विज्ञापन
Story ProgressBack

Koriya: खदान से निकलने वाला गंदा पानी जाकर मिल रहा डैम में, जलीय जीवन पर बढ़ रहा खतरा

Dirty water mixing in Dam: कोरिया जिले में खदान से निकलने वाला गंदा पानी नाले में बहकर डैम में जाकर मिल रहा है. इस मामले में अधिकारियों का कहना है कि ऐसा कुछ नहीं है. जबकि स्थानीय लोग इसकी अभी भी पुष्टि कर रहे हैं.

Read Time: 3 mins
Koriya: खदान से निकलने वाला गंदा पानी जाकर मिल रहा डैम में, जलीय जीवन पर बढ़ रहा खतरा
Water Treatment Plant

Koriya News: छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के कोरिया में साफ पानी (Clean Water) भी लगातार दूषित हो रहा है. यहां के कोयला खदान (Coal Mines) से निकलने वाला गंदा पानी नाली में मिलकर लगातार झुमका डैम (Jhumka Dam) में गिर रहा है. गंदे पानी को जलाशय में मिलने से पहले साफ करने के लिए वाटर ट्रीटमेंट प्लांट (Water Treatment Plant) भी बनाई गई, लेकिन इसका भी कोई फायदा नहीं हो रहा है. गंदा पानी साफ जलाशय में मिलने से जल जीवन पर प्रभाव पड़ रहा है. इसको लेकर संबंधित अधिकारी भी सुस्त नजर आ रहे हैं.

करोड़ो हुए खर्च लेकिन, कोई असर नहीं

पर्यावरण विभाग की शर्तों पर चरचा कोइलवरी में करीब 10 करोड़ रुपए की लागत से 8.64 एमएलडी क्षमता का वाटर ट्रीटमेंट प्लांट एसईसीएल ने बनवाया था. इसको मुख्य रूप से खदान के दूषित पानी को साफ कर बांध में मिलने से रोकने के लिए बनवाया गया था. लेकिन, साफ पानी को खदान में मशीन समेत अन्य कामों के लिए उपयोग में लेने के बाद बाहर बहा दिया जाता है. इससे गंदा पानी बरसाती नालों से बहकर झुमका जलाशय में पहुंच रहा है.

पीने लायक भी नहीं है पानी

पर्यावरण शर्तों के अनुसार, एसईसीएल को चरचा अंडर ग्राउंड माइंस से निकलने वाले पानी को फिल्टर करके नाले में छोड़ना था क्योंकि यही पानी नाला में बहकर जिला मुख्यालय सागरपुर स्थित झुमका डेम में मिलता है. लेकिन, शिवपुर-चरचा के खदान से निकलने वाला गंदा पानी अभी भी नाले में बहकर सीधे झुमका डेम में मिल रहा है. इससे न सिर्फ जलीय जीव जीवन पर खतरा मंडरा रहा है, बल्कि पानी दूषित होने के कारण पीने लायक भी नहीं बचता है.

पीएचई ने की है दूषित पानी की पुष्टि

झुमका डैम के पानी की गुणवत्ता खराब होने की पुष्टि कोरिया पीएचई विभाग की लैब में जांच के दौरान हुई. एसईसीएल अफसरों का कहना है कि झुमका में खदान का पानी नहीं पहुंच रहा है. खदान से निकलने वाले गंदे पानी को एसईसीएल सीएचपी समेत खदान में मशीनरी वर्क के लिए उपयोग में लिया जाता है. उन्होंने कहा कि अब डैम का पानी प्रदूषित नहीं हो रहा है.

ये भी पढ़ें :- Satna: बिजली की तार टूटने से खेत में लगी आग, हादसे में पांच एकड़ गेहूं की फसल जलकर खाक 

स्थानियों ने कहा-गंदा पानी अभी भी आ रहा

चरचा वासियों का कहना है कि फूलपुर के रास्ते एसईसीएल के खदानों से निकलने वाला पानी और गंदे नालों का पानी आगे बहकर बांध में मिल रहा है. पानी के गंदा होने से न सिर्फ जलीय जीव जीवन पर खतरा मंडरा रहा था, बल्कि दूषित पानी से किसानों के फसलों को भी नुकसान हो रहा है.

ये भी पढ़ें :- Negligence: खरीदी केंद्रों में 3 लाख क्विंटल धान खुले में पड़ा, मौसम की मार से बर्बाद हो रही फसल

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Depression: पिता ने अपने हाथों से दबा दिया पांच साल के मासूम बेटे का गला, फिर खुद कर ली ...
Koriya: खदान से निकलने वाला गंदा पानी जाकर मिल रहा डैम में, जलीय जीवन पर बढ़ रहा खतरा
PM Oath Ceremony Narendra Modi will take oath as Prime Minister today No flying zone in Delhi know time and place
Next Article
नरेंद्र मोदी आज लेंगे प्रधानमंत्री पद की शपथ: दिल्ली में दो दिन 'नो फ्लाइंग जोन', जानें समय और स्थान
Close
;