विज्ञापन
Story ProgressBack

NDTV Exclusive : 20 सालों से नक्सलियों के कब्जे में था ये गांव, अब पोलिंग बूथ बना तो भाड़े की गाड़ियां लेकर वोट डालने पहुंच गए ग्रामीण 

Loksabha Election: छत्तीसगढ़ के बस्तर लोकसभा क्षेत्र के नक्सलियों के कब्जे में रहे कई गांवों में पहली बार वोटिंग हुई है. कल तक मतदान पर जहां लाल आतंक का पहरा था, उसी गांव में लाल आतंक का बैरियर को तोड़कर लोग मतदान करने के लिए पहुंचे. दुर्गम रास्तों, IED के खतरों, घने जंगल को पार कर NDTV की टीम भी इस गांव में पहुंची. पढ़िए लाल आतंक के गढ़ में भारी पड़े लोकतंत्र की ये Exclusive रिपोर्ट... 

Read Time: 4 mins

पालनार गांव में वोट देने पहुंचे ग्रामीण.

Loksabha Election 2024: छत्तीसगढ़ के बस्तर में इस लोकसभा चुनाव (Loksabha Election) में ऐसे गांवों में भी वोटिंग हुई है, जो सालों से नक्सलियों के कब्जे में थे और वीरान पड़े हुए थे, उनमें से एक है बीजापुर (Bijapur) का गांव पालनार.  यहां जब पहली बार पोलिंग बूथ बना और ग्रामीणों को पता चला कि गांव में वोटिंग होगी तो कोई पैदल चलकर तो कोई वाहनों में सवार होकर वोट डालने पहुंच गया. ये तब सम्भव हो पाया जब यहां सुरक्षा बलों का कैम्प खुला है. 

ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा

साल 2005 को शुरू हुए सलवा जुडूम के बाद बस्तर में कई गांव खाली हो गए. नक्सलियों ने ऐसा कहर बरपाया कि ग्रामीणों को अपनी सम्पति, मवेशी, ज़मीन-जायदाद सबकुछ छोड़कर जान बचाकर भागना पड़ा. ये ग्रामीण शहर के आसपास के इलाकों या कैम्पों में रहने लगे. नक्सलियों के खौफ के कारण गांव वापस नहीं आए. लेकिन अब दो दशक बाद जब गांव में सुरक्षा बलों का कैम्प खुला तो ग्रामीणों की आस फिर से जाग गई. इस लोकसभा चुनाव में पहली बार इस गांव में पोलिंग बूथ बनाकर यहीं वोटिंग कराने का प्रशासन ने बीड़ा उठाया और ये सफल भी हुआ. जब गांव के रहवासियों को इस बात की जानकारी मिली तो उनकी ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा और वे शुक्रवार को पोलिंग बूथ में वोट डालने पहुंच गए. 

ये भी पढ़ें NDTV Exclusive: 'नक्सलियों के काल' IG सुंदरराज से खास बातचीत, बताया - कैसे 3 साल में ढेर किए 100 से ज़्यादा नक्सली

दुर्गम रास्तों, जंगलों बेहद कठिन रास्तों को पार कर NDTV की टीम भी चुनावी माहौल को जानने के लिए इस गांव में पहुंची. नक्सलगढ़ होने के कारण चप्पे-चप्पे पर जवानों का पहरा था. हम यहां बने पोलिंग बूथ पहुंचे तो वोटिंग के लिए लगी ग्रामीणों की लंबी लाइन यहां बदल रहे हालातों का सुखद अहसास करा रही थी.  
Latest and Breaking News on NDTV

यहां बड़ी संख्या में महिलाएं पेड़ के नीचे बैठकर अपनी बारी का इंतज़ार कर रही थी. जिन्होंने वोट दे दिया वो अपनी उंगली पर लगे अमिट स्याही को दिखाकर बेहद उत्साहित दिख रही थी. 

दरअसल बीजापुर जिले का ये गांव उन 600 बदनसीब गांव में शामिल था, जो सलवा जुडूम में उजड़ गए थे. वीरान हो चुके इस गांव में हाल में सुरक्षा बलों ने कैम्प स्थापित किया. नतीजा यह की 20 सालों के बाद यहां मतदान सम्भव हो पाया है. 

ये भी पढ़ें Loksabha Election के बीच बीजापुर में नक्सलियों ने किया ब्लास्ट, CRPF के असिस्टेंट कमांडेंट घायल

अपने गांव में वोट देकर खुश दिखे ग्रामीण 

इस गांव में वोट डालने के लिए पहुंचे ग्रामीण वोटर्स ने बताया कि वोट देकर हमें बहुत ख़ुशी हो रही है. इस बार हमने भी लोकतंत्र के इस महापर्व में बड़ी भूमिका निभाई है. 20 सालों से ये गांव वीरान पड़ा था. कैम्प खुलने के बाद यहां पहली बार वोट हो रहा है. ग्रामीणों ने बताया कि कई लोग विस्थापित होकर दूसरे गांवों में बसे हैं. यहां पोलिंग बूथ की जानकारी मिली तो  वे भाड़े पर ऑटो, पिकअप व अन्य वाहनों से लगभग 30 किमी दूर वोट करने पहुंचे. अपने ही गांव में डेढ़ दशक बाद वोटिंग करने पर गामीणो की खुशी का ठिकाना नहीं था. साथ ही सुरक्षा में मौजूद CRPF के जवानों ने इलाके से जुड़ी चुनौती को कैमरे पर बेबाकी से व्यक्त किया. 

ये भी पढ़ें : सुरक्षाबलों की ये रणनीति आई काम, 15 घंटे में ऐसे मार गिराए 29 नक्सली

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
बलौदा बाजार हिंसा पर सरकार का एक्शन, तत्कालीन एसपी-कलेक्टर निलंबित, न्यायिक जांच आयोग का हुआ गठन
NDTV Exclusive : 20 सालों से नक्सलियों के कब्जे में था ये गांव, अब पोलिंग बूथ बना तो भाड़े की गाड़ियां लेकर वोट डालने पहुंच गए ग्रामीण 
Police arrested the prisoner escaped from the Central Jail of Ambikapur 
Next Article
Chhattisgarh : बहन के घर आराम फरमा रहा था सेंट्रल जेल का फरार कैदी, पुलिस ने घेराबंदी कर किया गिरफ्तार 
Close
;