विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Nov 12, 2023

CG Election 2023: कोरिया में 18 साल से जमे हैं ये अधिकारी, चुनाव के समय भी नहीं हुआ तबादला

चुनाव के समय में ऐसे अधिकारी व कर्मचारी जिनका कार्यकाल एक ही स्थान पर कम से कम तीन साल हो गया है, उन्हें चुनाव के पहले हटा दिया जाता है, लेकिन कोरिया और मनेंद्रगढ़-चिरमिरी-भरतपुर (एम.सी.बी.) जिले में सैकड़ों ऐसे कर्मचारी हैं जो सालों से एक ही विभाग में जमे हुए हैं. 

Read Time: 6 mins
CG Election 2023: कोरिया में 18 साल से जमे हैं ये अधिकारी, चुनाव के समय भी नहीं हुआ तबादला
फाइल फोटो

Chhattisgarh News: छत्तीसगढ़ में इस समय चुनावी (Chhattisgarh Election) सरगर्मी तेज है. पहले चरण का चुनाव संपन्न होने के बाद दूसरे चरण की चुनावी तैयारी (Second Phase Election in Chhattisgarh) में प्रशासन लगा हुआ है. आपको बता दें, चुनाव के समय में ऐसे अधिकारी व कर्मचारी जिनका कार्यकाल एक ही स्थान पर कम से कम तीन साल हो गया है, उन्हें चुनाव के पहले हटा दिया जाता है, लेकिन कोरिया और मनेंद्रगढ़-चिरमिरी-भरतपुर (एम.सी.बी.) जिले में सैकड़ों ऐसे कर्मचारी हैं जो सालों से एक ही विभाग में जमे हुए हैं. 

इनमें चार अधिकारी के नाम भी शामिल हैं, जो 18 साल से जिले में जमे हुए हैं और उनका ट्रांसफर जिले से बाहर नहीं किया गया. नगर निगम चिरमिरी की बात करें तो यहां दो इंजीनियर समेत अलग-अलग विभागों के प्रभारी अधिकारी दशकों से जमे हुए हैं. इनमें से कुछ ऐसे हैं जिनकी नियुक्ति यहीं हुई है. यही हाल बैकुंठपुर नगर पालिका के राजस्व विभाग का भी है. 

चुनाव से पहले कर्मचारियों का ट्रांसफर होता है जरूरी

बता दें कि विधानसभा चुनाव में नगर निगम व नगर पालिका के अधिकारी-कर्मचारी सीधे तौर पर चुनाव से जुड़े होते हैं. वहीं फारेस्ट, आरईएस, स्वास्थ्य विभाग समेत अन्य अधिकारी व कर्मचारियों की ड्यूटी भी चुनाव में लगी हुई है. कोरिया वन मंडल और आरईएस विभाग की बात करें तो यहां एसडीओ पद पर तैनात एक अधिकारी करीब 18 साल से जिले में ही हैं. इसी तरह खड़गवां और मनेंद्रगढ़ के ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर भी करीब 17 से 18 साल से जिले में ही सेवा दे रहे हैं. जबकि चुनाव की अधिसूचना जारी होने से पहले ही जिले के विभिन्न विभागों में लंबे समय से पदस्थ अधिकारी कर्मचारियों का ट्रांसफर किया गया है, लेकिन इन अधिकारियों के खिलाफ कई बार शिकायतें होने के बावजूद ये अंगद के पांव की तरह जमे हुए हैं. इन पर विभाग तो क्या चुनाव आयोग के निर्देश और आचार संहिता का भी असर नहीं हुआ है. जबकि चुनाव के दौरान ऐसा माना जाता है कि लंबे समय से पदस्थ रहने वाले अधिकारी चुनाव को प्रभावित करने का प्रयास कर सकते हैं.

18 साल से जिले में तैनात हैं एसडीओ अखिलेश मिश्रा

कोरिया जिले में एसडीओ और गुरु घासीदास नेशनल पार्क में असिस्टेंट डायरेक्टर की जिम्मेदारी संभालने जा रहे अखिलेश मिश्रा का तबादला कोरिया से बाहर नहीं हुआ. वे करीब 18 साल से इस जिले में ही हैं. साल 2005 में मिश्रा की पोस्टिंग कटगोड़ी में वनपाल के रूप में हुई थी. इसके बाद डिप्टी रेंजर, रेंजर और अब एसडीओ और आगे कोरिया जिले में ही असिस्टेंट डायरेक्टर की जिम्मेदारी दी गई है.

