विज्ञापन
Story ProgressBack

CG News: छत्तीसगढ़ में नहर की जमीन पर कब्जा, लोगों ने बसा दी कॉलोनी, बूंद-बूंद को मोहताज हुए किसान

Illegal Occupation: महलापारा में नहर की जमीन पर अवैध कब्जा कर बनाई गई अग्रवाल सिटी के खिलाफ जल संसाधन विभाग ने पुलिस थाना (Police Station) में बिल्डर (Builder) संजय अग्रवाल और बिल्डर की पत्नी सीमा अग्रवाल के खिलाफ केस दर्ज कराया था. मामला न्यायालय (Court) में चल रहा है, लेकिन नहर कब्जा मुक्त नहीं हो सकी.

Read Time: 4 mins
CG News: छत्तीसगढ़ में नहर की जमीन पर कब्जा, लोगों ने बसा दी कॉलोनी, बूंद-बूंद को मोहताज हुए किसान

Farmers News: छत्तीसगढ़ में कोरिया जिला मुख्यालय (Korea District) बैकुंठपुर में नहर की जमीन को फर्जी तरीके से हड़प कर इस पर कॉलोनी बसा ली गई है. इस मामले की शिकायत जल संसाधन विभाग (Department of Water Resources) ने सिटी कोतवाली में दर्ज कराई है. इसके बावजूद भी अब तक नहर की जमीन से अतिक्रमण (Encroachment on Canal Land) हटाने के लिए कोई कार्रवाई नहीं की गई है. बैकुंठपुर क्षेत्र में कई जगह नहर पर अवैध कब्जा है. वर्षों के बाद भी विभाग ने नहर से कब्जा हटाने की कार्रवाई शुरू नहीं की है.

CG News: नहर पर अवैध कब्जा कर बनाई गई आंगनवाड़ी

CG News: नहर पर अवैध कब्जा कर बनाई गई आंगनवाड़ी

इनके खिलाफ हुई है शिकायत

महलापारा में नहर की जमीन पर अवैध कब्जा कर बनाई गई अग्रवाल सिटी के खिलाफ जल संसाधन विभाग ने पुलिस थाना (Police Station) में बिल्डर (Builder) संजय अग्रवाल और बिल्डर की पत्नी सीमा अग्रवाल के खिलाफ केस दर्ज कराया था. मामला न्यायालय (Court) में चल रहा है, लेकिन नहर कब्जा मुक्त नहीं हो सकी.

इसी तरह हर्रापारा, धौराटिकरा में कई जगह लोगों ने नहर की जमीन पर मकान बना लिया है. महलपारा में भी जगह-जगह कब्जा है, जिसकी शिकायत के बावजूद कब्जा अब तक नहीं हट सका है.

91 किमी में नहर का बिछाया था जाल

जिला मुख्यालय में दो मध्यम सिंचाई परियोजना (Medium Irrigation Project) से 91 किमी में नहर का जाल बिछाया गया था, लेकिन 5 फीसदी नहर पर कब्जा है, जिससे नहरें विलुप्त होने लग गई हैं. शहरी क्षेत्र में गेज व झुमका डैम (Jhumka Dam) से निकली नहर पर सबसे अधिक अतिक्रमण किए गए हैं. हर्रापारा में गेज के नहर पर आंगनबाड़ी भवन बना दिया गया है. वहीं इसके आसपास करीब एक आधे किमी दायरे में नहर गायब है. नहर पाटे जाने से खेतों तक खरीफ और रबी फसल के लिए पानी नहीं पहुंच रहा है. इस वजह से किसानों की फसल बर्बाद हो रही है. वहीं उनके खेत भी सूख रहे हैं.

कब्जे से 40 किमी नहर जाम

नहर पर कब्जे से किसानों को सिंचाई लाभ नहीं मिल पा रहा है. जिला मुख्यालय के ग्राम कसरा, कंचनपुर, जामपारा, मोदीपारा, चेर, सलका, सलवा, महलपारा, जामपारा, मझगवां समेत आसपास के दर्जनभर गांव में सिंचाई लाभ नहीं मिल पा रहा है. यदि नहरों से पानी मिले तो 600 हेक्टेयर में 22 हजार क्विंटल से अधिक गेहूं का उत्पादन हो सकता है. प्राप्त जानकारी के अनुसार लगभग 40 किलोमीटर नहर जाम हो गई है.

नहर की जमीन पर होता रहा कब्जा, देखते रहे अफसर

ग्राम भांड़ी में सिलफोड़ा की माइनर नहर भी पर कब्जा कर मकान बना लिया गया है. वहीं कुछ सामाजिक कार्यकर्ताओं ने मिट्टी पाटकर चौक का निर्माण भी करवाया था. इससे नहर का नामोनिशान मिट गया है. सिंचाई विभाग (Irrigation Department) अब तक नहर को कब्जा मुक्त नहीं करवा सका है. जिला मुख्यालय में झुमका, गेज समेत अन्य जलाशयों की अधिकांश नहरें अतिक्रमण के चपेट में हैं या विभागीय लापरवाही की भेंट चढ़ गई हैं.

कब्जा हटाने के लिए कर रहे प्रयास : EE

जल संसाधन विभाग के ईई ए टोप्पो ने कहा कि नहर की जमीन पर कब्जा होने का मामला सामने आया है. इस संबंध में जानकारी जुटाई जा रही है, वहीं लोगों के द्वारा नहर की जमीन पर कब्जा किए जाने को लेकर प्रकरण बनाया जा रहा है, जल्द ही इस संबंध में कार्यवाही की जाएगी.

यह भी पढ़ें : 

** Interview with CM Mohan Yadav: 'कभी-कभी गलतियां हो जाती हैं, हम अतीत की गलतियों से सबक लेकर भविष्य में चलते हैं', NDTV की इस मुहिम का किया समर्थन

** Chaitra Navratri 2024: पीएम मोदी ने सुनाई मां शैलपुत्री की यह स्तुति, नव संवत्सर पर इन नेताओं ने दी ऐसी बधाई

** Ram Mandir Ayodhya: चैत्र नवरात्रि के पहले दिन रामलला को पहनाए गए विशेष वस्त्र, क्या है खास? देखिए वीडियो

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
UGC-NET Exam 2024: यूजीसी नेट 2024 की परीक्षा रद्द,18 जून को हुई थी परीक्षा, जाने क्या है पूरा मामला?
CG News: छत्तीसगढ़ में नहर की जमीन पर कब्जा, लोगों ने बसा दी कॉलोनी, बूंद-बूंद को मोहताज हुए किसान
Now board exams will be held twice a year in Chhattisgarh, government has issued notification
Next Article
Trending News: छत्तीसगढ़ में अब साल में दो बार बोर्ड परीक्षा दे सकेंगे 10वीं और 12वीं के छात्र, सरकार ने जारी की अधिसूचना
Close
;