विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Sep 05, 2023

कोरिया: जब कलेक्टर बने 'मास्टर जी'... क्लास में बच्चों से पूछे हिंदी और मैथ्स के सवाल

कलेक्टर ने स्कूली बच्चों के लिए तैयार किए गए मिड-डे मील में भोजन किया और उसकी गुणवत्ता भी परखी. कलेक्टर ने प्रिंसिपल को निर्देशित किया कि रोजाना आने वाले खाने-पीने की सामग्री का लेखा-जोखा तैयार किया जाए.

Read Time: 3 mins
कोरिया: जब कलेक्टर बने 'मास्टर जी'... क्लास में बच्चों से पूछे हिंदी और मैथ्स के सवाल

छत्तीसगढ़ के कोरिया जिले के कलेक्टर ने आकस्मिक निरीक्षण के दौरान स्कूली बच्चों के साथ समय बिताया और उनकी क्लास ली. कलेक्टर विनय कुमार प्राइमेरी स्कूल में निरीक्षण के लिए पहुंचे थे. इस दौरान उन्होंने बच्चों से पूछा कि आप में से कौन-कौन 1 से लेकर 50 तक गिनती सुना सकता है? एक बच्चे से जवाब आया, 'सर, मेरा नाम गोपाल है. मैं गिनती सुनाता हूं', और इस तरह गोपाल ने बिना रूके गिनती सुनाईं. 

कलेक्टर ने बच्चों की क्लास ली 

कलेक्टर ने बच्चों से पूछा, 'किसको 2 का पहाड़ा याद है?' तो क्लास के लगभग सभी बच्चों ने हाथ उठाकर हामी भर दी. फिर रवि नामक छात्र ने खड़े होकर 2 का पहाड़ा सुनाया बल्कि उसने 3 का पहाड़ा भी सुनाया. इसी तरह छात्रा कुमारी अर्पिता ने A से लेकर Z तक अल्फाबेट आंख बंद करके सुना दिए. कलेक्टर ने ब्लैक बोर्ड में जोड़ का सवाल लिखा तो कुमारी आरूषि ने चॉक लेकर सही उत्तर लिख दिया. इस पर कलेक्टर ने बच्चों का उत्साहवर्धन करते हुए कहा कि जितना जरूरी भोजन है, उतनी ही जरूरी पढ़ाई-लिखाई है और इसके साथ में खेलकूद भी करना चाहिए. 

8g48cvhg

बच्चों का बताया शिक्षा का महत्त्व 

पहली कक्षा के बाद कलेक्टर ने पांचवीं क्लास की तरफ रुख किया. वहां जाकर पूछा कि आप लोगों को कौन सा विषय अच्छा लगता है? तो ज्यादातर बच्चों ने गणित और हिन्दी विषय में अपनी दिलचस्पी बताई. फिर छात्र रवि से अपने माता का नाम अंग्रेजी में लिखने को कहा. इस पर रवि ने अपनी माता का नाम लिखते समय स्पेलिंग गलत कर दी, तब कलेक्टर ने कॉपी में सही नाम लिखकर बताया. छात्र शुभम को 16 का पहाड़ा सुनाने को कहा तो उसने बेधड़क बिना रूके पहाड़ा सुना दिया और इस तरह बच्चों ने कलेक्टर का दिल जीत लिया. कलेक्टर विनय ने बच्चों से कहा, 'घर जाने के बाद पुस्तक खोलकर जरूर पढ़ें, कॉपी में लिखते चलें और हां, अंग्रेजी को खूब ध्यान से पढ़ें.' 

मिड डे मील की गुणवत्ता भी परखी

इसके बाद कलेक्टर ने स्कूली बच्चों के लिए तैयार किए गए मिड-डे मील में भोजन किया और उसकी गुणवत्ता भी परखी. कलेक्टर ने प्रिंसिपल को निर्देशित किया कि रोजाना आने वाले खाने-पीने की सामग्री का लेखा-जोखा तैयार किया जाए. साथ ही कलेक्टर ने पेयजल, शौचालय के बारे में भी जानकारी ली. उन्होंने बीईओ को निर्देशित किया कि स्कूल में साफ-सफाई तथा गुणवत्तायुक्त भोजन ही तैयार करें. रसोइयों से कहा कि साफ बर्तनों में खाना पकाएं और परोसें. खुद के हाथ साफ रखें और बच्चों को हाथ साफ करके भोजन उपलब्ध कराएं. साथ ही कक्षा में बच्चों की नियमित रूप से हाजिरी दर्ज हो. 

ये भी पढे़ं-आगर मालवा : बेटी से छेड़छाड़ करने पर पिता ने की दो युवकों की हत्या

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
NEET ग्रेजुएट और UGC-NET एग्जाम पेपर लीक से गिरी NTA की साख, सरकार ने कहा, जल्द होगा आमूलचूल बदलाव
कोरिया: जब कलेक्टर बने 'मास्टर जी'... क्लास में बच्चों से पूछे हिंदी और मैथ्स के सवाल
neet-ug-2024-exam-results-priyanka-gandhi-mallikarjun-kharge-on-neet-scam-Opposition demanded an investigation, students-parents raised questions, NTA on grace marks-NCERT test book
Next Article
NEET 2024: प्रियंका गांधी से लेकर मल्लिकार्जुन खरगे तक, NEET Scam पर ऐसे उठे सवाल, NTA ने क्या कहा जानिए
Close
;