विज्ञापन
Story ProgressBack

GPM पुलिस अधीक्षक ने अच्छा कार्य करने वाले पुलिसकर्मियों को किया सम्मानित, ये बने 'कॉप ऑफ द मंथ'

CG News: जीपीएम पुलिस अधीक्षक भावना गुप्ता ने एक अच्छी पहल करते हुए हर महीने जिले के पुलिसकर्मियों को सम्मानित करने की योजना शुरू की है. इसके तहत अपराध को खत्म करने में अच्छा काम करने वाले पुलिसकर्मियों को सम्मानित किया जाएगा.

GPM पुलिस अधीक्षक ने अच्छा कार्य करने वाले पुलिसकर्मियों को किया सम्मानित, ये बने 'कॉप ऑफ द मंथ'
ये चार पुलिसकर्मी बने 'कॉप ऑफ द मंथ'.

Gaurela-Pendra-Marwahi News: छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के गौरेला-पेंड्रा-मरवाही जिले (GPM District) में अपराध खत्म करने के लिए जिला पुलिस अधीक्षक (GPM SP) ने एक अनूठी पहल शुरू की है. जिसमें अच्छा कार्य करने वाले पुलिसकर्मियों को प्रोत्साहित करने और प्रतियोगिता के जरिए बेहतर काम करने के लिए प्रेरित किया जाएगा. इस उद्देश्य को पूरा करने के लिए पुलिस कप्तान भावना गुप्ता ने 'कॉप ऑफ द मंथ' योजना (Cop of the Month) शुरू की है, जिसके तहत हर महीने आपराधिक विवेचना, प्रकरण निराकरण, सीसीटीएनएस, डायल 112 और सामुदायिक सेवा इत्यादि के आधार पर पुलिस विभाग (GPM Police) के कार्यों का मूल्यांकन किया जाता है.

जून महीने के लिए इन्हें किया गया सम्मानित

इस पहल को लेकर जिला पुलिस अधीक्षक भावना गुप्ता ने बताया कि जून महीने में एक संवेदनशील मामले में युवती की हत्या के आरोप में फरार चल रहे आरोपी की धर पकड़ में मुख्य भूमिका निभाने वाले एक उप निरीक्षक और तीन आरक्षकों को कॉप ऑफ द मंथ का खिताब दिया गया है. जबकि संवेदनशील आपराधिक मामलों में आरोपियों की धर पकड़ करने और अच्छा काम करने वालों में शामिल साइबर सेल की टीम, जिसमें सभी 15 पुलिसकर्मियों को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया है.

Latest and Breaking News on NDTV

इस वारदात के आरोपी को पकड़ा

बता दें कि जून महीने में जिले के गौरेला थाना क्षेत्र में स्थित एसबीआई के सामने एक युवती की नृशंस हत्या कर दी गई थी. इस वारदात को अंजाम देने वाले फरार आरोपी दुर्गेश प्रजापति के बारे में जानकारी जुटाकर घेराबंदी कर उसे वारदात के चंद घंटों में चिचगोहना के जंगल के पास पकड़ लिया गया था. इसमें मुख्य भूमिका निभाने वाले थाना मरवाही के चार पुलिसकर्मियों को 'कॉप ऑफ द मंथ' के रूप में सम्मानित किया गया है. सम्मानित पुलिसकर्मियों में उप निरीक्षक गंगाप्रसाद बंजारे, आरक्षक विश्वास आले, आरक्षक नारद जगत और आरक्षक इंद्रपाल आर्मो शामिल हैं.

पूरी साइबर टीम को किया गया सम्मानित

इनके अलावा एसपी भावना गुप्ता ने जिले के 10 और पुलिसकर्मियों को जून महीने में अच्छा काम करने के लिए प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया है. जिसमें साइबर सेल के प्रभारी उप निरीक्षक सुरेश ध्रुव, एएसआई मनोज हनोतिया, प्रधान आरक्षक रवि त्रिपाठी, चौपाल कश्यप, आरक्षक राजेश शर्मा, सुरेंद्र विश्वकर्मा, दुष्यंत मेश्राम, महेंद्र परस्ते, थाना मरवाही के प्रधान आरक्षक रमेश सिंह, आरक्षक अशोक कश्यप, अमितेश पात्रे और पेंड्रा थाने के आरक्षक संतोष परस्ते शामिल हैं.

Cop of the Month GPM Police

साइबर सेल की पूरी टीम को सम्मानित किया गया.

साइबर सेल ने किए ये काम

बता दें कि जिले के साइबर सेल ने बीते महीने दो शातिर बाइक चोरों को पकड़ने में कामयाबी हासिल की थी. इसके साथ ही 10 मोटरसाइकिल बरामद करने और अंतरराज्यीय शराब तस्करी को रोकने में भी साइबर सेल की मुख्य भूमिका रही है. इसके अलावा जिले के विभिन्न थानों में दर्ज गंभीर अपराध में रिकॉर्ड समय में आरोपियों की धर पकड़ करने में भी साइबर सेल ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, जिसके लिए पूरी टीम को सम्मानित किया गया है.

यह भी पढ़ें - CG News: छत्तीसगढ़ में अब नहीं भटकेंगे शहीदों के परिवार, राज्य सरकार ने उठाया ये बड़ा कदम...

यह भी पढ़ें - Chhattisgarh NAN Scam के आरोपी टुटेजा और शुक्ला के मामले में घिरी ED, सुप्रीम कोर्ट ने हलफनामा देकर मांगा जवाब

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
साय कैबिनेट का फैसला ! अब सरकारी नौकरी में छत्तीसगढ़ के युवाओं को मिलेगी 5 साल की छूट
GPM पुलिस अधीक्षक ने अच्छा कार्य करने वाले पुलिसकर्मियों को किया सम्मानित, ये बने 'कॉप ऑफ द मंथ'
Cabinet Meeting New education policy 2020 implemented Education given to these children in local language and dialect
Next Article
छत्तीसगढ़ में नई शिक्षा नीति 2020 लागू: अब बदल जाएगी 5वीं से 12वीं तक की पढ़ाई, स्थानीय भाषा-बोली के साथ क्या है खास?
Close
;