार होता है तो वह सबसे पहले पास के डॉक्टर को दिखाता है. अगर वहां से राहत नहीं मिलती तो किसी नर्सिंग होम या जिला अस्पताल में जाता है. जब वहां इलाज करने वाले डॉक्टरों को लगता है कि मरीज की हालत गंभीर है और उसे विशेषज्ञों से इलाज की जरूरत है तो वे उसे मेडिकल कॉलेज रेफर करते हैं. मकसद सिर्फ इतना होता है कि मरीज की जान बचाने की हर संभव कोशिश की जाए. लेकिन ग्वालियर के गजराराजा मेडिकल कॉलेज ने एक अलग तरह का और अजीबोगरीब फरमान जारी किया है. डॉक्टरों ने सीएमएचओ से कहा है कि वे इस बात की व्यवस्था करें कि गंभीर मरीज मेडिकल कॉलेज रेफर न किए जाएं क्योंकि यहां मरणासन्न मरीज भेजे जा रहे हैं. सीएमएचओ कह रहे हैं कि यह अजीबोगरीब बात है कि मरणासन्न मरीजों को रेफर न किया जाए? गंभीर मरीज तो मेडिकल कॉलेज से जुड़े जेएएच भेजे ही जाएंगे.

अब इस विवाद की पूरी कहानी जान लेते हैं. दरअसल ग्वालियर में गजराराजा मेडिकल कॉलेज है जिसके अधीन जेएएच समूह में कई अस्पताल आते हैं. जेएएच में केवल ग्वालियर, चम्बल ही नहीं बल्कि यूपी और राजस्थान तक से मरीज इलाज कराने आते हैं. पिछले दिनों गजराराजा मेडिकल कॉलेज के डीन अक्षय निगम ने ग्वालियर जिले के मुख्य एवं जिला चिकित्सा अधिकारी को एक अजीबोगरीब पत्र लिखा. इसमें उन्होंने लिखा है कि अस्पतालों खासकर निजी अस्पतालों की ओर से बिना किसी सूचना की जयारोग्य अस्पताल समूह के लिए मरीज रेफर कर दिए जाते हैं. उन मरीजों की स्थिति बेहद नाजुक और मरणासन्न होती है. इसलिए निजी अस्पतालों के संचालक अपने मरीज को रेफर करने से पहले सहमति के लिए संबंधित विभाग के डॉक्टरों से पहले संपर्क जरूर करें. मेडिकल कॉलेज के डीन की ओर से लिखे गए इस पत्र को लेकर अब बवाल मच गया है. 

यह भी पढ़ें : ग्वालियर: बदमाशों ने CRPF जवान के साथ की मारपीट, CCTV फुटेज आया सामने

मरीज के परिजन लगाते हैं गंभीर आरोप

मेडिकल कॉलेज के डीन अक्षय निगम ने स्वीकार किया कि उन्होंने ऐसा पत्र लिखा है. हालांकि वह कहते हैं कि इसके पीछे की भावना समझने की कोशिश नहीं की जा रही है. वह कहते हैं कि कोरोना काल से यह चला आ रहा है कि बिना किसी रेफरेंस और बिना कारण के मरीज सीधे-सीधे भर्ती हो रहे हैं. ऐसे मरीज भर्ती हो रहे हैं जो निजी अस्पतालों में कई दिनों से भर्ती थे और इन मरीजों को निजी अस्पताल गंभीर स्थिति या मरणासन्न हालत में रेफर कर रहे हैं. जब परिजन गंभीर हालत में मरीज को लेकर जयारोग्य अस्पताल आते हैं तो इलाज के दौरान उनकी मौत हो जाती है या वे रास्ते में ही दम तोड़ देते हैं. ऐसे में उन परिजनों को नहीं पता होता है कि उनकी मौत का कारण क्या है और फिर वे गंभीर आरोप लगाते हैं.

यह भी पढ़ें : काले धन पर दामाद ने ससुर की खोली पोल, शिकायत पर 4 साल की जेल, 1 करोड़ का लगा जुर्माना

'ऐसे पत्र काफी गंभीर और चिंतनीय'

दूसरी तरफ डीन की ओर से उन्हें लिखे गए पत्र को लेकर सीएमएचओ डॉक्टर आरके राजोरिया ने आपत्ति जताई है. सीएमएचओ कहते हैं, 'हालांकि मुझे अभी पत्र मिला नहीं है लेकिन मीडिया के जरिए जो पता चला है उससे लगता है जिस तरीके से उस पत्र में लिखा है वह व्यावहारिक नहीं है. जिस तरीके से उन्होंने कहा है उसका कार्यान्वयन करना संभव नहीं है. कोई भी आदेश जारी कर प्रतिबंध लगाने से पहले उसके परिणामों पर गौर करना बहुत जरूरी होता है और उसके दुष्परिणामों को भी देखना चाहिए. जब कोई मरीज गंभीर होता है तो उसे रेफर किया जाता है. जिस तरीके से मेडिकल कॉलेज प्रबंधन की ओर से जो आदेश जारी किए गए हैं वे काफी गंभीर और चिंतनीय हैं. पत्र मिलने पर व्यक्तिगत तौर पर डीन से मिलकर बात करेंगे.'

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
बहन की ननद के साथ आरोपी ने किया गंदा काम, दोस्त से बनवाया था वीडियो, शादी के बाद फिर कर दिया ये
ग्वालियर : गंभीर मरीजों को रेफर न करें प्राइवेट अस्पताल, मेडिकल कॉलेज के डीन ने लिखा अजीबोगरीब पत्र
MP News Social media friendship cost the girl dearly, mp policeshe raped her after promising marriage... case registered
Next Article
MP News: सावधान! सोशल मीडिया की दोस्ती युवती को पड़ी भारी, शादी का झांसा देकर दोस्त ने किया दुष्कर्म... मामला दर्ज
Close
;