2004 से खड़गवां में जमे हैं बीएमओ एस कुजूर 

जिला अस्पताल बैकुंठपुर में तैनात डॉ एस कुजूर की पोस्टिंग 2004 में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र खड़गवां में बीएमओ के पद पर हुई थी. वे 19 साल से बीएमओ खड़गवां में ही जमे हैं. कुछ समय के लिए इन्हें जिला अस्पताल बैकुंठपुर में पदस्थ किया गया था. इसके बाद उन्होंने अपना ट्रांसफर वापस खड़गवां करवा लिया. बीएमओ राजनीतिक पकड़ भी रखते हैं जिस कारण स्वास्थ्य विभाग में कई गड़बड़ी की जांच प्रभावित हुई है.

20 साल से जनकपुर में हैं बीएमओ सिंह 

भरतपुर ब्लॉक के जनकपुर में पदस्थ बीएमओ डॉ रमन सिंह 20 साल से जमे हुए हैं. अन्य डॉक्टर और स्टाफ बदल गए लेकिन बीएमओ का ट्रांसफर नहीं हुआ. दो दशक से ब्लॉक में सेवा दे रहे डॉक्टर राजनीतिक पहुंच भी रखते हैं. स्वास्थ्य विभाग से इनका ट्रांसफर लंबे समय से नहीं हुआ है. कारण बताया जाता है कि दुर्गम और ग्रामीण अंचल क्षेत्र होने के कारण दूसरे डॉक्टर यहां पोस्टिंग नहीं लेना चाहते हैं.

लंबे समय से जिले में हैं आरईएस एसडीओ 

खड़गवां आरईएस विभाग में पदस्थ एसडीओ केके चौधरी लंबे समय से कोरिया जिले में हैं. एसडीओ चौधरी पहले बैकुंठपुर में इंजीनियर थे. इसके बाद एसडीओ के रूप में खड़गवां में पदस्थ हुए हैं. विभाग के कर्मचारी बताते हैं कि वे पिछले करीब 17 से 18 साल से जिले में ही हैं, जिले से बाहर उनका ट्रांसफर नहीं हुआ है. 

नगर निगम में दो इंजीनियर, विभागीय प्रभारी दशकों से यहीं

नगर निगम चिरमिरी में दो इंजीनियर समेत स्वच्छता, राजस्व और विभिन्न विभागों के प्रभारी दशकों से यहीं जमे हुए हैं, जिनका ट्रांसफर नहीं होता है. सालों से ये अधिकारी चिरमिरी में ही जमे हुए हैं. इनमें से कुछ की नियुक्ति यहीं हुई थी और अब ऐसा माना जा रहा है कि इनका रिटायरमेंट भी यहीं से होगा. इंजीनियर साहू समेत कुछ प्रभारियों का ट्रांसफर किया गया था लेकिन कुछ महीनों में वे चिरमिरी वापस लौट आए. इसी तरह नगर पालिका बैकुंठपुर के राजस्व विभाग की टीम सालों से यहीं जमी हुई है. आरआई कौशल यादव भी लंबे समय से नगर पालिका बैकुंठपुर में ही पदस्थ हैं. यही हाल जिले के अन्य तहसील कार्यालयों का भी है.

ये भी पढ़ें - दूसरे चरण के मतदान से पहले सीतापुर विधानसभा में 272 युवाओं ने थामा कांग्रेस का दामन

ये भी पढ़ें - बृजमोहन अग्रवाल ने सीएम को दी चुनौती, बोले- 'मेरे खिलाफ चुनाव लड़ें और जीतकर दिखाएं बघेल'

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
ट्रंप पर चली गोलियां, बाल-बाल बची जान, बाइडेन बोले -हिंसा के लिए... 
CG Election 2023: कोरिया में 18 साल से जमे हैं ये अधिकारी, चुनाव के समय भी नहीं हुआ तबादला
Doctors in Balrampur do fake surgery of woman for piles without any authenticity
Next Article
Chhattisgarh News: यहां है झोलाछाप डॉक्टरों का बोलबाला! इलाज के नाम पर लोगों की जिंदगी से हो रहा खिलवाड़
Close
;